भारत के अपने भारत बायोटेक के कोवैक्सिन को प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग अधिकार की मंजूरी

सीडीएससीओ ने भारत बायोटेक की वैक्सीन की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह पुख्ता सुरक्षा की दृष्टि से समय की कसौटी पर खरी उतरी है!

0
874
सीडीएससीओ ने भारत बायोटेक की वैक्सीन की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह पुख्ता सुरक्षा की दृष्टि से समय की कसौटी पर खरी उतरी है!
सीडीएससीओ ने भारत बायोटेक की वैक्सीन की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह पुख्ता सुरक्षा की दृष्टि से समय की कसौटी पर खरी उतरी है!

कोवाक्सिन नैदानिक ​​परीक्षण (क्लिनिकल ट्रायल) मोड से बाहर आ गया है!

भारत सरकार ने गुरुवार को कहा कि भारत बायोटेक के स्वदेशी तौर पर विकसित कोवैक्सिन को “क्लिनिकल ट्रायल मोड” से बाहर कर दिया गया है और अब इसे प्रतिबंधित आपातकालीन-उपयोग अधिकार प्रदान किया गया है। एक साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वीके पॉल ने कहा कि कोवैक्सिन को सार्वजनिक हित में आपातकालीन स्थिति में प्रतिबंधित उपयोग की अनुमति दी गई है और दोनों वैक्सीन यानी सीरम संस्थान (इंस्टीट्युट) द्वारा निर्मित कोविशील्ड एवं भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के टीके समान रूप से प्रमाणित हैं। “अब कोवैक्सिन के क्लीनिकल ट्रायल (नैदानिक परीक्षण) मोड के तहत जाँच की और आवश्यकता नहीं है,” पॉल ने कहा।

उन्होंने कहा – “कोविड-19 के दोनों टीके कोवैक्सिन और कोविशील्ड के पास एक समान लाइसेंस प्राप्त स्थिति है। कोवैक्सिन पुख्ता सुरक्षा के संदर्भ में समय की कसौटी पर खरी उतरी है। केवल 311 व्यक्तियों पर न्यूनतम (न के बराबर) दुष्प्रभाव थे। यह भारत के अनुसंधान और विकास उद्यम और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी उद्यम हेतु बड़ी जीत है।” 3 जनवरी को भारत के ड्रग रेगुलेटर (नियामक) ने सार्वजनिक हित में आपातकालीन स्थितियों में कोवैक्सिन के सीमित उपयोग के लिए एक व्यापक एहतियात के रूप में, नैदानिक परीक्षण मोड में, विशेष रूप से उत्परिवर्ती उपभेदों द्वारा संक्रमण के मामले में अनुमति दे दी थी।

भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड एक भारतीय जैव प्रौद्योगिकी कंपनी है, जिसका मुख्यालय हैदराबाद में है, जो दवा की खोज, दवा विकास, टीकों के निर्माण, जैव-चिकित्सा, फार्मास्यूटिकल्स और स्वास्थ्य संबंधी उत्पादों के क्षेत्र में कार्यरत है।

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) के कोविड-19 संबंधी विशेषज्ञ समिति ने भारत बायोटेक के स्वदेशी रूप से विकसित कोवैक्सिन को आपातकालीन उपयोग के लिए अधिकृत करने की सिफारिश की थी, जबकि वैक्सीन को “क्लिनिकल ट्रायल मोड” में रखने की शर्त को हटा दिया था। एक सवाल कि, क्या सरकार के पास तीसरे चरण के टीकाकरण अभियान के लिए एक समयरेखा है और इसमें कौन शामिल है, का जवाब देते हुए पॉल ने कहा, “हम अब 60 वर्ष से अधिक आयु के साथ-साथ 45-60 वर्ष की आयु के बीमार लोगों के अपेक्षाकृत अधिक बड़े समूह पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। हम इस महत्वपूर्ण बड़े समूह को कवर करने के लिए एक लय तैयार कर रहे हैं।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

“हम प्रगति देखेंगे और आगे बढ़ेंगे, हाँ, जो पात्र हैं उनकी संख्या में और वृद्धि होगी,” पॉल ने कहा।

भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड एक भारतीय जैव प्रौद्योगिकी कंपनी है, जिसका मुख्यालय हैदराबाद में है, जो दवा की खोज, दवा विकास, टीकों के निर्माण, जैव-चिकित्सा, फार्मास्यूटिकल्स और स्वास्थ्य संबंधी उत्पादों के क्षेत्र में कार्यरत है। डॉ कृष्णा इला भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं, जिसकी उन्होंने 1996 में नीव रखी थी। विश्वविद्यालय में एक स्वर्ण पदक विजेता, डॉ इला ने विस्कॉन्सिन-मैडिसन विश्वविद्यालय से पीएचडी करने के बाद, दक्षिण कैरोलिना (चार्ल्सटन) के मेडिकल विश्वविद्यालय में एक शोध संकाय (रिसर्च फैकल्टी) के रूप में काम किया।

[पीटीआई इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.