28 जून से शुरू होने वाली वार्षिक अमरनाथ यात्रा के लिए 1 अप्रैल से होगा पंजीकरण

सामान्य स्थिति के बढ़ते संकेत, 28 जून को वार्षिक अमरनाथ यात्रा शुरू होगी!

0
451
सामान्य स्थिति के बढ़ते संकेत, 28 जून को वार्षिक अमरनाथ यात्रा शुरू होगी!
सामान्य स्थिति के बढ़ते संकेत, 28 जून को वार्षिक अमरनाथ यात्रा शुरू होगी!

वार्षिक अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू होगी!

दक्षिण कश्मीर में 3,880 मीटर ऊंची गुफा वाले मंदिर की वार्षिक अमरनाथ यात्रा 28 जून को शुरू होगी और परंपरा के अनुसार, 22 अगस्त को रक्षाबंधन उत्सव के दिन समाप्त होगी। राजभवन में उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की अध्यक्षता में श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) की 40 वीं बोर्ड बैठक में यह निर्णय लिया गया, अधिकारियों ने कहा।

यात्रा के लिए पंजीकरण प्रक्रिया पंजाब नेशनल बैंक, जम्मू और कश्मीर बैंक और यस बैंक की 37 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में स्थित 446 नामित शाखाओं के माध्यम से 1 अप्रैल से शुरू होगी। कोरोनोवायरस महामारी के कारण यात्रा पिछले साल साधुओं के एक समूह तक सीमित रही थी, जबकि उससे एक साल पहले केंद्र द्वारा अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द करने और राज्य के दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित हो जाने के तीन दिन पहले 2 अगस्त को “आतंकी खतरे” के कारण यात्रा को बीच में ही बंद कर दिया गया था।

तीर्थयात्री यात्रा की लाइव जानकारी प्राप्त करने और कई ऑनलाइन सेवाओं का लाभ उठाने के लिए गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध “श्री अमरनाथजी यात्रा” ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

2019 में, 3.42 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने हिंदू गुफा मंदिर (प्राकृतिक रूप से निर्मित बर्फ-शिवलिंग का स्थान) की यात्रा की थी, जबकि 2015 में तीर्थस्थल पर सबसे अधिक 3.52 लाख तीर्थयात्रियों ने शिवलिंग के दर्शन किए थे। 2016 में 3.20 लाख, 2017 में 2.60 लाख और 2018 में 2.85 लाख तीर्थयात्री दर्शन हेतु पवित्र गुफा पहुँचे थे, अधिकारियों ने बताया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

बोर्ड दुनिया भर के भक्तों के लिए सुबह और शाम की आरती का लाइव टेलीकास्ट भी करेगा। तीर्थयात्री यात्रा की लाइव जानकारी प्राप्त करने और कई ऑनलाइन सेवाओं का लाभ उठाने के लिए गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध “श्री अमरनाथजी यात्रा” ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं। उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस साल की यात्रा के लिए तिथि-वार और मार्ग-वार पंजीकरण करने की अनुमति देने हेतु यात्रियों की संख्या पर भी विचार-विमर्श किया गया। यात्रा क्षेत्र में मौजूदा रास्तों और अन्य उपलब्ध बुनियादी ढांचे की वहन क्षमता को ध्यान में रखते हुए, बोर्ड ने दैनिक मार्ग-वार यात्री संख्या को 7500/ दिन/ मार्ग से बढ़ाकर, 10,000/ दिन/ मार्ग करने का निर्णय लिया है, जिसमें वे यात्री शामिल नहीं हैं, जो हेलीकाप्टरों से यात्रा करेंगे।

सिन्हा ने अखाड़ा परिषदों, आचार्य परिषदों को विशेष निमंत्रण जारी करने और संत समुदाय की सुविधा के लिए देश भर के प्रमुख धार्मिक स्थलों पर काउंटर स्थापित करने की संभावना तलाशने का भी निर्देश दिया।

अमरनाथ यात्रा का विवरण और प्रक्रियाएं यहां पढ़ सकते हैं[1]

संदर्भ:

[1] Shri Amarnath Yatra 2021 – Jammu.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.