कॉर्बेवैक्स को भारत सरकार ने कोवैक्सिन, कोविशील्ड के टीके लगवा चुके वयस्कों के लिए एहतियाती खुराक के रूप में मंजूरी दी

यह पहली बार है कि देश में एक बूस्टर खुराक की अनुमति दी गई है जो कि कोविड के खिलाफ प्राथमिक टीकाकरण के लिए इस्तेमाल की जाने वाली खुराक से अलग है।

0
69
कॉर्बेवैक्स को भारत सरकार ने कोवैक्सिन, कोविशील्ड के टीके लगवा चुके वयस्कों के लिए एहतियाती खुराक के रूप में मंजूरी दी
कॉर्बेवैक्स को भारत सरकार ने कोवैक्सिन, कोविशील्ड के टीके लगवा चुके वयस्कों के लिए एहतियाती खुराक के रूप में मंजूरी दी

कॉर्बेवैक्स को 12 अगस्त से वयस्कों के लिए कोविड बूस्टर के रूप में मंजूरी

भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को बायलोजिकल ई के कॉर्बेवैक्स को कोविशील्ड या कोवैक्सिन के टीके लगवा चुके 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए एहतियात के तौर पर मंजूरी दे दी। यह पहली बार है कि देश में एक बूस्टर खुराक की अनुमति दी गई है जो कि कोविड के खिलाफ प्राथमिक टीकाकरण के लिए इस्तेमाल की जाने वाली खुराक से अलग है।

को-विन पोर्टल पर पात्र और देय एहतियाती खुराक के लिए कॉर्बेवैक्स का उपयोग करते हुए समान एहतियाती खुराक की व्यवस्था हेतु सभी आवश्यक परिवर्तन किए गए हैं। यह प्रावधान 12 अगस्त से लाइव होगा, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में कहा। उन्होंने कहा कि कॉर्बेवैक्स 18 साल से अधिक की आबादी के लिए कोवैक्सिन या कोविशील्ड टीकों की दूसरी खुराक लगने की तारीख से 6 महीने या 26 सप्ताह पूरे होने के बाद एहतियात के तौर पर उपलब्ध होगा।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़ें!

भूषण ने कहा, “यह इस आयु वर्ग में एहतियाती खुराक लगने के लिए एक विषम कोविड -19 वैक्सीन के रूप में कॉर्बेवैक्स के उपयोग को सक्षम बनाता है।” उन्होंने कहा कि कोवैक्सिन और कोविशील्ड के घरेलू एहतियाती खुराक के लिए मौजूदा दिशानिर्देशों में कोई बदलाव नहीं होगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने भी किया ट्वीट:

मौजूदा समान एहतियात खुराक के अलावा, कॉर्बेवैक्स के साथ एक समान एहतियाती खुराक का विकल्प 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्तियों के लिए उपलब्ध होगा। निर्णय वैज्ञानिक साक्ष्य, वैश्विक प्रथाओं और डोमेन ज्ञान विशेषज्ञों की सिफारिशों के आधार पर लिया गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने राज्यों को कॉर्बेवैक्स के बारे में अपने पत्र में कहा – “इस संबंध में निर्देश सभी संबंधित अधिकारियों को जारी किया जा सकता है और इसे व्यापक रूप से प्रचारित भी किया जा सकता है। मैं चल रहे ‘कोविड टीकाकरण अमृत महोत्सव अभियान‘ के दौरान कोविड टीकाकरण केंद्रों में सभी लाभार्थियों के लिए एहतियाती खुराक के उच्च कवरेज को प्राप्त करने में आपके समर्थन और नेतृत्व की आशा करता हूं।”

भारत के कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम ने अब तक 2 बिलियन से अधिक खुराक लगाने का ऐतिहासिक मील का पत्थर हासिल किया है। देश की 12 वर्ष से अधिक आयु की आबादी में से लगभग 97 प्रतिशत को कम से कम एक खुराक और लगभग 89 प्रतिशत को दोनों खुराक दी जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि “कोविड टीकाकरण अमृत महोत्सव” (15 जुलाई से 30 सितंबर तक) के तहत 18 वर्ष से अधिक आयु के पात्र लाभार्थियों को एहतियाती खुराक देने के लिए भी काफी प्रगति की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.