भारतीय वैज्ञानिक ने बनाया ऐसा माइक्रोस्कोप जो ब्रेस्ट कैंसर की पहचान आसान करेगा!

यह डिवाइस सिर्फ एक मिलीमीटर का है और इस तरह डिजाइन किया गया है कि ऑपरेशन के दौरान शरीर के अंदर डाला जा सकता है।

0
83
भारतीय वैज्ञानिक ने बनाया ऐसा माइक्रोस्कोप जो ब्रेस्ट कैंसर की पहचान आसान करेगा!
भारतीय वैज्ञानिक ने बनाया ऐसा माइक्रोस्कोप जो ब्रेस्ट कैंसर की पहचान आसान करेगा!

भारतीय डॉक्टर ने विकसित की कैंसर की पहचान करने वाली डिवाइस

अब कैंसर, खासकर ब्रेस्ट कैंसर से होने वाली मौतों में कमी आएगी। ऑपरेशन के दौरान कैंसर सेल्स (कोशिकाओं) की आसानी से पहचान की जा सकेगी। दरअसल, लंदन के इम्पीरियल कॉलेज के वैज्ञानिकों ने एंडो माइक्रोस्कोप विकसित किया है। इस डिवाइस को विकसित करने वाली भारतीय डॉक्टर खुशी व्यास हैं। यह सिर्फ एक मिलीमीटर का है और इस तरह डिजाइन किया गया है कि ऑपरेशन के दौरान शरीर के अंदर डाला जा सकता है।

यह डिवाइस शरीर के अंदर से कैंसर टिश्यू की तस्वीरें भेजता है, जिसे देखकर कैंसर के टिश्यू हटाना ज्यादा आसान हो जाएगा। यह एक मिलीमीटर के सौवें हिस्से जितने छोटे कैंसर सेल को भी पहचान सकता है। इसे विकसित करने वाली टीम का कहना है कि इससे कैंसर के फॉलोअप ऑपरेशन से बहुत हद तक मुक्ति मिल जाएगी। अब तक ज्यादातर मामलों में कैंसर सेल निकालने के लिए कई बार ऑपरेशन करना पड़ता था, क्योंकि एक बार में सारे कैंसर सेल्स डिटेक्ट ही नहीं हो पाते थे।

इस डिवाइस का इस्तेमाल ब्रेस्ट कंजर्विंग सर्जरी में भी किया जा सकेगा। यह सर्जरी कैंसर के सेल निकालने के बाद ब्रेस्ट की रीस्ट्रकचरिंग के लिए की जाती है। अभी ब्रेस्ट कैंसर पीड़ित 20% महिलाओं को इस सर्जरी की जरूरत पड़ती है। यह डिवाइस ट्यूमर्स के पास के टिश्यू की सही स्थिति बहुत जल्दी और सटीकता से डिटेक्ट कर सकता है।

एंडो माइक्रोस्कोप एक सेकंड में 120 तस्वीरें खींचता है, जिन्हें देखकर डॉक्टर पता लगा लेते हैं कि यह सेल कैंसर ग्रसित है या नहीं। डॉक्टर खुशी व्यास कहती हैं, अब हम इसे क्लिनिकल ट्रायल में भेज रहे हैं। हमारी कोशिश है कि अगले 5 साल में यह ब्रेस्ट कैंसर के ऑपरेशन में हर किसी के लिए उपलब्ध हो सके।

इस डिवाइस का विकास यूके रिसर्च एंड इनोवेशन की संस्था इंजीनियरिंग एंड फिजिकल साइंसेज रिसर्च काउंसिल के सहयोग से किया गया है। वर्ल्ड कैंसर रिसर्च फंड इंटरनेशनल के अनुसार, दुनियाभर में कैंसर के सबसे ज्यादा मामले ब्रेस्ट और लंग कैंसर के हैं। कैंसर के कुल मामलों में 12.5% अकेले ब्रेस्ट कैंसर के हैं। महिलाओं में होने वाले कैंसर में हर चौथी मरीज ब्रेस्ट कैंसर की है।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.