अपने संस्मरणों में, वायली (Wylie) ने बिचौलिया कम्पनी कैंब्रिज एनालिटिका की गंदी/संदेहास्पद गतिविधियों को उजागर किया है

इस विस्फोटक पर्दाफाश में, कैम्ब्रिज एनालिटिका के क्रिस्टोफर वायली ने लोकतंत्र की कमजोरियों और लोग कितनी आसानी से अपने डेटा दूसरों को दे रहे थे, इसका खुलासा किया।

0
493
अपने संस्मरणों में, वायली ने बिचौलिया कम्पनी कैंब्रिज एनालिटिका की गंदी/संदेहास्पद गतिविधियों को उजागर किया है
अपने संस्मरणों में, वायली ने बिचौलिया कम्पनी कैंब्रिज एनालिटिका की गंदी/संदेहास्पद गतिविधियों को उजागर किया है

कांग्रेस पार्टी की यूनाइटेड किंगडम (यूके) आधारित रणनीति सलाहकार कंपनी, कुख्यात कैंब्रिज एनालिटिका के पिटारे से कई खुलासे बाहर आ रहे हैं। मुखबिर क्रिस्टोफर वायली कैम्ब्रिज एनालिटिका की अंदर की कहानी, विशेष रूप से डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव के पीछे डेटा खनन और मनोवैज्ञानिक हेरफेर और ब्रेक्सिट जनमत संग्रह, फेसबुक के साथ सांठगांठ और लोकतंत्रों के कमजोरियों को अपने संस्मरण में  उजागर किया।

वायली द्वारा लिखी गई पुस्तक यह बताती है कि इस तरह की कंपनियां लोगों की मानसिकता को बदलने के लिए कैसे बदनामी और फर्जी बयानबाजी करने में संलग्न हैं। “माइंडफ़*क: इनसाइड कैम्ब्रिज एनालिटिकास प्लॉट टू ब्रेक द वर्ल्ड,” रैंडम हाउस द्वारा प्रकाशित, पर्दे के पीछे काम करने वाले दिमागों, जिन्होंने डेटा को मनोवैज्ञानिक युद्ध उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया और चुनावों में धांधली करने वाले कमरों के बारे में बताता है।

वायली लिखते हैं “लेकिन स्टीव बैनन ने उस धारणा को तुरंत दूर कर दिया। इसे सितंबर तक तैयार करो, उन्होंने कहा,”।

एक डेटा वैज्ञानिक के रूप में कैम्ब्रिज एनालिटिका के लिए काम करने वाले वायली ने बाद में इतिहास में सबसे बड़े डेटा अपराध की जांच के लिए जिम्मेदार मुखबिर बनने का फैसला किया। उनकी कहानी बहुत ही नई और शक्तिशाली क्षमताओं से पैदा होनेवाले समस्या के बारे में खुलासा और सख्त चेतावनी दोनों ही है। किताब बताती है कि किस तरह से गंदी चालों का उपयोग किया गया और विरोधियों को निशाना बनाने के लिए सोशल मीडिया (एसएम) और मुख्यधारा मीडिया (एमएसएम) के जरिए फर्जी कुप्रचार किया गया। इसने ध्यान आकर्षित करनेवाले अर्थव्यवस्था को चलाने वाली विशाल कंपनियों में न केवल गहन कमजोरियों और गहन लापरवाही को उजागर किया है, बल्कि इसने लोकतंत्र की गहन कमजोरियों को भी सामने लाया है।

“यह ऐतिहासिक क्षण था। मुझे गर्व था कि हमने कुछ इतना शक्तिशाली बनाया। मुझे यकीन था कि यह कुछ ऐसा था जिसके बारे में लोग दशकों तक बात करेंगे,” ये वायली की मनोदशा थी जब कैम्ब्रिज एनालिटिका द्वारा फेसबुक के लाखों उपयोगकर्ताओं के पूर्ण फेसबुक अकाउंट (ज्यादातर अमेरिका से) एकत्र किए गए। जब अरबपति रॉबर्ट मर्सर ने 2014 में अमेरिका के मध्यावधि चुनावों से पहले संभावित मतदाताओं को लक्षित करने और उनके वोटों को प्रभावित करने के लिए फेसबुक परस्पर क्रिया से निर्मित व्यक्तित्व प्रोफाइल का उपयोग करने के लिए एक परियोजना का अधिग्रहण किया, तो सभी को लगा कि परियोजना को पूरी तरह से कार्यान्वित करने के लिए उनके पास कुछ साल थे।

वायली लिखते हैं “लेकिन स्टीव बैनन ने उस धारणा को तुरंत दूर कर दिया। इसे सितंबर तक तैयार करो, उन्होंने कहा,”। उसके बाद वह लंदन में एक बोर्डरूम बैठक के विवरण का हवाला देते हैं जब ट्रम्प के सहयोगी बैनन और कैम्ब्रिज एनालिटिका के सीईओ अलेक्जेंडर निक्स को लोगों से डेटा एकत्र करने का लाइव प्रदर्शन मिला था। “यह सोचकर अचंभा हुआ कि ये लोग आयोवा या ओक्लाहोमा या इंडियाना में अपनी रसोई में बैठे थे, लंदन में बैठे लोगों के एक गुट से बात कर रहे थे, जो वे जहां रहते हैं, परिवार की तस्वीरें, उनकी सभी व्यक्तिगत जानकारी के उपग्रह चित्र देख रहे थे,” वायली लिखते हैं।

“मुड़कर देखते हुए, यह सोचकर अजीब लगता है कि बैनन – जो तब अज्ञात थे, डोनाल्ड ट्रम्प के सलाहकार के रूप में नाम हासिल करने से एक साल से अधिक दूर थे- हमारे कार्यालय में बैठकर अमेरिकियों से व्यक्तिगत सवाल पूछ रहे थे। और लोग उसे जवाब देते हुए बहुत खुश भी थे,” वे कहते हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

“हमने कर दिखाया। हमने सिलिको में लाखों अमेरिकियों को फिर से संगठित किया था, संभवतः सैकड़ों लाखों और लोगों को आने वाले समय में करनेवाले थे,” वायली ने कहा। कैम्ब्रिज एनालिटिका को अमेरिका पर बैनन के वैचारिक हमले को शुरू करने के लिए बनाया गया था। लेकिन जब इसने त्रिनिदाद से लेकर नाइजीरिया तक के चुनावों में अपनी गहरी कलाओं का प्रदर्शन किया, तो वायली को समझ में आ गया कि वह और उनके साथी क्या कर रहे थे। उन्होंने निवेशकों की परेशान करने वाली विचारें सुनी थी। उसने देखा कि निक्स ने बंद दरवाजों के पीछे क्या किया। जब ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ छोड़ने के पक्ष में मतदान करके दुनिया को चौंका दिया, तब वायली को एहसास हुआ कि उनके पुराने सहयोगियों का पर्दाफाश करने का समय आ गया था।

लेकिन लेखक के विरोधियों ने उन पर अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों और ब्रिटेन की राजनीति में हालिया अराजकता के लिए एक और कहानी बनाने का आरोप लगाया। हालाँकि, पुस्तक यह बात जानने के लिए कि हर देश की राजनीति और चुनावों में व्यावसायिक हित और भूराजनीतिक हित कैसे अप्रचलित होते हैं और चुनावों में मतदाताओं की मानसिकता को नियंत्रित करने की कोशिश करते हैं एक अच्छी पुस्तक है। यह पुस्तक राजनीतिक दलों और अपने विरोधियों के खिलाफ दबाव समूहों से पैसे लेकर कई देशों में चुनावों में पैरवी, गुप्त जनसंपर्क अभ्यास और प्रचार प्रसार के गंदे तरीकों को उजागर करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.