एमसीएक्स की घटनाएं – II सेबी के लिए, अज्ञानता आनंद है?

क्या सेबी एमसीएक्स के छल-कपट को भी छिपा देगा?

0
1312
क्या सेबी एमसीएक्स के छल-कपट को भी छिपा देगा?
क्या सेबी एमसीएक्स के छल-कपट को भी छिपा देगा?

भाग 1 को इस लिंक में पढ़ सकते है : भारत का एल्गो ट्रेडिंग कांड : कहानी दो एक्सचेंज और एक सुसुप्त नियामक (सेबी) की

‘जो उपदेश आप देते हो वो अपने ऊपर भी लागू करो’ यह एक पुरानी कहावत जिसका पालन कानून के संरक्षक ईमानदारी से करेंगे ये अपेक्षा की जाती है। लेकिन भारत के वित्तीय बाजार संस्थान जैसे स्टॉक और कमोडिटी एक्सचेंज, तथाकथित प्रथम स्तर के नियामक, उच्च कॉर्पोरेट प्रशासन मानकों को बनाए रखने के लिए ज्यादा कष्ट नहीं उठाते जो नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) अन्य सूचीबद्ध कंपनियों के लिए प्रचार करता है।

2014 में जब पहली बार एमसीएक्स में हिस्सेदारी ली, तो कोटक ने कहा था कि वह एमसीएक्स में बोर्ड सीट नहीं मांगेगा।

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) में कंपनी नियंत्रण के कदाचार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के बाद दूसरा सबसे बड़ा कारोबार जो कि ऐल्गो ट्रेडिंग घोटाले में पकड़ा गया है, पर सेबी का ढीलापन स्पष्टतः दिखायी देता है और इसमें एक लंबी सूची शामिल है।

आप स्वामित्व रखेंगे और प्रबल होंगे?

स्टॉक एक्सचेंज और क्लीयरिंग कॉर्पोरेशन के मानक (एसईसीसी) मानदंडों को मंजूरी देने वाले सेबी के स्टॉक एक्सचेंजों और क्लीयरिंग कॉर्पोरेशन के शासन के उल्लंघन में एमसीएक्स ने 25 अप्रैल को अपनी हालिया बोर्ड बैठक आयोजित की[1]। एक्सचेंज जैसे बाजार की बुनियादी ढाँचे वाली कंपनी में किसी भी मंडल संकल्प पर वोटिंग के लिए सार्वजनिक हित निदेशक (पीआईडी), जो दूसरे शब्दों में स्वतंत्र निदेशक होते हैं, के बहुमत की आवश्यकता है। मानदंडों के अनुसार, कोई भी संकल्प केवल तभी मान्य होगा जब वोट डालने वाले पीआईडी की संख्या अन्य मतदान सदस्यों की कुल संख्या के बराबर या उससे अधिक हो।

25 अप्रैल को, एमसीएक्स के बोर्ड में पांच शेयरधारक सदस्य थे जबकि केवल चार पीआईडी थे। बोर्ड ने बड़ी आसानी से वित्तीय परिणामों पर प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, इसके बावजूद की अनुबंध देने के संबंध में गंभीर वित्तीय कुप्रबंधन के आरोपों पर विवाद हुए थे और दूसरा मामला इसके सहायक एमसीएक्स समाशोधन निगम (एमसीएक्ससीसीएल) को ऋण देने के संबंधित है जिसे अब इक्विटी में परिवर्तित कर दिया गया है या इक्विटी में रूपांतरण लंबित है। किन मानदंडों या कानूनी परिस्थितियों में ये किए गए? क्या एमसीएक्स बोर्ड कुछ दिनों तक इंतजार नहीं कर सकता था ताकि उसके विवादास्पद एमडी और सीईओ मृगांक परांजपे को पद छोड़ दे? क्या एल्गो ट्रेडिंग घोटाले के संबंध में टी आर चड्ढा एंड कंपनी द्वारा दिए गए फॉरेंसिक ऑडिट रिपोर्ट पर एमसीएक्स बोर्ड की बैठक में कोई चर्चा हुई थी? एमसीएक्स बोर्ड पर पीआईडी द्वारा उठाए जाने वाले ये सभी सवाल महत्वपूर्ण हैं क्योंकि कमोडिटी एक्सचेंज और एनएसई के बीच आसन्न विलय सौदे की बातचीत चल रही है, जो निश्चित रूप से शेयरधारकों के हित में है और इसलिए स्वतंत्र बोर्ड सदस्यों की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाता है।

पीगुरूज पहले ही बता चुका है कि एमसीएक्स मंडल द्वारा कोटक और एनएसई से जुड़े लोगों को नए सदस्यों के रूप में नियुक्त करने की प्रक्रिया चल रही थी[2]

शेयरधारक निदेशक कौन हैं?

शेयरधारक निदेशकों पर एक नज़र दिलचस्प होगी। एक निजी बैंक, कोटक महिंद्रा और राकेश झुनझुनवाला (जो एक प्रमुख शेयर बाजार निवेशक और व्यापारी हैं) की अगुवाई वाले रेयर उद्यम से जुड़े सी जयराम और अमित गोइला शेयरधारक निदेशक हैं। कोटक और झुनझुनवाला दोनों एमसीएक्स के दो बड़े शेयरधारक हैं।

संयोगवश, एमसीएक्स का एक अन्य शेयरधारक निदेशक, मधु वडेरा जयकुमार भी झुनझुनवाला द्वारा संचालित एपटेक लिमिटेड के बोर्ड में है, झुनझुनवाला जो विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से कंपनी में 43 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी रखता है। झुनझुनवाला एप्टेक के अन्य ज्ञात शेयर बाजार के व्यापारियों और निवेशकों के साथ एक प्रमुख बोर्ड सदस्य भी हैं।

जयराम एक शेयरधारक निदेशक के रूप में एमसीएक्स की सहायक कंपनी एमसीएक्स सीसीएल के बोर्ड में भी हैं। वह एमसीएक्स सीसीएल के बोर्ड में शेयरधारक निदेशक कैसे हो सकते हैं? क्या कोटक एमसीएक्स सीसीएल का शेयरधारक है? नहीं। एमसीएक्स का एमसीएक्स सीसीएल पर 100% स्वामित्व है। वास्तव में, क्या हितों का टकराव नहीं हो सकता है क्योंकि कोटक महिंद्रा बैंक एमसीएक्स के 13 समाशोधन बैंकों में से एक है? 2014 में जब पहली बार एमसीएक्स में हिस्सेदारी ली, तो कोटक ने कहा था कि वह एमसीएक्स में बोर्ड सीट नहीं मांगेगा। लेकिन अब एमसीएक्स को भूल जाओ, इसमें एक बोर्ड प्रतिनिधि है क्योंकि एक शेयरधारक-निदेशक एमसीएक्स सीसीएल के बोर्ड में भी है।

एमसीएक्स से अधिक, नियामक सेबी को बहुत कुछ समझाने की आवश्यकता है क्योंकि इसमें छोटे निवेशकों के प्रति सबसे बड़ी जिम्मेदारी है जो हजारों सपनों के साथ एक एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर व्यापार करने आते हैं

जागो, सेबी!

सेबी के SECC अधिनियम, खंड 23 (7), के अनुसार “कोई भी व्यापारिक सदस्य या समाशोधन सदस्य, या उनके सहयोगी और एजेंट, किसी भी मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज या मान्यता प्राप्त समाशोधन कॉर्पोरेशन के प्रबंध मंडल में नहीं होंगे।“ यदि इसका कड़ाई से पालन किया जाता है, तो कोटक एमसीएक्स के बोर्ड में अपना प्रतिनिधि भी खो सकता है। सेबी में कौन एमसीएक्स में सौदों का प्रभारी है?

एमसीएक्स का मामला एक अन्य सराफा बाजार नेशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एनएमसीई) से कैसे अलग है जहां इसके प्रमुख कार्यकारी कैलाश गुप्ता को सॉफ्टवेयर प्राप्त करने के बहाने पैसों के गबन के लिए दोषी ठहराया गया था? अपनी पिछली पोस्ट में पीगुरूज पहले ही इस बात पर प्रकाश डाल चुका है कि कैसे एमसीएक्स द्वारा लंदन की एक कंपनी को दिए गए लगभग 20 करोड़ रुपए के सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट ऑर्डर विवादास्पद हो गए हैं[3]

क्या जवाबदेही को बेकार समझकर छोड़ दिया जाएगा?

मुख्य प्रबंधन व्यक्तियों (केएमपी) के संबंध में सेबी के मानदंड भी एमसीएक्स द्वारा आसानी के साथ ध्वस्त कर दिए गए हैं। कानूनी जानकारों का कहना है कि एमसीएक्स ने अपने मुख्य नियामक अधिकारी गिरीश देव को कंपनी अधिनियम के आधार पर केएमपी के रूप में विवर्गीकृत किया, जबकि सेबी नियमों के मुताबिक, कंपनी अधिनियम को रद्द कर सकती है।

सेबी के नियमों के अनुसार, कोई भी सीधे एमडी और सीईओ को रिपोर्ट कर रहा है और यहां तक कि बाजार की बुनियादी ढांचा कंपनियों में उसके नीचे दो स्तर, जैसे एक्सचेंज और समाशोधन कॉर्पोरेशन, एक केएमपी है। विशेष रूप से, एक नियामक अधिकारी प्रमुख विभागों में नियमों में किसी भी चूक के लिए जिम्मेदार है। देव का विवर्गीकरण करके, क्या यह आश्वस्त करने का प्रयास किया गया था कि वह केएमपी के रूप में जवाबदेह नहीं है?

यह उल्लेख नहीं किया जाना चाहिए कि एमसीएक्स अब एक बड़े डेटा लेनदेन घोटाले का सामना कर रहा है और केएमपी के लिए नियामक मानदंडों के उल्लंघन की जिम्मेदारी को ठीक करने की आवश्यकता है।

इसके अलावा, सेबी के लिए आवश्यक है कि उसे ऐसे केएमपी की नियुक्ति या हटाने के बारे में सूचित किया जाए।

यहां तक कि वित्तीय कदाचार के आरोपों पर एमसीएक्स में हंगामा हो रहा था, एक्सचेंज ने अपने वित्तीय उपाध्यक्ष सत्यजीत बोलर को एमसीएक्ससीसीएल में सीएफओ के रूप में स्थानांतरित कर दिया। कुछ समय तक वहां काम करने के बाद, एमसीएक्ससीसीएल के वरिष्ठ प्रबंधन द्वारा बोलर को बताया गया कि पद के लिए उनका वेतन बहुत अधिक था और इसलिए कंपनी के लिए उनकी स्थिति निरर्थक थी। एमसीएक्स में एमडी, और सीईओ, मृगांक परांजपे एमसीएक्ससीसीएल के बोर्ड सदस्य भी हैं। परजानपे ने एमसीएक्स में एमडी और सीईओ के पद के लिए फिर से नियुक्ति नहीं करने का फैसला करने के कुछ ही दिन बाद बोलार को हटा दिया क्योंकि सुसान थॉमस के साथ डेटा साझा करने पर एक फोरेंसिक रिपोर्ट थी।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

पीगुरूज को पता चला है कि एमसीएक्स के आने वाले एमडी और सीईओ पी एस रेड्डी ने बोलर को आश्वासन दिया है कि वह उनके मामले को देखेंगे। लेकिन क्या बोलर की पुनः बहाली से मामला खत्म हो जाना चाहिए? क्या सेबी को पूछताछ नहीं करनी चाहिए कि एक प्रमुख प्रबंधन व्यक्ति को बाहर क्यों किया गया? क्या बोलार को भारत के वित्तीय बाजारों में खुदरा निवेशकों के बड़े हित में नहीं बोलना चाहिए?

एमसीएक्स से अधिक, नियामक सेबी को बहुत कुछ समझाने की आवश्यकता है क्योंकि इसमें छोटे निवेशकों के प्रति सबसे बड़ी जिम्मेदारी है जो हजारों सपनों के साथ एक एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर व्यापार करने आते हैं, लेकिन सूट-बूट वाले पेशेवर प्रबंधन द्वारा कदाचार के शिकार हो जाते है जैसा कि एमसीएक्स के मामले में हुआ।

सन्दर्भ:

[1] SEBI Memorandum to the BoardSebi.gov.in

[2] NSE-MCX merger – The setupApr 11, 2019, PGurus.com

[3] SEBI’s ignorance of happenings at MCX – Déjà vu? Apr 15, 2019, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.