ईडी ने बिचौलिए और संपादक उपेंद्र राय के 27 करोड़ रुपये के छः पॉश बंगले, फ्लैट और पेंट हाउस को जब्त किया

उपेंद्र राय अपनी चुप्पी कब तक रखेंगे? ईडी पूरे देश में उनकी कई रियल एस्टेट संपत्तियों को जब्त कर रही है।

0
3070
ईडी ने उपेंद्र राय की संपत्ति को जब्त किया
ईडी ने उपेंद्र राय की संपत्ति को जब्त किया

ईडी के अधिकारियों ने कहा, “उपेंद्र राय की जब्त संपत्तियों में महंगी कारें, फ्लैट्स और म्यूचुअल फंड और बैंक जमा में निवेश शामिल हैं।”

बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा बिचौलिए और सम्पादक उपेंद्र राय के कई बंगलों, फ्लैट्स, महंगी कारों सहित कुल 27 करोड़ रुपये की काली संपत्तियों को जब्त किया गया। ईडी द्वारा जारी किए गए विस्तृत बयान के मुताबिक, उसने नई दिल्ली, ग्रेटर कैलाश, नोएडा और लखनऊ में पॉश घरों, फ्लैट्स और पेंट हाउस को हिरासत में लिया है। अचल संपत्ति सलाहकारों का कहना है कि इन संपत्तियों का वास्तविक मूल्य 100 करोड़ रुपये से अधिक होने की उम्मीद है।

ईडी के अधिकारियों ने कहा, “जब्त संपत्तियों में महंगी कारें, फ्लैट्स और म्यूचुअल फंड और बैंक जमा में निवेश शामिल हैं।” वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि काले धन को वैध बनाने से रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत राय और अन्य के खिलाफ जब्ती के लिए एक अस्थायी आदेश जारी किया गया है, वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि संपत्तियों का कुल मूल्य 26.65 करोड़ रुपये है।

ईडी के बयान के मुताबिक, तीन मंजिला पॉश बंगला सी -24, ग्रेटर कैलाश -1, फ्लैट नंबर: 104 नोएडा में अरिहंत पैराडिसो, लखनऊ में सरस्वती अपार्टमेंट्स में एक पेंटहाउस, फ्लैट नंबर: डी 9 लखनऊ में शालीमार इंपीरियल में, फ्लैट नम्बर : 801 नई दिल्ली में हैली रोड पर आशादीप में और फ्लैट नंबर: 368 नोएडा में जलवायु विहार में बिचौलिए और लुटेरे उपेंद्र राय की संलग्न इमारतें हैं।

कथित विरूपण और संदिग्ध वित्तीय लेनदेन से संबंधित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) मामले में जमानत हासिल करने के कुछ क्षण बाद, तिहाड़ जेल में पीएमएलए के तहत प्रवर्तन निदेशालय द्वारा 8 जून को राय को गिरफ्तार किया गया था।

इससे पहले, 3 मई को सीबीआई ने उपेंद्र राय को संदिग्ध वित्तीय लेनदेन में शामिल होने, झूठी जानकारी प्रस्तुत करके नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) द्वारा हवाई अड्डे का प्रवेश पास प्राप्त करना, मुंबई के एक व्यापारी के खिलाफ आयकर विभाग के मामले में कथित रूप से छेड़छाड़ और उसका भयादोहन करने हेतु गिरफ्तार किया था।

एफआईआर में, सीबीआई ने आरोप लगाया है कि 2017 के दौरान प्रत्येक एक लाख रुपये से अधिक के लेनदेन की निगरानी में, राय के खातों में 79 करोड़ रुपये जमा हुए जबकि इसी अवधि के दौरान 78.51 करोड़ रुपये खाते से निकाले गए।

पीगुरुस ने रिपोर्ट की एक श्रृंखला के माध्यम से दागी उपेंद्र राय की संपत्ति का खुलासा किया था[1]

References:

[1] प्रवर्तन निदेशालय ने 100 करोड़ रुपये से अधिक काले धन को वैध बनाने के लिए संपादक और लुटेरे उपेंद्र राय को भी पकड़ा – 17 मई, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.