एक डीसीपी की मृत्यु

एक डीसीपी ने आत्महत्या की है और एक एसएचओ और एक पत्रकार द्वारा भयादोहन (ब्लैकमेल) करने का आरोप लगाते हुए एक सुसाइड नोट छोड़ा है।

0
537
एक डीसीपी की मृत्यु
एक डीसीपी की मृत्यु

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में एक पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) ने आत्महत्या कर ली है। उन्होंने स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) और एक पत्रकार द्वारा भयादोहन करने का आरोप लगाते हुए एक सुसाइड नोट छोड़ा है। एसएचओ एक मुस्लिम है। उन्होंने खुद को कांस्टेबल से एसएचओ तक पदोन्नति के लिए तेजी से आगे बढ़ाया, शायद उन तकनीकों का उपयोग करके जो अंततः डीसीपी को भी वश में रखते थे और उन्हें ऐसी स्थिति में रखा जिसमें उन्हें भयादोहन किया जा सकता था। क्षेत्र के हिंदी अखबार भी एक “महिला” की ओर इशारा कर रहे हैं।

भारतीय नौकरशाही का अधिकांश हिस्सा ऐसा हो गया है: रिश्वत के लिए भूखे, प्रक्रिया में सभी प्रकार के गुप्त पात्रों के साथ खुद को जोड़ना। जब पैसे आसानी से आने लगते है, वह जल्द ही उन औरतों पर खर्च होने लगते है जो शक्तिशाली लोगों का संगत पैसे कमाने के लिए रखती है, ज्यादातर सबसे पुराने व्यवसाय से।

हिंदू पैसा नामक अलर्करोग (रैबीज) से ग्रसित हैं। पागलों की तरह वे पैसे के पीछे भाग रहे हैं। कोई नैतिकता नहीं, कोई सन्देह नहीं, कोई सावधानी नहीं, कोई शर्म नहीं, कोई सम्मान नहीं सिर्फ पैसा। मतलब, मुद्दा नहीं। स्रोत, मुद्दा नहीं।

बाबू जल्द ही भयादोहित होने के लिए विवश हो जाते हैं। अगर भारत धर्म के नाम पर एक माफिया गिरोह के हाथों में बंदी है, तो भ्रष्टाचार इसका मुख्य कारण है। मुसलमान रिश्वत के खेल में माहिर हैं: यहां तक कि वे हमारे शहरों को माफिया के रूप में शासन करते हैं, वे यह सुनिश्चित करते हैं कि बाबुओं का कमीशन कभी देर न हो।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

हिंदू पैसा नामक अलर्करोग (रैबीज) से ग्रसित हैं। पागलों की तरह वे पैसे के पीछे भाग रहे हैं। कोई नैतिकता नहीं, कोई सन्देह नहीं, कोई सावधानी नहीं, कोई शर्म नहीं, कोई सम्मान नहीं सिर्फ पैसा। मतलब, मुद्दा नहीं। स्रोत, मुद्दा नहीं। आप आरडीएक्स की तस्करी करना चाहते हैं, कोई बात नहीं, बस सुनिश्चित करें कि हमारी रिश्वत हम तक पहुंचे। आप 12 साल की हिंदू लड़की को लव-जिहाद करना चाहते हैं, कोई बात नहीं, बस यह सुनिश्चित करें कि हमारी रिश्वत हम तक पहुंचे।

और अंत में, हिंदू पैसे और जीवन सहित, सब कुछ खो देते हैं। भारत प्रति व्यक्ति आय में पृथ्वी पर सबसे गरीब जगहों में से एक बना हुआ है।

ईमानदारी और निष्ठा खाली शब्द नहीं हैं। खोखला दर्शन नहीं। वे जीवन हैं। केवल ईमानदारी और निष्ठा से जीवन, और समृद्धि संभव है।

भारतीय नौकरशाही को पीछे हटने, गहरी सांस लेने और खुद से पूछने की जरूरत है: किस बुजदिली में उन्होंने खुद को इतना नीचे गिरा लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.