अंदर की बात – एपिसोड 2 – पाकिस्तानी मंडली

भारतीय खुफिया एजेंसियों के पास भारतीय पत्रकारों के नाम हैं, जिन्होंने न्यूयॉर्क और वाशिंगटन डीसी में पाकिस्तानी बिचौलिए सैयद गुलाम फैई के उदार आतिथ्य का आनंद लिया!

0
812
अंदर की बात - एपिसोड 2 - पाकिस्तानी मंडली
अंदर की बात - एपिसोड 2 - पाकिस्तानी मंडली

इस श्रृंखला के भाग 1 पर ‘ यहां से पहुँचा’ जा सकता है। यह भाग 2 है।

शोभा कांड

भारत में पूर्व पाक उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने यह दावा करते हुए शोभा डे को बहुत शर्मिंदा कर दिया कि मोदी को कोसने वाली लेखिका ने उसके आदेश पर लेख लिखे। बढ़ती उम्र की चर्चित लेखिका से इससे इनकार किया। लेकिन, नुकसान हो चुका है। कुछ संपादकों द्वारा उसके लेख (कॉलम) छोड़ने की संभावना है।

भारतीय खुफिया एजेंसियों के पास भारतीय पत्रकारों के नाम हैं जिन्होंने न्यूयॉर्क और वाशिंगटन डीसी में पाकिस्तानी बिचौलिए सैयद गुलाम फैई की उदारता का आनंद लिया है। और ये भारतीय मीडिया में मोदी-विरोधी मंडली के मोर्चे को संभाल रहे हैं। वे वे हैं जो धारा 370 और 35ए की छटपटाहट पर भारतीयों से झगड़ रहे हैं।

यहां तक कि एनएसए अजीत डोभाल और अन्य लोग कश्मीर में शांति सुनिश्चित करने के लिए ओवरटाइम काम कर रहे हैं, ये पत्रकार झूठी घटनाओं को प्रचारित कर रहे हैं और घाटी में “खतरनाक” स्थिति की बात कर रहे हैं। इनमें से बहुत सारे पत्रकारों ने अजीत डोभालके शाशनकाल में दिल्ली के लूटयेनस में घर, विदेशी यात्रा, प्राइम शेयरों के प्राथमिक आबंटन इत्यादि जैसे लाभ प्राप्त किया। राडिया टेप ने बरखा दत्त की पसंद को उजागर किया। आगे और भी खुलासे होंगे।

स्पष्ट डर

धर्मांतरण पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक प्रभावी कानून बनाने के लिए मोदी सरकार के प्रस्तावित कदम ने गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) को डरा दिया है जो वास्तव में धर्मांतरण कारखाने हैं। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार ने पहले से ही इन संदिग्ध गैर-सरकारी संगठनों का विदेशी चंदा रोकने के लिए विदेशी अंशदान विनियमन अधिनियम (एफसीआरए) नियमों को कड़ा कर दिया है। प्रस्तावित प्रतिबंध से इन गैर सरकारी संगठनों के लिए उनकी नापाक गतिविधियों को अंजाम देना और भी मुश्किल हो जाएगा।

मीडिया में गैर-सरकारी संगठनों के सहानुभूति रखने वालों को निहित स्वार्थों द्वारा निर्देशित किया गया है ताकि मोदी सरकार पर इस कदम को उलटने के लिए मजबूर करने के उद्देश्य से मोर्चे पर हमला किया जा सके। धारा 370 के हटने से अधिक, प्रस्तावित प्रतिबंध सात दशकों से अधिक समय तक मनमानी करने वाले एक विशाल प्रतिष्ठान से एक टकराव का गवाह है।

सही पकड़

कुछ हाई-प्रोफाइल कांग्रेस नेता बीजेपी के साथ चलने के विचार के साथ कर रहे हैं। उनमें वे नेता शामिल हैं जिन्होंने धारा 370 हटाने के मुद्दे पर मोदी सरकार का खुलकर समर्थन किया। ये नेता पूरी तरह से राहुल गांधी और उनके औसत दर्जे के बौद्धिक क्षमता से तंग आ चुके हैं। वे कांग्रेस में खुद के लिए कोई उम्मीद नहीं देखते हैं, जो एक डूबता हुआ जहाज है।
केवल अड़चन यह है कि वे इस बात के बारे में अनिश्चित हैं कि पार्टी के किस स्तर पर भाजपा उनका सम्मिलियन करेगी।

साथ ही, कुछ भाजपा नेता कांग्रेस वालों की संभावित प्रविष्टि से राजनीतिक रूप से खतरा महसूस कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, शिवराज चौहान ग्वालियर के एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता के प्रवेश के खिलाफ विरोध में हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के परामर्श से भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व द्वारा अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

कैप्टन पर निशाना

केंद्र को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के लिए आईएसआई समर्थित ड्रग मंडली द्वारा मुसीबत खड़ी करने की योजना बनाने की रिपोर्ट मिली है क्योंकि वह अपने नशीले पदार्थों के खिलाफ अभियान को ज्यादा गंभीरता से ले रहे हैं। कैप्टन सिंह ने न केवल ड्रग्स कानून प्रवर्तन मशीनरी को मजबूत किया है, बल्कि हरियाणा और राजस्थान जैसे पड़ोसी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ भी अनुबंध किया है। हाल ही में डीआरआई (DRI) और नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड ने कोकीन को जब्त किया है जिसकी कीमत करोड़ों में है, जो पश्चिमी तट से होकर आईएसआई के गुर्गों द्वारा तस्करी की कोशिश की जा रही थी। पंजाब बाजार में बहुत सारी कठिनाइयों की वजह से आईएसआई पटियाला राज परिवार के नेता से हताश है। कैप्टन ने खालिस्तानियों पर भी अंकुश लगाया है, जो ड्रग कारोबारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। संयोग से, कैप्टन के मोदी सरकार में काफी प्रशंसक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.