भारत ने कृषि कानूनों पर बहस के लिए ब्रिटेन का एहसान चुकाया। विदेश मंत्री ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में नस्लवाद पर चिंता जताई

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में फैले नस्लवाद पर तीखी प्रतिक्रिया दी!

1
604
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में फैले नस्लवाद पर तीखी प्रतिक्रिया दी!
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में फैले नस्लवाद पर तीखी प्रतिक्रिया दी!

ब्रिटेन में एक भारतीय मूल के खिलाफ कथित नस्लवाद की घटना!

सोमवार को भारत ने युनाइटेड किंगडम (यूके) को उसी की भाषा में जवाब दिया। ब्रिटेन में एक भारतीय के खिलाफ कथित नस्लवाद की एक घटना को ध्यान में रखते हुए, सरकार ने सोमवार को कहा कि जब आवश्यकता होगी, वह ब्रिटेन के साथ इस मुद्दे को उठाएगी और कहा कि भारत “नस्लवाद को नजरंदाज नहीं करेगा, चाहे वह कहीं भी हो।” राज्यसभा में यह आश्वासन देते हुए, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत आवश्यकता पड़ने पर यूके को इस मुद्दे पर घेरेगा। उन्होंने भारत को महात्मा गांधी की भूमि के रूप में वर्णित किया और कहा कि “भारत नस्लवाद को कभी नजरंदाज नहीं कर सकता है।” यह दोबारा बयान तब आया है जब भाजपा सांसद अश्विनी वैष्णव ने नस्लवाद और साइबर बुल्लीइंग (बदमाशी) की घटना पर सदन का ध्यान आकर्षित किया, इस घटना ने भारतीय मूल की रश्मि सामंत को ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया। मंत्री ने कहा कि नई दिल्ली के ब्रिटेन के साथ मजबूत संबंध हैं और आवश्यकता पड़ने पर वह ऐसे मामलों को “बिल्कुल स्पष्ट रूप से” उठाएंगे।

यह व्यापक रूप से माना जाता है कि भारत ब्रिटिश संसद से बेहद नाखुश है, क्योंकि ब्रिटिश संसद ने पिछले हफ्ते लंदन में चल रहे कुछ खालिस्तानी समूहों के दबाव में भारत के कृषि कानूनों पर बहस की थी। भारत ने नाराजगी व्यक्त करने के लिए ब्रिटिश उच्चायुक्त को समन भी भेजा था[1]

एस जयशंकर ने कहा, “मैं सदन की भावनाओं की कद्र करता हूं।” उन्होंने कहा, “मैं यह कहना चाहता हूं कि महात्मा गांधी की भूमि के रूप में, हम कभी भी नस्लवाद पर आँखे नहीं मूंद सकते हैं। विशेष रूप से एक ऐसे देश में जहां बहुत बड़ी संख्या में भारतीय बसे हुए हैं।” ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन की अध्यक्ष के रूप में चुनी जाने वाली पहली भारतीय महिला रश्मि सामंत को उनकी कई सोशल मीडिया पोस्टों के लिए, नियुक्ति के पांच दिनों के भीतर इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया था, उनकी पोस्टों को यहूदी विरोधी और नस्लवादी करार दिया गया था। वैष्णव ने कहा कि रश्मि साइबर उत्पीड़न का शिकार हुईं और उनके माता-पिता के हिंदू धार्मिक विश्वासों पर एक संकाय सदस्य द्वारा सार्वजनिक रूप से हमला किया गया था।

शून्य काल के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए, वैष्णव ने कहा कि यूनाइटेड किंगडम में औपनिवेशिक युग से व्यवहार और पूर्वाग्रहों की निरंतरता दिखाई देती है।

एस जयशंकर ने कहा, “यूके के एक मित्र के रूप में, हमें इसके प्रतिष्ठित प्रभाव के बारे में भी चिंता है”। “मैं जो कहना चाहता हूं, वह यह है कि यूके के साथ हमारे मजबूत संबंध हैं और जब भी आवश्यकता होगी, हम इस तरह के मामलों को आवश्यक रूप से स्पष्टता के साथ उठाएंगे।”

उन्होंने कहा, “हम इन घटनाक्रमों की बहुत बारीकी से निगरानी करेंगे। आवश्यकता पड़ने पर हम इसे उठाएंगे और हम हमेशा नस्लवाद और असहिष्णुता के अन्य रूपों के खिलाफ लड़ाई में अग्रणी भूमिका में होंगे।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

शून्य काल के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए, वैष्णव ने कहा कि यूनाइटेड किंगडम में औपनिवेशिक युग से व्यवहार और पूर्वाग्रहों की निरंतरता दिखाई देती है। कर्नाटक के उडुपी की एक उज्ज्वल छात्रा सामंत ने संघ की पहली भारतीय महिला अध्यक्ष बनने के लिए सभी चुनौतियों को पार किया। लेकिन “उसके साथ क्या व्यवहार किया गया?” उन्होंने पूछा। “क्या इस विविधता का उत्सव नहीं मनाया जाना चाहिए था?” उन्होंने कहा – “इसके बजाय, उसे इस हद तक साइबर उत्पीड़न झेलना पड़ा कि उसने इस्तीफा दे दिया। यहां तक कि उसके माता-पिता के हिंदू धार्मिक विश्वास पर एक संकाय सदस्य द्वारा सार्वजनिक रूप से हमला किया गया, जिस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई। यदि ऑक्सफोर्ड जैसे संस्थान में ऐसा होगा तो दुनिया के लिए संदेश क्या जायेगा।” जबकि उसने ‘अनजाने में’ किसी की भावनाओं को आहत करने के लिए सार्वजनिक माफी मांगी थी, सामंत का मानना है कि उसे गलत तरीके से ‘जानबूझकर’ लक्षित किया गया।

वैष्णव ने प्रिंस हैरी की पत्नी मेघन मार्कल पर ब्रिटेन के राजघरानों द्वारा नस्लवाद के आरोपों का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा – “समाज का व्यवहार वास्तव में उसकी मान्यताओं और मूल्य प्रणाली का प्रतिबिंब है। यदि समाज में नस्लीय भेदभाव की ऐसी प्रथाओं का उच्चतम स्तर पर पालन किया जाता है, तो निम्न स्तर पर क्या होगा।” उन्होंने कहा कि दोनों उदाहरण अलग नहीं हैं, ब्रिटेन में नस्लीय आधार पर प्रवासियों के साथ व्यवहार और उनका अलगाव दुनिया भर में कुख्यात है।

एक हालिया रिपोर्ट जिसमें कहा गया था कि कोविड-19 के कारण एशियाई मूल के लोगों के बीच मृत्यु दर ब्रिटेन में अन्य समुदायों में मृत्यु दर से अधिक है, का हवाला देते हुए सांसद ने कहा “क्या यह स्वास्थ्य के लिए समान पहुंच के बारे में एक बड़ा सवाल नहीं उठाता है और क्या वास्तव में संपूर्ण बुनियादी मानवाधिकार का मुद्दा नहीं है?”

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में प्रवासी भारतियों की संख्या बहुत अधिक है। उन्होंने कहा, “हम सभी के लिए एक स्वाभाविक चिंता का विषय है। उपनिवेशवाद का युग खत्म हो गया है, लेकिन मानसिकता अभी भी उसी तरह की बनी हुई है। अब ब्रिटेन को बदलना चाहिए। यदि वह हमसे सम्मान चाहता है, तो उसे बदलना होगा।”

संदर्भ:

[1] One-sided & false assertions: India condemns UK Lawmakers’ debate on farmers’ stirMar 09, 2021, PGurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.