सोनिया गांधी के साथ क्रिश्चियन मिशेल की मुलाकातों का पता लगाने के लिए सीबीआई एसपीजी रिकॉर्ड की जाँच करेगी

15 साल की अवधि में मिशेल और सोनिया गांधी के कई बार मिलने का क्या कारण था?

0
1800
सोनिया गांधी के साथ क्रिश्चियन मिशेल की मुलाकातों का पता लगाने के लिए सीबीआई ने एसपीजी रिकॉर्ड की जाँच की
सोनिया गांधी के साथ क्रिश्चियन मिशेल की मुलाकातों का पता लगाने के लिए सीबीआई ने एसपीजी रिकॉर्ड की जाँच की

हालात बिगड़ रहे हैं। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) पिछले दो दशकों से डीलर क्रिश्चियन मिशेल के साथ सोनिया गांधी की कई मुलाकातों की जांच करने के लिए सोनिया गांधी के विशेष संरक्षण समूह (एसपीजी) के रिकॉर्ड की जांच रहा है। उसे चिंता करना चाहिए कि मिशेल के वाहन चालक ने एजेंसियों को अक्टूबर 2012 तक उसकी लगातार मुलाकातों के बारे में पहले से ही बताया है, पिछली बार अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीदी घोटाला खुलासा, जिससे उनकी योजना असफल हो गयी, के पश्चात माइकल भारत छोड़ के भाग गया।

इससे पहले, बोफोर्स मामले में, सोनिया के एसपीजी अधिकारी नरेश चंद्र गोसैन ने सीबीआई को गवाही दी कि सोनिया ने डीलर ओटावियो क्वात्रोची से 21 बार मुलाकात की। उन्होंने यह भी बताया कि जब भी राजीव दिल्ली से बाहर गए, तो सोनिया राहुल और प्रियंका को क्वात्रोची के घर ले गयी।

सूत्रों के मुताबिक, सोनिया आम तौर पर रायसिना रोड पर दिल्ली के केंद्र में अपने 10, जनपथ निवास या राजीव गांधी फाउंडेशन (आरजीएफ) कार्यालय में उच्च प्रोफ़ाइल मेहमानों से मिलती है। मई 2014 तक, आरजीएफ कार्यालय भी एसपीजी के नियंत्रण में था, क्योंकि गांधी परिवार के सदस्यों ने इसका बार-बार दौरा किया और वहां गणमान्य व्यक्तियों से मुलाकात की। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार सत्ता में आने के तुरंत बाद, सोनिया ने राजीव गांधी फाउंडेशन भवन से एसपीजी सदस्यों को वापस लेने के लिए सरकार को लिखा था, जहां एसपीजी कर्मचारियों को तैनात किया गया था और उन्होंने एक रजिस्टर बनाया था और आगंतुकों की निगरानी की।

सीबीआई ने पाया कि 1998 से मिशेल 300 से अधिक बार भारत आया और भारतीय वायुसेना की खरीद सहित विमानन क्षेत्र से जुड़े कई सौदों में शामिल था। मिशेल के वाहन चालक नारायण बहादुर का कबूलनामा सीबीआई के लिए बड़ी सफलता होने की उम्मीद है, क्योंकि उसने खुलासा किया कि वह पिछले दो दशकों से दिल्ली में मिशेल को कहाँ ले गया था। सीबीआई से सोनिया के एसपीजी गार्ड के साथ इन पहलुओं को भी सत्यापित करने की उम्मीद है।

यह पहली बार नहीं है कि सीबीआई सोनिया गांधी की गतिविधियों को जानने के लिए एसपीजी रिकॉर्ड की पुष्टि कर रही है। इससे पहले, बोफोर्स मामले में, सोनिया के एसपीजी अधिकारी नरेश चंद्र गोसैन ने सीबीआई को गवाही दी कि सोनिया ने डीलर ओटावियो क्वात्रोची से 21 बार मुलाकात की। उन्होंने यह भी बताया कि जब भी राजीव दिल्ली से बाहर गए, तो सोनिया राहुल और प्रियंका को क्वात्रोची के घर ले गयी[1]। क्वात्रोची के चालक ने भी इसकी पुष्टि की।

हालांकि मिशेल हमेशा मध्य दिल्ली में होटल क्लारिजेस में ठहरता था, उसने दिल्ली के बाहरी इलाके छतरपुर में एक फार्महाउस खरीदा था। ये 2015 में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के निष्कर्ष थे जब एजेंसी ने मिशेल के रखरखाव कर्ता राजू संथनम को पकड़ लिया, जो एक पत्रकार भी थे[2]

सीबीआई यह भी सत्यापित कर रही है कि क्या सोनिया के दामाद रॉबर्ट वाड्रा का भी मिशेल के साथ सीधा सम्पर्क था। सोनिया गांधी मिशेल के पिता के साथ बहुत करीबी थी, स्वर्गीय वुल्फगैंग मिशेल, जो भारत, लीबिया और ब्रिटेन में विमानन क्षेत्र में एक बड़ा डीलर था। शोध और विश्लेषणात्मक विंग (रॉ) के कई अधिकारियों ने अपने संस्मरणों में लिखा कि पूर्व प्रधान मंत्री नरसिम्हा राव ने लंदन में रॉ एजेंटों को आदेश दिया कि जब भी सोनिया वहां हों उनपर नजर रखी जाए और उन्होंने कई बार रिपोर्ट की है कि वह थैम्स नदी के पास मिशेल के पिता के बंगले में रहीं।

संदर्भ:

[1] ‘He met Sonia 21 times after Rajiv’s Death’Jan 17, 2011, India Today

[2] VVIP chopper deal: Christian Michel sent cash with driver, met SP Tyagi kin at Sainik farm, ED tells courtJun 16, 2016, Indian Express

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.