आखिरकार, सीबीआई ने कोयले की आपूर्ति अनुबंध में अनियमितताओं के लिए अदानी एंटरप्राइजेज को आरोपित किया

पीगुरूज द्वारा रिपोर्ट किए गए एक अन्य घोटाले में शामिल अदानी एंटरप्राइजेज जैसे कोयला आयातकों को सीबीआई द्वारा आरोपित किया गया है

2
259
पीगुरूज द्वारा रिपोर्ट किए गए एक अन्य घोटाले में शामिल अदानी एंटरप्राइजेज जैसे कोयला आयातकों को सीबीआई द्वारा आरोपित किया गया है
पीगुरूज द्वारा रिपोर्ट किए गए एक अन्य घोटाले में शामिल अदानी एंटरप्राइजेज जैसे कोयला आयातकों को सीबीआई द्वारा आरोपित किया गया है

आखिरकार, गौतम अडानी कोयला आयात घोटाले में पकड़े गए हैं। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अडानी एंटरप्राइजेज और बहु-राज्य सहकारी राष्ट्रीय सहकारी उपभोक्ता महासंघ (एनसीसीएफ) के एक पूर्व अध्यक्ष और एक पूर्व-प्रबंध निदेशक पर आंध्रप्रदेश के बिजलीघरों को कोयला आपूर्ति करने के लिए एक निविदा के माध्यम से एक कंपनी का चयन करने में अनियमितताओं के लिए मामला दर्ज किया है। सीबीआई ने गौतम अडानी की अगुवाई वाले अदानी एंटरप्राइजेज पर पूरी तरह से निविदा मानदंडों का उल्लंघन करते हुए, यहां तक कि कीमत को उद्धृत किए बिना और अन्य प्रतिभागियों को अवैध रूप से हटाकर आदेश को प्राप्त करने का आरोप लगाया है। यहाँ तक कि निविदा में अडानी समूह ने एक बेनामी कम्पनी को भी डाला!

पिछले चार वर्षों से, पीगुरूज कोयला आयात घोटाले पर कई रिपोर्टों को प्रकाशित कर रहा है, जिस घोटाले में अडानी प्रमुख लाभार्थी हैं। अडानी के अलावा, अनिल अंबानी के रिलायंस, एस्सार और जिंदल समूह भी बिलों में हेराफेरी करके 30,000 करोड़ रुपये के कोयला आयात घोटाले का हिस्सा हैं। यह विशाल घोटाला संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के 2009-2011 की अवधि के दौरान हुआ था, जिससे आम आदमी के बिजली के बिलों में बढ़ोतरी हुई थी। राजस्व खुफिया विभाग (डीआरआई) ने इस घोटाले का खुलासा किया कि किन कंपनियों ने कोयले के आयात और मशीनरी के आयात में बिलों को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया। यहां तक कि भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) सहित कई बैंकों ने जांच एजेंसियों के साथ सहयोग नहीं किया। एसबीआई की तत्कालीन अध्यक्ष अरुंधति भट्टाचार्य भ्रष्ट कंपनियों को बचाने के लिए बेहद तुली हुई थीं[1]

अडानी एंटरप्राइजेज के खिलाफ सीबीआई की एफआईआर का विवरण:

सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया है कि आंध्र प्रदेश पावर जनरेशन कॉरपोरेशन (एपीजीईएनसीओ) ने 29 जून 2010 को कडप्पा में रायलसीमा थर्मल पावर प्लांट (आरटीपीपी) और विजयवाड़ा में  नरला टाटा राव थर्मल पावर प्लांट  को बंदरगाह के माध्यम से आयातित कोयले के छह लाख मिलियन टन (एमटी) की आपूर्ति के लिए एक सीमित निविदा मंगाई थी। 78 प्रतिशत सरकारी हिस्सेदारी के साथ केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के तहत एक बहु-राज्य सहकारी, नेशनल को-ऑपरेटिव कंज्यूमर फेडरेशन इंडिया लिमिटेड (एनसीसीएफ) सहित सात सार्वजनिक उपक्रमों को निविदा जांच अग्रेषित की गई। उस समय केंद्रीय कृषि और उपभोक्ता मामलों के मंत्री कोई और नहीं शरद पवार थे।

सीबीआई ने अडानी एंटरप्राइजेज, तत्कालीन एनसीसीएफ के अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह, एनसीसीएफ के तत्कालीन प्रबंध निदेशक जीपी गुप्ता और उसके वरिष्ठ सलाहकार एससी सिंघल के खिलाफ आईपीसी की धाराओं के तहत कथित रूप से आपराधिक साजिश रचने और धोखाधड़ी करने और भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत अहमदाबाद-स्थित कम्पनी का निविदा में पक्ष लेने और दिशानिर्देशों के उल्लंघन के लिए मामला दर्ज किया।

आरोपी कम्पनी अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड में गौतम अडानी और उनके भाई राजेश अडानी प्रमुख निदेशक हैं। प्राथमिकी में कहा गया है कि अधिकारियों ने “बोली लगाने वालों के चयन में हेरफेर करके अनियमितता की, जिससे अडानी एंटरप्राइजेज को उसके अयोग्य होने के बावजूद एपीजीईएनसीओ को आयातित कोयले की आपूर्ति के लिए काम के आवंटन में अनुचित सहायता मिली।”

अधिकारियों ने कहा कि कथित आपराधिक साजिश और भ्रष्टाचार का विवरण देते हुए, सीबीआई ने आरोप लगाया कि एनसीसीएफ, हैदराबाद इकाई ने 29 जून को एपीजीईएनसीओ की निविदा जांच प्राप्त की थी और इसे दिल्ली स्थित अपने मुख्यालय में सिंघल को भेज दिया था। उसी दिन प्रधान कार्यालय ने एक एकल पार्टी – महर्षि ब्रदर्स कोल लिमिटेड (एमबीसीएल) को समय की कमी का हवाला देते हुए प्रतिस्पर्धी बोलीकर्ताओं से बोलियों के लिए एक खुली निविदा मंगाने के लिए प्रक्रिया शुरू करने के बजाय 2.25 प्रतिशत के अंतर पर कोयले का परिवहन करने के लिए चुना, जैसा कि समय सीमा 7 जुलाई थी, उन्होंने कहा।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

छह दिन बाद, 7 जुलाई को, एपीजीईएनसीओ ने एनसीसीएफ, हैदराबाद को सूचित किया कि निविदा की तिथि 12 जुलाई तक बढ़ा दी गई है, जिसके बाद एमबीसीएल को आवंटन रद्द कर दिया गया था और खुली निविदा मंगाई गई थी, उन्होंने कहा। “यहां यह उल्लेख करना उचित है कि निविदा की तिथि बढ़ाने से पहले उनके पास सात दिन (जुलाई 01, 2010 से 07 जुलाई, 2010) थे और तारीख के विस्तार के बाद उनके पास केवल पांच दिन (जुलाई 08 से जुलाई 12, 2010) थे लेकिन अब प्रबंधन को लगा कि उनके पास खुली निविदा बुलाने के लिए पर्याप्त समय है,” सीबीआई ने आरोप लगाया।

ड्राफ्ट निविदा नोटिस पर चर्चा की गई और एनसीसीएफ के तीन वरिष्ठ अधिकारियों (सिंघल, गुप्ता, और सिंह) द्वारा अनुमोदित किया गया, जिन्होंने प्रधान कार्यालय स्तर समिति से परामर्श किए बिना निर्धारित दिशानिर्देशों की अनदेखी की, यह आरोप लगाया। यह कहा गया कि, छह बोलीदाताओं अडानी एंटरप्राइजेज, एमबीसीएल, व्योम ट्रेड लिंक्स, स्वर्ण प्रोजेक्ट्स, गुप्ता कोल इंडिया, और क्योरी ओरेमिन ने 10 जुलाई 2010 को एनसीसीएफ निविदा का जवाब दिया, जिनके विवरण और बोलियों को सारणीबद्ध किया गया और उसी दिन हैदराबाद इकाई द्वारा मुख्यालय भेज दिया गया।

कहा गया, गुप्ता कोल ने 11.3 प्रतिशत एनसीसीएफ मार्जिन को उद्धृत किया था, जबकि एमबीसीएल ने इसे 2.25 प्रतिशत पर रखा था, लेकिन शेष कंपनियों ने एनसीसीएफ मार्जिन को उद्धृत नहीं किया था। एफआईआर में दावा किया गया है कि गुप्ता कोल, क्योरी ओरेमिन और स्वर्ण प्रोजेक्ट्स की बोलियां एनसीसीएफ द्वारा खारिज कर दी गईं क्योंकि उन्होंने निविदा की शर्तों को पूरा नहीं किया था।

सीबीआई का आरोप है कि एनसीसीएफ के वरिष्ठ अधिकारियों ने अदानी एंटरप्राइजेज के साथ निविदा खुलने के बाद वार्ता की ताकि उनको अनुचित लाभ पहुंचाया जा सके इसके बावज़ूद की एनसीसीएफ के हैदराबाद कार्यालय में निविदा खोले जाने के समय कंपनी योग्य नहीं पाई गई अधिकारियों ने कहा।
“अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की बोली रद्द करने के बजाय, एनसीसीएफ के वरिष्ठ प्रबंधन ने अपने एक प्रतिनिधि मुनीश सहगल के माध्यम से कंपनी को एनसीसीएफ के ऑफर मार्जिन से अवगत कराया, जो 10 जुलाई, 2010 की शाम को एनसीसीएफ के मुख्य कार्यालय में बैठे थे …” एफआईआर में आरोप लगाया गया।

इसमें कहा गया कि बाद में उसी दिन अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने एनसीसीएफ को सूचित किया कि वे एनसीसीएफ को न्यूनतम मार्जिन शुल्क 2.25 प्रतिशत का भुगतान करने के लिए सहमत हैं। “यह प्रथम दृष्टया स्पष्ट है कि जब एनसीसीएफ एचओ नई दिल्ली में बोलियों पर कार्यवाही की जा रही थी। अडानी एंटरप्राइजेज के प्रतिनिधि को एनसीसीएफ मार्जिन न जमा करने के कारण उनके आसन्न अस्वीकृति के बारे में सूचित किया गया था और यह भी कि एमबीसीएल, पात्र बोलीदाता ने 2.25 प्रतिशत मार्जिन उद्धृत किया था,” एफआईआर में आरोप लगाया गया।

एजेंसी ने यह भी आरोप लगाया है कि व्योम ट्रेड लिंक्स अडानी एंटरप्राइजेज का एक छद्म था, जिसने इसे 16.81 करोड़ रुपये का असुरक्षित ऋण दिया था और “बिना किसी ठोस आधार” पर अंतिम चरण में अपना प्रस्ताव वापस ले लिया था।

[पीटीआई इनपुट के साथ]

संदर्भ:

[1] Is Arundhati Bhattacharya protecting Coal importers who indulged in over-invoicing? Jul 23, 2016, PGurus.com

2 COMMENTS

  1. […] लगभग 6 बिलियन अमेरिकी डॉलर के शेयर थे। अडानी समूह ने 14 जून को फ्रीज की रिपोर्ट का खंडन […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.