अजय शाह सी-कंपनी का एक छोटा परन्तु मुख्य हिस्सा है! भाग १

उच्च आवृत्ति व्यापार के मामले में सीबीआई चार्जशीट में नामित होने के बावजूद अजय शाह अपनी किसी भी पद से नीचे नहीं उतरे हैं

8
1290
उच्च आवृत्ति व्यापार के मामले में सीबीआई चार्जशीट में नामित होने के बावजूद अजय शाह अपनी किसी भी पद से नीचे नहीं उतरे हैं
उच्च आवृत्ति व्यापार के मामले में सीबीआई चार्जशीट में नामित होने के बावजूद अजय शाह अपनी किसी भी पद से नीचे नहीं उतरे हैं

अजय शाह और एचएफटीएसकैम में उनकी भूमिका

मैं उच्च आवृत्ति व्यापारिक घोटाले के बारे में लिख रहा हूं जिसने मेरी ‘एनाटॉमी ऑफ ए क्राइम’ नामक श्रृंखला में कुछ चुनिंदा लोगों के लिए पैसा बनाया है। यह पांच भाग की श्रृंखला [1] साधारण व्यक्ति के शब्दों में एक मुखबिर के दावों का वर्णन करती है, जिन्होंने कहा था कि कुछ चुनिंदा लोगों ने पांच साल की अवधि में 50,000 रुपये से 75,000 करोड़ रुपये तक बनाया था [2]

इस पर ध्यान देकर, कोई देख सकता है कि अजय शाह उन प्रमुख खिलाड़ियों में से एक थे जिन्हें चिदंबरम यह सुनिश्चित करने के लिए इस्तेमाल करते थे कि एनएसई प्रीमियर-एक्सचेंज ऑफ इंडिया की स्थिति का उपभोग कर रहा है।

मुखबिर के मुताबिक, ऊपर सूचीबद्ध अनुसार एचएफटी फर्मों द्वारा निहित अंतर्निहित फायदों के शीर्ष पर, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के शीर्ष वर्ग, वित्त मंत्रालय में कुछ शीर्ष नौकरशाहों के साथ मिलकर और (कृपया नगाड़ा बजाएं!) शक्तिशाली मंत्रियों में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार ने सिस्टम से छेड़छाड़ की और दोहन किया।

सीधी दृष्टि में लूट

कोई शेयर बाजार में लाखों खरीदारों और विक्रेताओं के साथ पैसा कैसे कमाता है? यह कैसे इस तरह चीजों को मोड़ता है कि सिक्का चित्त या पट्ट कुछ भी आये, कुछ चुनिंदा लोग हमेशा जीतते हैं? शेयर बाजार में इस तरह से धांधली की जाना चाहिए कि दूर से, ऐसा लगे कि सब कुछ ठीक है और कामकाज सही चल रहा है। इसे झांसा देने के लिए, जो स्टॉक मार्केट के कामकाज से परिचित है और उसकी कार्यप्रणाली और तंत्र की बनावट को जानता हो, या उसमें शामिल होना चाहिए। यही वह जगह है जहां अजय शाह आते हैं।

अजय शाह कौन है

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी (एनआईपीएफपी) के सीनियर अध्येता(फेलो) अजय नरोत्तम शाह ने अपने संक्षिप्त विवरण(resume) में बताया कि उन्हें दक्षिणी कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय (यूएससी), लॉस एंजिल्स [3] से अर्थशास्त्र दर्शनशास्त्र(PhD) में डॉक्टरेट मिला है। यह सात-पन्नों का संक्षिप्त विवरण उनके प्रकाशनों, पुरस्कारों और सम्मानों के विवरण से भरा है, लेकिन मुझे जिसने अचंभित किया वह यह कि उन्होंने उस वर्ष का उल्लेख नहीं किया है जिस वर्ष उन्होंने यूएससी से स्नातक की उपाधि प्राप्त की थी और उनके शोध प्रबंध का विषय का भी उल्लेख नहीं है।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी प्राइवेट लिमिटेड (सीएमआईई) के संस्थापक डॉ नरोत्तम शाह के पुत्र अजय शाह वर्तमान में सीएमआईई समेत कई संगठनों के बोर्ड पर हैं। अजय शाह के बारे में एक चौंकाने वाले लेख में, जिसे संडे गार्जियन ने फ्लैश बॉय नाम दिया, इस पोस्ट में लिखा गया है कि चालू केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) जांच से पता चला कि सीएमआईई के हिस्से के रूप में अजय शाह राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई) की जानकारी एकत्रित कर और एनएसई के सर्वर [4] में टीबीटी (टिक बाय टिक) तंत्र का शोषण करने के लिए एक तरीका लेकर आया। फ्लैश बॉय शब्द का प्रयोग करना थोड़ा सा कृत्रिम होगा; माइकल लुईस के फ्लैश बॉयज़ में, ब्रैड कत्सुयामा और उनके सहयोगी वे हैं जिन्हें अमेरिका में उच्च आवृत्ति व्यापार का पर्दाफाश करने का श्रेय दिया जाता है, जबकि यहां यह विपरीत है। मेरे एनाटॉमी श्रृंखला के भाग 3 [5] में वर्णित किए गए पैसे के बारे में एक विस्तृत स्पष्टीकरण का वर्णन किया गया है।

एचएफटी के बड़े समर्थक

जब संयुक्त राज्य अमेरिका में उच्च आवृत्ति व्यापार शुरू किया जा रहा था, अजय शाह और उनकी पत्नी सुसान थॉमस इस तकनीक के बड़े समर्थक बन गए, इसके गुणों को सूचीबद्ध किया और यह बाजार में तरलता कैसे बनाते हैं और भी इसी तरह की जानकारी। अजय शाह, सहायता से, या तो खुद से समितियों में स्थित हो गया था या अपने सहायकों द्वारा जिन कार्यों का वह समर्थन करता था उनके गुणगान करवाता था।

खाईबन्दी

एनएसई अपने प्रारंभिक दिनों में, यह 140 वर्षीय बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के खिलाफ बढ़ रहा था। बीएसई को दूसरा स्थान मिला, एनएसई, शहर में नए बच्चे को दी गई सरकार के संरक्षण के लिए धन्यवाद कहा। अमेरिका से लौटने के बाद, शाह रैंड कॉर्पोरेशन में एक कार्यकाल करने के बाद शाह अपने पिताजी की कंपनी सीएमआईई के अध्यक्ष बने। शायद एनएसई के पक्ष में हवा को महसूस करते हुए, उन्होंने अपने सम्बन्धों का लाभ उठाया और एनएसई के हितों को आगे बढ़ाने के लिए सक्रिय रूप से सांठ-गांठ करने के लिए सरकारी क्लब / बंधुता में अपना संघर्ष किया। जो जीता वाही सिकंदर कहावत की तरह, वह विजेता पक्ष (एनएसई) के साथ था और जो भी उसने कहा या सुझाव दिया वह बिना किसी परेशानी या असंतोष के स्वीकार किया गया था।

एचएफटी घोटाला कैसे बाहर आया, इस पर ध्यान देकर, कोई देख सकता है कि अजय शाह उन प्रमुख खिलाड़ियों में से एक थे जिन्हें चिदंबरम यह सुनिश्चित करने के लिए इस्तेमाल करते थे कि एनएसई प्रीमियर-एक्सचेंज ऑफ इंडिया की स्थिति का उपभोग कर रहा है। प्रतिद्वंद्वी फाइनेंशियल टेक्नोलॉजीज इंडिया लिमिटेड (एफटीआईएल) समूह की तीव्र वृद्धि को देखते हुए उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि एफटीआईएल को बाजार के ढांचे को स्थापित करने के लिए गठित किसी भी सरकारी समिति का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित नहीं किया जाए। उनके लिए विडंबना यह तथ्य था कि एफटीआईएल अक्सर एनएसई को बाजार में पछाड़ देता था और बाजार हिस्सेदारी भी हासिल कर लेता था!

सब मिलाकर, 1990 के दशक के उत्तरार्ध और 2000 के दशक के उत्तरार्ध में भारतीय बाजारों के विकास के प्रारंभिक वर्षों के दौरान, शाह ने पूरे वित्त समुदाय को बाजारों पर अपने ग़लत और त्रुटिपूर्ण आदेशों के साथ प्रभावित किया, जिससे यह सुनिश्चित हुआ कि यह मित्रों और सत्ता के दलालों के एक बंद समूह के साथ बना हुआ है।

जारी रहेगा….

संदर्भ:

[1] Anatomy of a CrimeSep-Oct 2017, PGurus.com

[2] Anatomy of a Crime P2 – The amount of the HFT lootSep 25, 2017, PGurus.com

[3] Ajay Shah CVnipfp.org

[4] Ajay Shah: Cambridge Analytica-style mastermind of financial marketsJun 10, 2018, Sunday Guardian

[5] Anatomy of a Crime P3 – How did they loot? Oct 2, 2017, PGurus.com

8 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.