भारत के स्वास्थ्य मंत्री ने ढीले कोविड प्रबंधन पर राज्यों को लताड़ा!

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कुछ राज्यों को कोविड प्रबंधन में ढीलाई के लिए लताड़ा!

0
732
डबल म्यूटेटिंग (दोहरा उत्परिवर्तन) वायरस महाराष्ट्र से उत्पन्न हुआ है, टीकों के खिलाफ अनुकूल है और जल्दी से फैलता है!
डबल म्यूटेटिंग (दोहरा उत्परिवर्तन) वायरस महाराष्ट्र से उत्पन्न हुआ है, टीकों के खिलाफ अनुकूल है और जल्दी से फैलता है!

वैक्सीन की कमी के आरोप पूरी तरह से निराधार हैं – डॉ हर्षवर्धन

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कुछ राज्य सरकारों को कोविड वायरस प्रबंधन को ठीक से लागू नहीं करने के लिए फटकारा। महाराष्ट्र का जिक्र करते हुए, मंत्री ने कहा, “जिम्मेदारीपूर्वक कार्यवाही करने में महाराष्ट्र सरकार की अक्षमता समझ से परे है। लोगों में दहशत फैलाना मूर्खता को और बढ़ाता है। वैक्सीन आपूर्ति हेतु पल-पल की निगरानी की जा रही है, और राज्य सरकारों को इसके बारे में नियमित रूप से अवगत कराया जा रहा है।”

डॉ हर्षवर्धन ने कहा, “वैक्सीन की कमी के आरोप पूरी तरह से निराधार हैं। पिछले एक साल के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के रूप में, मैं वायरस से जूझने में महाराष्ट्र सरकार के कुशासन और लापरवाह रवैये का गवाह रहा हूं। उनके गैर-जिम्मेदाराना रवैये ने देश में वायरस से लड़ने के प्रयासों को विफल कर दिया है।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

डॉ हर्षवर्धन ने आगे कहा – “इसी तरह, हमने छत्तीसगढ़ के नेताओं द्वारा टिप्पणियों को देखा है, जिनका उद्देश्य टीकाकरण पर गलत सूचना और दहशत फैलाना है। यह बेहतर होगा कि राज्य सरकार अपनी राजनीतिक जमीन साधने के बजाय अपने बुनियादी स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने पर जोर दे।”

“छत्तीसगढ़ सरकार ने डीसीजीआई द्वारा इमरजेंसी यूज़ ऑथराइजेशन (आपातकाल उपयोग मंजूरी) दिए जाने के बावजूद कोवैक्सिन का उपयोग करने से इनकार कर दिया। इतना ही नहीं, अपने कृत्यों से राज्य सरकार के नेता बहुत अधिक संदेह में हैं और शायद वे विश्व की एकमात्र एसी सरकार हैं जिसने टीका-संबंधी हिचकिचाहट को भड़काया है।”

डॉ हर्षवर्धन ने आगे कहा – “कई अन्य राज्यों को भी अपनी स्वास्थ्य सेवा प्रणालियों को दुरुस्त करने की आवश्यकता है। कर्नाटक, राजस्थान और गुजरात में परीक्षण की गुणवत्ता में सुधार की आवश्यकता है। पंजाब में, अस्पताल में भर्ती होने लायक मरीजों की प्रारंभिक पहचान करके उच्च मृत्यु दर में सुधार की आवश्यकता है।”

कर्नाटक और गुजरात को छोड़कर, अन्य सभी राज्य विपक्ष द्वारा संचालित हैं। भले ही, यह एक स्वास्थ्य प्रबंधन का मुद्दा है और यह तथ्य कि कई राज्यों में चुनाव हो रहे हैं, अब यह और भी अधिक खतरनाक हो जाता है कि महामारी नियंत्रण से बाहर हो सकती है। हर किसी को घर में रहना चाहिए, सुरक्षित रहना चाहिए और एक दूसरे के संपर्क में तभी आयें जब अत्यंत आवश्यक हो[1]

संदर्भ:

[1] Statement by Dr. Harsh VardhanApr 07, 2021, PBI

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.