भारत में दूरसंचार और राजीव गांधी: काल्पनिक कथा बनाम तथ्य

भारत में दूरसंचार क्षेत्र में क्रांति के पीछे वास्तविक चेहरा थे अटल बिहारी वाजपेयी

0
1118

कांग्रेस नेता और संभावित कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपने पिता द्वारा नहीं निभाई गई भूमिका के लिए श्रेय का दावा करने में कोई हिचकिचाहट नहीं हो रही है।

भारत में दूरसंचार क्रांति के इतिहास को जानने के लिए इस सफलता की कहानी से सबक लेना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस तरह के उदाहरण स्वतंत्र भारत के इतिहास में दुर्लभ हैं। भारत में दूरसंचार क्रांति के पीछे 2 कारक हैं। पहला कारक निजी कम्पनियां जैसे टीसीएस (1968 में स्थापित टाटा कंसल्टेंसी सेवा) थी – राजीव तब सक्रिय राजनीति में भी नहीं थे – विकास के पीछे प्रेरणा शक्ति थी। दूसरा कारक मोबाइल फोन का प्रचलन तेजी से बढ़ रहा था क्यूंकि लैंडलाइन और पीसीओ पुराने हो चुके थे। मोबाइल फोन के उपयोग में तेजी से हुई वृद्धि, बाद के वर्षों में सस्ते कनेक्टिविटी और सस्ते संचार लागत की वजह से उत्पादकता गुणक साबित हुई।

1999 में, राजीव गांधी के कार्यालय छोड़ने के दस साल बाद, नई दूरसंचार नीति (एनटीपी) अनुसार भारत में ’10 लाख से अधिक’ मोबाइल फोन ग्राहक थे। 1999 में टेली घनत्व का आंकड़ा 1 9 8 9 के 0.6% से बढ़कर 2.8% हो गया था। क्या यह एक “क्रांति” का गठन करता है और क्या राजीव गांधी मोबाइल क्रांति के जन्मदाता थे?

टेली-घनत्व:

31 अगस्त, 2016 के आंकड़ों अनुसार भारत का दूरसंचार तंत्र 105 करोड़ और 30 लाख ग्राहकों (फिक्स्ड और मोबाइल फोन) साथ दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा है। वृहद टेलीकॉम संचालकों और उनमें अति-प्रतिस्पर्धा के साथ भारत का दूरसंचार तंत्र दुनिया में सबसे कम कॉल शुल्कों में से एक है। भारत में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट उपयोगकर्ता आधार है। 31 मार्च 2016 के आंकड़ों अनुसार देश में 34 करोड़ और 26 लाख से ज्यादा इंटरनेट ग्राहक थे।

“प्रधानमंत्री वाजपेयी जिनके पास उस समय दूरसंचार मंत्रालय भी था, उन्होंने बीएसएनएल का निगमीकरण करने का राजनीतिक रूप से कठिन कदम उठाया”

भारत में जुलाई 2017 के आंकड़ों अनुसार, कुल टेलीफोन ग्राहक 1.211अरब हैं। मोबाइल ग्राहकों की संख्या 1.187 अरब हैं। फिक्स्ड लाइन ग्राहक 2 करोड़, 41 लाख से ज्यादा हैं। मासिक टेलीफोन जुड़ाव (शुद्ध) -1,30,000 है। जो 1989 में 0.6% की तुलना में टेली-घनत्व 93.88% तक बढ़ा देता है। शहरी टेली-घनत्व 173.21% और ग्रामीण टेली-घनत्व 57.45%(स्रोत – विकिपीडिया) है। इतनी हिमालय वृद्धि कैसे हुई? क्या कोई विशिष्ट व्यक्ति यह श्रेय लेने के लायक है?

उल्लेखनीय तथ्य:

नीति आयोग के पूर्व अध्यक्ष अरविंद पनागारिया ने अपनी पुस्तक में उल्लेख किया है कि महत्वपूर्ण नीतिगत सुधार 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार द्वारा कार्यान्वित किए गए थे, जिसमें से एक सबसे महत्वपूर्ण सुधार उपाय नीति निर्माण और सेवा प्रावधान को अलग करने के साथ, भारत संचार निगम के जन्म के साथ समापन 1अक्टूबर, 2000 को लागू हुआ। इस बहुत ही स्पष्ट हितों के संघर्ष से छुटकारा पाने की पहल ने दूरसंचार क्षेत्र को राजनीतिक नियंत्रण से मुक्त कर दिया।

प्रधानमंत्री वाजपेयी जिनके पास उस समय दूरसंचार मंत्रालय भी था, उन्होंने बीएसएनएल का निगमीकरण करने का राजनीतिक रूप से कठिन कदम उठाया।

बीएसएनएल का निर्माण आसान नहीं था- 4,00,000 दूरसंचार विभाग (डीओटी) के कर्मचारियों ने इसका विरोध करने के लिए एक लंबी हड़ताल की। हालांकि वाजपेयी सरकार ने उनकी लगभग सभी मांगों को स्वीकार कर लिया था, फिर भी सेवा प्रावधान से नीति निर्माण को अलग करने के मूलभूत सिद्धांत के साथ निगमकरण को वापस नहीं किया गया था। इस कदम के अलावा, 1999 एनटीपी ने दूरसंचार विवाद निपटान अपीलीय ट्रिब्यूनल के निर्माण के साथ, दूरसंचार विभाग के नियामक और विवाद निपटान भूमिकाओं को भी अलग कर दिया।

इन सुधारों से पूर्व, दूरसंचार विभाग इस क्षेत्र के लिए नीति तय करने के साथ विवादों का फैसला और दूरसंचार सेवाएं प्रदान करता था। कई दशकों तक रहा यह हितों का स्पष्ट टकराव वाजपेयी सरकार से पहले की सरकारों के प्रभाव और इरादों को दर्शाता है।

1999 के एनटीपी के तहत, सरकार ने एक राजस्व-साझाकरण व्यवस्था शुरू करने के साथ फिक्स्ड लाइसेंस शुल्क घटा दिया। इस नई नीति पर मीडिया ने नकारात्मक प्रतिक्रिया दी।

“यशवंत सिन्हा द्वारा पेश किए गए 2000 के बजट में मोबाइल हैंडसेट पर आयात शुल्क 25% से घटाकर 5% कर दिया गया।”

15 अगस्त, 2000 को, लंबी दूरी की घरेलू टेलीफोनी सेवाओं में “असीमित प्रतियोगिता” का सिद्धांत लागू कर दिया गया। जैसे ही महत्वपूर्ण रूप से यशवंत सिन्हा ने 2000 के वित्त बजट में मोबाइल हैंडसेट पर आयात शुल्क 25% से घटाकर 5% कर दिया। 1 अप्रैल 2002 को, विदेश संचार निगम लिमिटेड का अंतरराष्ट्रीय टेलीफोनी पर एकाधिकार समाप्त हुआ। पनागारिया ने अपनी पुस्तक में इन सब सुधारों का उल्लेख किया है और ये ही वो सुधार हैं जो पिछले दशकों के दौरान टेली-घनत्व में तेजी से हुई वृद्धि का श्रेय के योग्य हैं। ( स्रोत – http://www.livemint.com/OpinionbiNfQImaeobXxOPV6pFxqI/The-story-of-Indias-telecom-revolution.html )

दूरसंचार क्रांति के वास्तविक जनक :

भारत में दूरसंचार क्षेत्र में क्रांति के वास्तविक जनक हैं अटल बिहारी वाजपेयी। वाजपेयी ने आम भारतीय जनता को तेज़ और सस्ती सेवाएं प्रदान करने के लिए दूरसंचार जगत में ग़ैर-सरकारी क्षेत्र को जगह दी। वाजपेयी ने इस क्षेत्र में उद्यमशीलता के लिए ठोस आधार प्रदान किया।

फिर भी कांग्रेस नेता और संभावित कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपने पिता द्वारा नहीं निभाई गई भूमिका के लिए श्रेय का दावा करने में कोई हिचकिचाहट नहीं हो रही है। ‘विवेकशील कांग्रेस’, विरोधाभासी प्रतीत होता है? हाँ, यह होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.