उत्तराखंड राज्य भाजपा सरकार हिंदू मंदिरों को हथियाने की कोशिश क्यों कर रही है?

    भाजपा सरकार इन हिंदू विरोधी संगठनों का समर्थन क्यों ले रही है और उन्हें हिंदू मंदिरों के अधिग्रहण के मामले में हस्तक्षेप करने की अनुमति क्यों दे रही है?

    0
    1203
    भाजपा सरकार इन हिंदू विरोधी संगठनों का समर्थन क्यों ले रही है और उन्हें हिंदू मंदिरों के अधिग्रहण के मामले में हस्तक्षेप करने की अनुमति क्यों दे रही है?
    भाजपा सरकार इन हिंदू विरोधी संगठनों का समर्थन क्यों ले रही है और उन्हें हिंदू मंदिरों के अधिग्रहण के मामले में हस्तक्षेप करने की अनुमति क्यों दे रही है?

    क्या धर्मांतरण एनजीओ काम पर लगे हैं?

    कोई शरारत कर रहा है। और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को इसकी तह तक जाने की जरूरत है। विश्वसनीय सूत्रों ने टीम पीगुरूज को बताया है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तराखंड सरकार ने नैनीताल उच्च न्यायालय में हिंदू मंदिरों अधिग्रहण के लिए राज्य सरकार के खिलाफ डॉ स्वामी की जनहित याचिका (पीआईएल) में हस्तक्षेप याचिका लगाने के लिए कांग्रेस और वामपंथी लॉबी का समर्थन लिया[1]

    यह अपवित्र, संदिग्ध सांठगांठ अब उजागर हो चुकी है।

    बीजेपी का यू-टर्न

    भाजपा हिंदुत्व के लिए प्रतिबद्ध थी और हिंदू मंदिरों पर सरकारी नियंत्रण के खिलाफ थी। फिर सनातन धर्म के प्रति पार्टी की प्रतिबद्धता में अचानक यू-टर्न और विश्वासघात को कोई कैसे समझे?

    डॉ स्वामी को हिंदुत्व के एजेंडे को आगे बढ़ाने से रोकने के लिए, कौन बाधा डाल रहा है? क्या यह कुछ पार्टी सदस्यों के मौन समर्थन के साथ किया जा रहा है?

    उत्तराखंड सरकार के समर्थन में हस्तक्षेप करने वाले आवेदकों के पूर्ववृत्त को देखना होगा, जो मंदिर अधिग्रहण मामले पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय में डॉ स्वामी का विरोध कर रहे हैं? भाजपा सरकार इन हिंदू विरोधी संगठनों का समर्थन क्यों ले रही है और उन्हें एक धार्मिक मामले में हस्तक्षेप करने की अनुमति क्यों दे रही है? कम्युनिस्ट नास्तिक हैं – वे मंदिरों की परवाह भला क्यों करेंगे?

    इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

    क्या ईसाई मिशनरी समूह शामिल हैं?

    ऐसा लगता है कि उत्तराखंड सरकार का समर्थन करने वाले हस्तक्षेपकर्ता और रूरल लिटिगेशन एंड एंटिटेलमेंट केंद्र नामक एनजीओ के बीच एक मजबूत संबंध है। इस एनजीओ को विदेशी और स्थानीय योगदान मिलता रहा है। भारत में उनके दानदाताओं में से एक बैपटिस्ट चर्च ट्रस्ट एसोसिएशन भी है।

    यह सिर्फ एक छोटी सी झाँकी है, आगे की जांच से कई छिपे हुए सच सामने आ सकते हैं। इससे भी बड़ा सवाल यह है कि धर्मांतरण की गतिविधि में लिप्त एक चर्च से कथित संबंध रखने वाले हिंदू विरोधी संगठन से भाजपा सरकार मिलीभगत क्यों कर रही है?

    डॉ स्वामी को कौन रोक रहा है?

    डॉ स्वामी को हिंदुत्व के एजेंडे को आगे बढ़ाने से रोकने के लिए, कौन बाधा डाल रहा है? क्या यह कुछ पार्टी सदस्यों के मौन समर्थन के साथ किया जा रहा है? क्या वे राज्य स्तर पर हैं या केंद्र में हैं? अगर इसे सिर उठाते ही कुचल नहीं दिया गया तो ये पार्टी पर अप्रत्याशित रूप से विपरित परिणाम डाल सकता है। मूल समर्थन आधार देख रहा है और खुश नहीं है; वास्तव में, यह व्याकुल है और अगले उपलब्ध क्षण में पार्टी को दंडित कर सकता है।

    यह समय है कि पार्टी उत्तराखंड सरकार के इस कदम की जांच करे और उसके मूल निर्वाचन क्षेत्र हिंदुत्व का सम्मान करे।

    संदर्भ:

    [1] उत्तराखंड के 51 मंदिरों के अधिग्रहण का मामला: भाजपा सरकार ने सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर आपत्ति दर्ज कीJun 11, 2020, hindi.pgurus.com

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.