व्हाट्सएप पे अगले 6 महीनों में भारत में विकास को गति देने के लिए तत्पर

व्हाट्सएप पर भुगतान' को अपनाने के साथ, कंपनी इसे सभी तक विस्तारित करने के लिए भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) के साथ काम कर सकती है।

0
153
व्हाट्सएप पे अगले 6 महीनों में भारत में विकास को गति देने के लिए तत्पर
व्हाट्सएप पे अगले 6 महीनों में भारत में विकास को गति देने के लिए तत्पर

अगले 6 महीनों में भारत की विकास दर दोगुनी होगी : व्हाट्सएप इंडिया

व्हाट्सएप इंडिया ने मंगलवार को कहा कि अगले छह महीनों में, वह देश भर में अपने प्लेटफॉर्म पर डिजिटल भुगतान के संबंध में महत्वपूर्ण निवेश करेगा, ताकि एक ऐसे बाजार में अपनी वृद्धि को गति दी जा सके, जहां एकीकृत भुगतान इंटरफेस (यूपीआई) आधारित भुगतानों को अपनाने वालों की तादाद बढ़ी है।

व्हाट्सएप इंडिया के निदेशक-भुगतान मनेश महात्मे के अनुसार, देश भर में यूजर्स के साथ ‘व्हाट्सएप पर भुगतान’ को अपनाने के साथ, कंपनी इसे सभी तक विस्तारित करने के लिए भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) के साथ काम करने की उम्मीद कर रही है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़ें!

उन्होंने कहा, “हम एनपीसीआई को हमारी सीमा को बढ़ाकर 40 मिलियन (20 मिलियन की प्रारंभिक सीमा से) करने के लिए धन्यवाद देते हैं। एनपीसीआई से हमारी प्रारंभिक स्वीकृति के बाद से, हम व्हाट्सएप यूजर्स के लिए एक सरल, विश्वसनीय और सुरक्षित अनुभव देने के लिए काम कर रहे हैं।” महात्मे ने एक बयान में कहा कि उम्मीद है कि ‘अगले पांच सौ मिलियन’ भारतीयों के लिए यूपीआई को अपनाने में तेजी आएगी।

पिछले हफ्ते, एनपीसीआई ने व्हाट्सएप की भुगतान सेवा के लिए यूजर कैप को मौजूदा 20 मिलियन से बढ़ाकर 4 करोड़ करने को मंजूरी दी।

महात्मे के अनुसार, मेटा-स्वामित्व वाली कंपनी ने पिछले कुछ हफ्तों में व्हाट्सएप पर भुगतान में कई भारत-विशिष्ट सुविधाएँ पेश की हैं और इसके रोमांचक परिणाम देखने को मिले हैं।

उन्होंने बताया, “अगले छह महीनों में, हमने भारत भर में व्हाट्सएप पर भुगतान में महत्वपूर्ण निवेश की योजना बनाई है, जिसमें कई और ‘इंडिया-फस्र्ट‘ फीचर्स शामिल हैं, जो हमें यकीन है कि हमारे विकास को गति देगा।”

उन्होंने कहा कि यूपीआई के लिए देश पर और भी अधिक प्रभाव डालने का एक अवसर है- विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में जहां डिजिटल और वित्तीय समावेशन लोगों के जीवन में काफी सुधार कर सकता है।

कंपनी के शीर्ष कार्यकारी ने कहा, “हम मानते हैं कि व्हाट्सएप पे एनपीसीआई और आरबीआई के लिए एक प्रमुख भागीदार हो सकता है क्योंकि हम सभी का लक्ष्य यूपीआई और वित्तीय समावेशन को सबसे ज्यादा जरूरत वाले लोगों तक पहुंचाना है।”

एनपीसीआई द्वारा जारी लेटेस्ट आंकड़ों के अनुसार, भारत में पहली बार अक्टूबर में यूपीआई के माध्यम से 7.7 लाख करोड़ रुपये (मूल्य के हिसाब से 100 अरब डॉलर से अधिक) का डिजिटल लेनदेन हुआ।

अक्टूबर के महीने में, जिसने ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर रिकॉर्ड उत्सव की खरीदारी देखी, डिजिटल भुगतान में कुल 4.2 बिलियन यूपीआई लेनदेन देखे गए। सितंबर में, एनपीसीआई ने 3.65 बिलियन यूपीआई लेनदेन के माध्यम से 6.54 लाख करोड़ रुपये का डिजिटल भुगतान दर्ज किया।

वर्तमान में, फोनपे देश में डिजिटल भुगतान के क्षेत्र में अग्रणी है। फोनपे ने 3.06 लाख करोड़ रुपये के डिजिटल लेनदेन को रजिस्टर्ड किया है। फोनपे के वर्तमान में 325 मिलियन से अधिक रजिस्टर्ड यूजर्स हैं। प्लेटफॉर्म को पूरे भारत में 22 मिलियन से अधिक मर्चेंट आउटलेट्स पर भी स्वीकार किया जाता है।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.