ओमिक्रॉन प्रभावित देशों को टीके, अन्य सहायता प्रदान करेगा भारत!

ओमिक्रॉन के बारे में पहली बार विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को 24 नवंबर, 2021 को दक्षिण अफ्रीका से सूचित किया गया था

0
501
भारत करेगा ओमिक्रॉन प्रभावित देशों की मदद
भारत करेगा ओमिक्रॉन प्रभावित देशों की मदद

ओमिक्रॉन से निपटने के लिए भारत की पहल

जहाँ एक ओर दुनिया में कोविड के नए वैरियंट ओमिक्रॉन को लेकर एक बार फिर से डर का माहौल बनने लगा है तो वहीं दूसरी ओर भारत फिर एक बार विश्व समुदाय की मदद के लिए आगे खड़ा है।

भारत सरकार ने सोमवार को अफ्रीका में नए कोविड वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन‘ की चपेट में आने वाले देशों को ‘मेड इन इंडिया‘ वैक्सीन आपूर्ति और अन्य मदद की पेशकश की है। केंद्रीय विदेश मंत्रालय ने कहा – “भारत सरकार ‘मेड इन इंडिया’ टीकों की आपूर्ति सहित ओमिक्रॉन वेरिएंट से निपटने में अफ्रीका में प्रभावित देशों का समर्थन करने के लिए तैयार है। आपूर्ति कोवैक्स या द्विपक्षीय रूप से की जा सकती है।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि इस संबंध में केंद्र सरकार ने कोवैक्स द्वारा कोविशील्ड टीकों की आपूर्ति के लिए अब तक दिए गए सभी आदेशों को मंजूरी दे दी है, जिसमें मलावी, इथियोपिया, जाम्बिया, मोजाम्बिक, गिनी और लेसोथो जैसे अफ्रीकी देश शामिल हैं।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा – “हमने बोत्सवाना को कोवैक्सिन की आपूर्ति की भी मंजूरी दे दी है। द्विपक्षीय रूप से या कोवैक्स के माध्यम से किसी भी नई आवश्यकता पर तेजी से विचार किया जाएगा।”

भारतीय संस्थान अपने अफ्रीकी समकक्षों के साथ जीनोमिक निगरानी और वायरस लक्षण-संबंधी अनुसंधान कार्य में सहयोग पर अनुकूल रूप से विचार करेंगे।

केंद्र सरकार ने अब तक अफ्रीका के 41 देशों को मेड इन इंडिया टीकों की 25 मिलियन से अधिक खुराक की आपूर्ति की है, जिसमें 16 देशों को अनुदान के रूप में लगभग एक मिलियन खुराक और 33 देशों को कोवैक्स सुविधा के तहत 16 मिलियन से अधिक खुराक शामिल हैं।

नए कोविड वेरिएंट ओमिक्रॉन के बारे में पहली बार विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को 24 नवंबर, 2021 को दक्षिण अफ्रीका से सूचित किया गया था।

इंग्लैंड के पूर्व स्टार क्रिकेटर केविन पीटरसन ने भारत के इस कदम की जमकर तारीफ की है और भारत को सबसे बेहतरीन देश कहते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘थैंक यू’ कहा है।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.