व्हाट्सएप ने 15 मई से 15 जून की अवधि के दौरान 20 लाख भारतीय एकाउंट्स पर प्रतिबंध लगा दिया

प्रतिबंधित एकाउंट्स में कई स्पैमर (फर्जीवाड़े करने वाले) एकाउंट्स शामिल हैं, जो हानिकारक या अवांछित संदेश भेजते हैं

0
658
प्रतिबंधित एकाउंट्स में कई स्पैमर (फर्जीवाड़े करने वाले) एकाउंट्स शामिल हैं, जो हानिकारक या अवांछित संदेश भेजते हैं
प्रतिबंधित एकाउंट्स में कई स्पैमर (फर्जीवाड़े करने वाले) एकाउंट्स शामिल हैं, जो हानिकारक या अवांछित संदेश भेजते हैं

व्हाट्सएप ने कई स्पैमर (फर्जीवाड़े करने वाले) अकाउंट को बैन किया

व्हाट्सएप ने दो मिलियन (20 लाख) भारतीय खातों पर प्रतिबंध लगा दिया, जबकि उसे 15 मई से 15 जून के बीच 345 शिकायत रिपोर्ट मिली, यह कंपनी ने आईटी नियमों द्वारा अनिवार्य अपनी पहली मासिक अनुपालन रिपोर्ट में कहा। नए आईटी नियमों के अनुसार पांच मिलियन से अधिक उपयोगकर्ताओं वाले बड़े डिजिटल प्लेटफॉर्म को प्राप्त शिकायतों और की गई कार्रवाई के विवरण का उल्लेख करते हुए हर महीने अनुपालन रिपोर्ट प्रकाशित करने की आवश्यकता है। प्रति माह औसतन लगभग आठ मिलियन एकाउंट्स विश्व स्तर पर प्रतिबंधित/ अक्षम होते हैं।

व्हाट्सएप ने गुरुवार को कहा – “हमारा मुख्य उद्देश्य एकाउंट्स को बड़े पैमाने पर हानिकारक या अवांछित संदेश भेजने से रोकना है। हम संदेशों की उच्च या असामान्य मात्रा भेजने वाले इन एकाउंट्स की पहचान करने के लिए उन्नत क्षमताओं को अपनाते हैं और अकेले भारत में 15 मई से 15 जून तक इस तरह के दुष्प्रयास करने वाले 20 लाख एकाउंट्स पर प्रतिबंध लगा दिया है।”

15 मई से 15 जून, 2021 के दौरान व्हाट्सएप द्वारा 63 खातों पर “कार्रवाई” की गई। व्हाट्सएप ने कहा कि शिकायत चैनलों के माध्यम से प्लेटफॉर्म द्वारा प्राप्त उपयोगकर्ता रिपोर्टों का मूल्यांकन किया जाता है और उनका जवाब दिया जाता है।

व्हाट्सएप ने स्पष्ट किया कि 95 प्रतिशत से अधिक ऐसे प्रतिबंध स्वचालित या बल्क/ अत्यधिक मैसेजिंग (स्पैम) के अनधिकृत उपयोग के कारण हैं। व्हाट्सएप ने रिपोर्ट में कहा – “रिपोर्टिंग अवधि के 30-45 दिनों के बाद हमें रिपोर्ट के बाद के संस्करणों को प्रकाशित करने की उम्मीद है ताकि डेटा संग्रह और सत्यापन के लिए पर्याप्त समय मिल सके।” फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी ने बताया कि 2019 के बाद से प्रतिबंधित एकाउंट्स की संख्या में काफी वृद्धि हुई है क्योंकि सिस्टम के सुधार में वृद्धि हुई है, और “इसलिए हम अधिक एकाउंट्स को पकड़ रहे हैं, भले ही हम मानते हैं कि बल्क या स्वचालित संदेश भेजने के प्रयास अधिक हैं”। इसमें कहा गया है कि इनमें से अधिकांश एकाउंट्स को किसी भी उपयोगकर्ता रिपोर्ट पर भरोसा किए बिना, सक्रिय रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

व्हाट्सएप ने कहा कि एकाउंट्स से व्यवहारिक संकेतों के अलावा, यह उपलब्ध “अनएन्क्रिप्टेड जानकारी” पर निर्भर करता है जिसमें उपयोगकर्ता रिपोर्ट, प्रोफाइल फोटो, समूह फोटो और विवरण के साथ-साथ उन्नत एआई टूल और संसाधन शामिल हैं जो प्लेटफॉर्म पर दुरुपयोग का पता लगाने और रोकने के लिए हैं। रिपोर्ट में, व्हाट्सएप ने कहा कि उसे कुल 345 रिपोर्ट मिली थीं, जिसमें प्रतिबंध अपील, एकाउंट्स सपोर्ट, प्रोडक्ट सपोर्ट, सुरक्षा मुद्दों और अन्य जैसी श्रेणियों में कटौती की गई। इसके खिलाफ, 15 मई से 15 जून, 2021 के दौरान व्हाट्सएप द्वारा 63 एकाउंट्स पर “कार्रवाई” की गई। व्हाट्सएप ने कहा कि शिकायत चैनल के माध्यम से प्लेटफॉर्म द्वारा प्राप्त उपयोगकर्ता रिपोर्टों का मूल्यांकन किया जाता है और उनका जवाब दिया जाता है।[1]

इसमें कहा गया है कि व्हाट्सएप पर प्रतिबंधित किये गए अधिकांश उपयोगकर्ता या तो अपने एकाउंट्स को प्रतिबंधित करने जाने के बाद पुनः बहाल करने या प्रोडक्ट या एकाउंट्स सपोर्ट के माध्यम से अपने एकाउंट्स को बहाल करने का लक्ष्य बना रहे हैं। ‘एकाउंट्स एक्शन्ड‘ (Accounts Actioned) उन रिपोर्टों को दर्शाता है जहां व्हाट्सएप ने रिपोर्ट के आधार पर उपचारात्मक कार्रवाई की। कार्रवाई करना या तो किसी एकाउंट्स पर प्रतिबंध लगाना या शिकायत के परिणामस्वरूप पहले से प्रतिबंधित एकाउंट्स को बहाल करना दर्शाता है। आईटी नियम – जो 26 मई को लागू हुए – उनमें अनिवार्य है कि महत्वपूर्ण डिजिटल प्लेटफॉर्म में विशिष्ट संचार लिंक या सूचना के कुछ हिस्सों की संख्या शामिल है जिन्हें वे स्वचालित उपकरणों का उपयोग करके सक्रिय रूप से हटायेंगे।

गूगल, कू और ट्विटर जैसे अन्य प्लेटफॉर्म पहले ही अपनी अनुपालन रिपोर्ट जमा कर चुके हैं। इंस्टाग्राम और फेसबुक ने भी अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। आईटी नियमों को डिजिटल प्लेटफॉर्म के दुरुपयोग को रोकने और उपयोगकर्ताओं को शिकायत निवारण के लिए एक मजबूत मंच प्रदान करने के लिए तैयार किया गया है। इन नियमों के तहत, सोशल मीडिया कंपनियों को 36 घंटे के भीतर फ़्लैग (चिंहित) की गई सामग्री को हटाना होगा और 24 घंटे के भीतर नग्नता और अश्लीलता के लिए फ़्लैग की गई सामग्री को हटाना होगा।

नियम तीन प्रमुख कर्मियों – शिकायत अधिकारी, मुख्य अनुपालन अधिकारी और नोडल अधिकारी की नियुक्ति को भी अनिवार्य बनाते हैं। इन अधिकारियों को भारत का निवासी होना चाहिए। आईटी नियमों का पालन न करने के परिणामस्वरूप इन प्लेटफार्मों को अपनी मध्यस्थ स्थिति, जो उन्हें उनके प्लेटफॉर्म पर पोस्ट किए गए किसी भी थर्ड पार्टी डेटा पर देनदारियों से प्रतिरक्षा प्रदान करती है, खोनी पड़ेगी।

[पीटीआई इनपुट्स के साथ]

संदर्भ:

[1] WhatsApp bans 2 million accounts under new IT rulesJul 15, 2021, Business line

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.