अमेरिकी प्रतिबंध – आज तुर्की, क्या अगला नंबर भारत का है?

तुर्की द्वारा S-400 का अधिग्रहण उसे बहुत महंगा पड़ने जा रहा है और भारत के साथ भी यही हो सकता है!

0
561
तुर्की द्वारा S-400 का अधिग्रहण उसे बहुत महंगा पड़ने जा रहा है और भारत के साथ भी यही हो सकता है!
तुर्की द्वारा S-400 का अधिग्रहण उसे बहुत महंगा पड़ने जा रहा है और भारत के साथ भी यही हो सकता है!

तुर्की द्वारा खरीदे गए एस-400 मिसाइल सिस्टम और सीरिया में उसके कुप्रबंधन उलटे पड़ने वाले है। रिपब्लिकन की अगुवाई वाली सीनेट विदेश संबंध समिति ने S.2641 को लागू करने के लिए 18-4 मतदान किया: अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा को बढ़ावा देना और आईएसआईएस के पुनरुत्थान को रोकने के 2019 के अधिनियम[1] को पूर्ण सीनेट में मतदान के लिए भेजा है। और 18-4 का अंतर वस्तुतः सीनेट में स्वीकृति सुनिश्चित करता है और तुर्की के खिलाफ राष्ट्रपति ट्रम्प को बहुत मजबूत कार्यवाही करने के लिए मजबूर करेगा।

समिति के रिपब्लिकन चेयरमैन सीनेटर जिम रिस्च और समिति में शीर्ष डेमोक्रेट सीनेटर बॉब मेनेंडेज़ इस बिल के प्रायोजक थे और दोनों ने इसके लिए मतदान किया, जबकि सीनेटर रैंड पॉल ने इसका विरोध किया। उन्होंने कहा कि इससे राष्ट्रपति की तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के साथ बातचीत करने की शक्ति कमजोर हो जाएगी।

अन्य सीनेटर डटकर असहमत थे। कई सांसद, ट्रम्प के साथी रिपब्लिकन के साथ-साथ डेमोक्रेट भी तुर्की की एस -400 खरीद को लेकर गुस्से में हैं, जिसे वे उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के बचाव के लिए एक खतरे के रूप में देखते हैं। नाटो में 29 सदस्य हैं और तुर्की उनमें से एक है[2]

अमेरिकी कांग्रेस पहले ही अपना संस्करण पारित कर चुकी है

प्रतिनिधि सभा ने, 403-16 वोट के साथ अक्टूबर में तुर्की प्रतिबंधों के बिल का अपना संस्करण पारित किया। जब S.2641 सीनेट में पारित हो जाता है, तो हाउस बिल और सीनेट बिल को विलय कर दिया जाएगा और फिर राष्ट्रपति को उनके हस्ताक्षर के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। जिस बहुमत के साथ प्रतिबंधों को पारित किया जा रहा है, उसे देखते हुए, ट्रम्प को इसे वीटो करना बहुत मुश्किल होगा (अमेरिकी कांग्रेस उन्हें हटा (महाभियोग) देगी, और उन्हें सीनेट को इसके खिलाफ वोट करने की आवश्यकता होगी या वह इतिहास बन जाएंगे)। ट्रम्प शिकायत करेंगे, लेकिन जब वास्तविकता सामने आएगी, तो वह बिंदीदार रेखा पर हस्ताक्षर करेंगे। एक वैकल्पिक परिदृश्य भी है। यदि कांग्रेस और सीनेट दोनों संयुक्त बिल पर फिर से मतदान करते हैं और यदि वह 2/3 से अधिक अंतर से पारित होता है, तो ट्रम्प भी इसे वीटो नहीं कर सकते हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

भारत का क्या होगा ?

एक बार जब तुर्की को हटा दिया जाता है और उसकी राह कठिन हो जाती है, तो अमेरिका अपना ध्यान भारत की ओर मोड़ देगा। डेमोक्रेट उनके अनुच्छेद 370 के विरोध (यह अलग बात है कि बहुत से लोग इस बात से अनभिज्ञ हैं कि 370 हटने से क्या हासिल हुआ है) या अब नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध पर मुखर रहे हैं। यूएससीआईआरएफ ने पहले ही जोर जोर से शोर मचाना शुरू कर दिया है। एक सांकेतिक हिंदू प्रतिनिधि के साथ जो जवाब देना उचित नहीं समझती है और एक कार्यालय जो कभी फोन नहीं उठाता है, उन्हें वास्तविकता को दिखाने की कोशिश करने का कोई भी प्रयास निरर्थक होगा।

मुझे कहने से नफरत है, “मैंने तो आपको पहले ही कहा था!” लेकिन इस विषय पर पीगुरूज पर लम्बी बहस हुई है[3]। भारत की आर्थिक वृद्धि में लगातार गिरावट आ रही है और अमेरिका द्वारा प्रतिबंध (क्या यूरोपीय संघ इसका अनुसरण करेगा?) वास्तव में अर्थव्यवस्था को पंगु बना सकता है। श्रीमान मोदी, क्या आप सुन रहे हैं?

संदर्भ:

[1] Promoting American National Security and Preventing the Resurgence of ISIS Act of 2019Dec 11, 2019, Reuters.com

[2] NATO members – express.co.ok

[3] Hangout with Prof M D Nalapat on S-400 acquisitions and why it is bad for IndiaJul 1, 2019, YouTube PGurus channel

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.