असभ्य वामपंथी इतिहासकार उजागर – अयोध्या में मिले पुराने मंदिर के अवशेष। अब संदेह से परे साबित हो गया कि मस्जिद राम मंदिर को नष्ट करके बनाई गई थी

राम मंदिर के अस्तित्व वाली भूमि पर खुदाई में 5 फुट लंबा शिवलिंग, खंभे और बहुत कुछ का पता लगा

1
815
राम मंदिर के अस्तित्व वाली भूमि पर खुदाई में 5 फुट लंबा शिवलिंग, खंभे और बहुत कुछ का पता लगा
राम मंदिर के अस्तित्व वाली भूमि पर खुदाई में 5 फुट लंबा शिवलिंग, खंभे और बहुत कुछ का पता लगा

झूठे, बड़े झूठे, और वामपंथी इतिहासकार

अयोध्या में पुराने ऐतिहासिक राम मंदिर को ध्वस्त करके बाबरी मस्जिद का निर्माण किया गया था, जो हर सनातनी जानता था कि वह सार्वजनिक क्षेत्र में है। नए राम मंदिर के निर्माण गतिविधियों के संबंध में 11 मई को शुरू हुई भूमि समतलीकरण गतिविधियों में पुराने ऐतिहासिक मंदिर के कई हिस्से पाए गए हैं। ये निष्कर्ष 1975 और 2002 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की दो रिपोर्टों को पुराने राम मंदिर के अस्तित्व पर पुष्टि करते हैं। असभ्य वामपंथी इतिहासकारों (इतिहास से छेड़छाड़ करने वाले उपयुक्त शब्द है) जैसे कि असभ्य इरफान हबीब और नेहरूवादी मिलावटबाज (मिक्सर) रोमिला थापर और उनके सहयोगियों का क्या कहना है? क्या आपके मुँह में दही जम गया है?

पांच फुट लंबे शिवलिंग का पता लगा

शुक्रवार को, श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र, अयोध्या के महासचिव चंपत राय ने कहा कि अयोध्या राम जन्मभूमि मंदिर में पांच फुट का शिवलिंग, सात काले पत्थर के स्तंभ, लाल बलुआ पत्थर के छह खंभे और देवी-देवता की टूटी हुई मूर्तियाँ मिलीं। उन्होंने कहा कि पिछले 10 दिनों से मलबे को हटाया जा रहा है और स्थल पर भूमि को समतल किया जा रहा है। यह इस प्रक्रिया के दौरान था कि स्तंभों और अन्य संरचनाओं की खोज की गई थी।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट (श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने ट्वीट किया: “यह कार्य 11 मई, 2020 को शुरू हुआ। तब से खुदाई के दौरान कई वस्तुओं की खोज हुई है। इसमें पुरातात्विक महत्व की कई वस्तुएं शामिल हैं जैसे पत्थर से बने फूल, कलश, आमलक, दोरजम्ब आदि।”

एएसआई अधिकारी केके मुहम्मद सही साबित हुए

वरिष्ठ एएसआई अधिकारी केके मुहम्मद जो 1975-76 में पहली खुदाई का हिस्सा थे और पिछले 20 वर्षों से हर मंच से कह रहे थे कि उन्हें बाबरी मस्जिद के नीचे एक पुराने हिंदू मंदिर के अवशेष मिले हैं। कई साक्षात्कारों में, उन्होंने बताया कि कैसे इरफान हबीब जैसे वामपंथी इतिहासकारों द्वारा उन्हें परेशान किया गया, इरफान हबीब चालें चलने और असभ्य व्यवहार दिखाने के लिए कुख्यात हैं[1]

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी सुप्रीम कोर्ट में अपनी हस्तक्षेप याचिका में इलाहाबाद उच्च न्यायालय को प्रस्तुत 2003 की एएसआई रिपोर्ट का प्रस्तुतिकरण किया था, जो स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि पुराने हिंदू मंदिर को नष्ट करके मुगलों द्वारा विवादास्पद मस्जिद का निर्माण किया गया था[2]

अब शाश्वत सत्य बाहर है। श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ने ट्वीट्स की श्रृंखला में पुराने मंदिर के अवशेषों की तस्वीरें उजागर की:

इतिहास से छेड़छाड़ करने वालों से कहने का समय आ गया है – जय श्री राम!

संदर्भ:

[1] Babri Masjid dispute was the outcome of historical blunder: ex-ASI Regional Director K K MuhammedJan 12, 2018, PGurus.com

[2] एएसआई की रिपोर्ट ने कोर्ट को स्पष्ट रूप से बताया कि बाबरी मस्जिद अयोध्या में एक विशाल मंदिर को नष्ट करके बनाई गई थीNov 12, 2019, hindi,pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.