सिस्टर अभया हत्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति साइरैक जोसेफ की संदिग्ध भूमिका

यूपीए सरकार ने जिन कपटपूर्ण तरीकों से काम किया है, वह लगातार सामने आते रहे हैं - साइरैक जोसेफ इसका एक और शानदार उदाहरण है!

0
590
यूपीए सरकार ने जिन कपटपूर्ण तरीकों से काम किया है, वह लगातार सामने आते रहे हैं - साइरैक जोसेफ इसका एक और शानदार उदाहरण है!
यूपीए सरकार ने जिन कपटपूर्ण तरीकों से काम किया है, वह लगातार सामने आते रहे हैं - साइरैक जोसेफ इसका एक और शानदार उदाहरण है!

साइरैक जोसेफ अपने दीन के गौरव की रक्षा करने के लिए आरोपियों को बचाने की कोशिश तक गिर गए

आखिरकार सिस्टर अभया मामले में न्याय मिलने के साथ ही सेवानिवृत्त सर्वोच्च न्यायालय न्यायाधीश साइरैक जोसेफ की विवादस्पद भूमिका का भी उल्लेख किया जाना चाहिए। उन्होंने आरोपी कैथोलिक पादरी और नन को बचाने के लिए मामले में सभी तरह की बाधाएं डालीं। दोषियों को रात के समय कॉन्वेंट की रसोई में शारीरिक संबंध बनाते सिस्टर अभया ने देख लिया और इसीलिए दोषियों ने उसकी हत्या कर दी थी। साइरैक जोसेफ, जो खुद भी ईसाई संप्रदाय से संबंधित हैं, अपने दीन के गौरव की रक्षा करने के लिए आरोपियों को बचाने की कोशिश तक गिर गए। वह केरल में एक अतिरिक्त महाधिवक्ता थे जब मार्च 1992 में सिस्टर अभया की हत्या कर दी गई थी और 1994 में उन्हें उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था।

जोसेफ कर्नाटक उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने

कई लोग साइरैक जोसेफ पर निजी तौर पर जाँच से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाते हैं, सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति की कलई तब खुली जब उन्होंने 2008 में बेंगलुरु में नार्को विश्लेषण लैब के निष्कर्षों में हस्तक्षेप किया था। याद रखें कि उस समय केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), जिसे केरल की अदालतों से फटकार लगी थी, ने अभियुक्तों को गिरफ्तार किया था और वे जेल में थे और उन्हें नार्को विश्लेषण परीक्षण के लिए बैंगलोर लाया गया था और तब विवादास्पद साइरैक जोसेफ कर्नाटक उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश थे। उन्हें नार्को विश्लेषण लैब में मुखबिरों द्वारा पकड़ा गया था और 2009 के मध्य में यह मामला मीडिया में काफी गर्मा गया था और उसी समय साइरैक जोसेफ को सर्वोच्च न्यायालय के लिए पदोन्नत कर दिया गया।

मजिस्ट्रेट ने सीबीआई के पहले निष्कर्षों को खारिज कर आदेश दिया था कि वह उस कॉन्वेंट का दौरा करना चाहते हैं, जहाँ हत्या हुई थी। कुछ ही दिनों के भीतर, मजिस्ट्रेट को स्थानांतरित (ट्रांसफर) कर दिया गया, फाइलें तलब की गईं और उनके आदेश को रद्द कर दिया गया।

सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश ने भी एक भूमिका निभाई

अगस्त 2009 को, सीबीआई ने केरल उच्च न्यायालय को सूचित किया कि कर्नाटक के मुख्य न्यायाधीश साइरैक जोसेफ ने आरोपी का नार्को-विश्लेषण टेप देखा था[1]। दिलचस्प बात यह है कि 2010 में सर्वोच्च न्यायालय के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश केजी बालकृष्णन ने नार्को-विश्लेषण की वैधता को नकार (रद्द) दिया था। लेकिन साइरैक जोसेफ ने राज्य के मुख्य न्यायाधीश के रूप में अपनी शक्ति का दुरुपयोग क्यों किया और आरोपी के नार्को-विश्लेषण टेप को क्यों देखा, जबकि वह 1992 से मामले का विवरण जानते थे?

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

संप्रदाय सर्वप्रथम

मामले में फंसने पर, मुख्य अतिथि के रूप में सभी सांप्रदायिक कार्यों में हिस्सा लेने वाले साइरैक जोसेफ ने यह दावा किया कि मैं सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश हूं, लेकिन फिर भी मेरा धर्म मेरे लिए सर्वोच्च है। उनके ऐसे विवादास्पद भाषणों के कई वीडियो इंटरनेट पर उपलब्ध हैं।

जोसेफ की भूमिका को एक मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा उजागर किया गया

अब फैसले के बाद, कुछ दिनों पहले, सेवानिवृत्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) वीटी रघुनाथ, जिन्होंने पहले सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट पर आपत्ति प्रकट की थी, ने साइरैक जोसेफ की भूमिका का खुलासा किया था। मजिस्ट्रेट ने सीबीआई के पहले निष्कर्षों को खारिज कर आदेश दिया था कि वह उस कॉन्वेंट का दौरा करना चाहते हैं, जहाँ हत्या हुई थी। कुछ ही दिनों के भीतर, मजिस्ट्रेट को स्थानांतरित (ट्रांसफर) कर दिया गया, फाइलें तलब की गईं और उनके आदेश को रद्द कर दिया गया।

जोसेफ की मुख्य न्यायाधीश के रूप में खराब कार्यकाल

सर्वोच्च न्यायालय में साइरैक जोसेफ का तीन साल का कार्यकाल (2008-2012), सबसे खराब कार्यकालों में से एक था। तत्कालीन केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने जोसेफ की सेवानिवृत्ति के बाद टेलीकॉम ट्रिब्यूनल चेयरपर्सन (न्यायाधिकरण प्रमुख) के रूप में उनकी नियुक्ति पर आपत्ति जताई थी। सिब्बल ने अपने पत्र में कहा था कि पिछले तीन सालों में उन्होंने सिर्फ सात फैसले दिए और बिना फैसला सुनाए मामला छोड़ने की बुरी आदत उनमें है। कानूनी हलकों में, कई लोग कहते हैं कि उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश के रूप में, न्यायमूर्ति साइरैक जोसेफ ने अपनी कुल 18-वर्षीय सेवा के दौरान 1000 से अधिक मामलों को बिना निर्णय दिये छोड़ा है[2]!

एनएचआरसी में नियुक्ति

हालांकि कपिल सिब्बल ने टेलिकॉम ट्रिब्यूनल से साइरैक जोसेफ को बाहर करने में कामयाबी हासिल की, लेकिन पूरी कैथोलिक मंडली उनके पीछे पड़ गयी और जोसेफ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया। संसद में उन दिनों, यहाँ तक कि भाजपा ने भी आपत्ति जताते हुए पूछा था कि ऐसे बेकार व्यक्ति को एनएचआरसी में कैसे नियुक्त किया जा सकता है। लेकिन जोसेफ एनएचआरसी में बने रहे और 2017 में कार्यवाहक अध्यक्ष के रूप में सेवानिवृत्त हुए और अब अपने गृह राज्य केरल के भ्रष्टाचार विरोधी फोरम लोकायुक्त के प्रमुख के रूप में जीवन का आनंद ले रहे हैं।

संदर्भ:

[1] CBI: Justice Cyriac Joseph viewed narco test tapAug 11, 2009, Indian Express

[2] Controversy on appointment of Justice Cyriac Joseph as the head of TDSATMar 04, 2013, Economic Times

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.