स्वामी ने प्रधानमंत्री से आरबीआई को खेत और कृषि क्षेत्र ऋणों के निषेध को पुनर्गठन पैकेज में शामिल करने के लिए निर्देश देने का आग्रह किया

स्वामी ने पीएम को पत्र लिखकर किसानों के कल्याण के लिए कार्यवाही करने का आग्रह किया है

0
336
स्वामी ने पीएम को पत्र लिखकर किसानों के कल्याण के लिए कार्यवाही करने का आग्रह किया है
स्वामी ने पीएम को पत्र लिखकर किसानों के कल्याण के लिए कार्यवाही करने का आग्रह किया है

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सोमवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) को खेत और कृषि ऋणों को ऋण स्थगन (निषेध) के पुनर्गठन के लिए हाल ही की प्रस्ताव रूपरेखा में शामिल करने के निर्देश देने का आग्रह किया। अपने पत्र में, स्वामी ने बताया कि हाल ही में आरबीआई द्वारा जारी किए गए परिपत्र में स्थगन पुनर्गठन पैकेज से खेत और कृषि ऋण को शामिल न करने का निर्देश दिया गया है। यह परिपत्र भारत सरकार द्वारा ऋण स्थगन पर चल रहे मामले पर सर्वोच्च न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था और स्वामी ने मोदी से आग्रह किया कि वे इस प्रकार के परिपत्रों का मसौदा तैयार करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करें, जो किसानों के हित के विरोध में हैं।

“ऋणों के अधिस्थगन पर कोविड -19 के लिए आरबीआई प्रस्ताव की रूपरेखा (डीओआर. नम्बर . बीपी. बीसी / 3 / 21.04.048 / 2020-21 दिनांक 6 अगस्त, 2020) विशेष रूप से कहता है कि किसानों और कृषि क्षेत्र को दिये ऋण अधिस्थगन पैकेज में शामिल नहीं होंगे।” सुप्रीम कोर्ट में चल रहे मामले में, भारत सरकार ने प्रतिवादी के रूप में आरबीआई को अपना बचाव करने के लिए समर्थन दिया है।

स्वामी ने आरबीआई के उस परिपत्र में विसंगतियों पर ध्यान दिलाया जिसमें स्थगन पुनर्गठन योजना से खेत और कृषि ऋण शामिल नहीं हैं, – “इस अधिसूचना के अनुबंध में पैरा 2 बी और सी के अनुसार कृषि ऋण और प्राथमिक कृषि साख समितियों (पीएसीएस), किसानों की सेवा समितियों (एफएसएस) और बड़े आकार के आदिवासी बहुउद्देश्यीय सोसायटी (एलएएमपीएस) को दिये ऋण को प्रस्ताव रूपरेखा में शामिल नहीं किया जायेगा। इसका मतलब है कि किसानों और समाज के इसी तरह के कमजोर वर्गों को कोविड -19 महामारी के कारण मंजूर किए गए अधिस्थगन पैकेज में इस प्रस्ताव रूपरेखा के लाभ से बाहर रखा गया है,” इस लेख के नीचे स्वामी का विस्तृत पत्र प्रकाशित हुआ है।

स्वामी ने पीएम से आग्रह किया कि वे खेत और कृषि ऋणों को स्थगन पैकेज में शामिल करने के लिए वित्त मंत्रालय और आरबीआई को निर्देश दें। स्वामी ने कहा – “जैसा कि मामला उच्चतम न्यायालय के समक्ष है और 10 सितंबर को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है, इसके लिए सरकार से तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है, जो सबसे पहले किसानों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। मैं आपसे यह पता करने का भी आग्रह करता हूँ कि ऐसे परिपत्र (सर्कुलर) जारी करने के पीछे कौन है या वह जो इस तरह के परिपत्र जारी करने में बुद्धि का उपयोग नहीं कर रहा है।

सुब्रमण्यम स्वामी का पीएम को पत्र नीचे प्रकाशित किया गया है:

Letter to Prime Minister by PGurus on Scribd

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.