चुनिंदा आक्रोश – “मेरा पत्रकार” बनाम “तुम्हारा पत्रकार” लक्षण अब चरम पर है

मुख्यधारा की मीडिया (एमएसएम) में अब यह फैशन बन गया है कि कोई व्यक्ति किसी मुद्दे पर चुप क्यों हैं उसे लेकर उपद्रव मचाना और स्वयं उसपर हल्ला मचाकर दोषारोपण करना। कभी कभी शोर कान फाड़ने वाला होता है!

0
614
मुख्यधारा की मीडिया (एमएसएम) में अब यह फैशन बन गया है कि कोई व्यक्ति किसी मुद्दे पर चुप क्यों हैं उसे लेकर उपद्रव मचाना और स्वयं उसपर हल्ला मचाकर दोषारोपण करना। कभी कभी शोर कान फाड़ने वाला होता है!
मुख्यधारा की मीडिया (एमएसएम) में अब यह फैशन बन गया है कि कोई व्यक्ति किसी मुद्दे पर चुप क्यों हैं उसे लेकर उपद्रव मचाना और स्वयं उसपर हल्ला मचाकर दोषारोपण करना। कभी कभी शोर कान फाड़ने वाला होता है!

हर कोई खुद को निष्पक्ष और तटस्थ कहलाना चाहता है लेकिन उनके शब्द उनके झुकाव को धोखा देते हैं

यह वह समय है जब पत्रकारों और मीडिया घरानों पर मुकदमे चल रहे हैं – दाएँ, बाएँ और केंद्र। लेकिन पत्रकारिता के अपने समृद्ध इतिहास में, भारत अपनी दिशा खोता दिखाई देता है। हर कोई खुद को निष्पक्ष और तटस्थ कहलाना चाहता है लेकिन उनके शब्द उनके झुकाव को धोखा देते हैं। मुझे यह कहने में कोई दिक्कत नहीं है कि सिद्धार्थ वरदराजन यह कहते हैं कि वह वामपंथी हैं और वामपंथी झुकाव के साथ लिखते हैं। आखिरकार, फॉक्स न्यूज अपने दक्षिणपंथी झुकाव को नहीं छिपाता है। भारत में जो विचित्र है, वह यह है कि कुछ मामलों में, मीडिया के कुछ वर्ग एक विशेष पुलिस मामले का विरोध करेंगे, जबकि एक अन्य पुलिस मामले का राजनीतिक आधार पर समर्थन करेंगे! दूसरे शब्दों में, एमएसएम को ‘बाबू’ के नियम से खेलना पसंद है, “मुझे चेहरा दिखाओ और मैं तुम्हें नियम दिखाऊंगा!” यहाँ कुछ मामलों और मीडिया के विरोधाभासों पर एक नज़र है।

अर्नब और सिद्धार्थ

बुधवार को रिपब्लिक टीवी के मालिक-सह-संपादक अर्नब गोस्वामी से कोविड-19 महामारी के दौरान, बंद के दौरान अपने मूल स्थान पर वापस जाने की मांग कर रहे लोगों द्वारा बांद्रा रेलवे स्टेशन पर लोगों के पीछे छिपे हुए खेल के बारे में रिपोर्ट करने के बाद दर्ज मामले पर मुंबई पुलिस ने चार घंटे तक पूछताछ की। अर्नब गोस्वामी पर पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ कठोर टिप्पणी करने का आरोप लगाया गया था और उनके स्टूडियो डिजाइनर की आत्महत्या के लिए उकसाने हेतु फिर से जांच का सामना करना पड़ा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सिद्धार्थ वरदराजन की फर्जी रिपोर्टिंग पूरी तरह से शरारती थी और हमें इस बात का संकेत देती है कि वह भाजपा और हिंदुत्व को कैसे देखते हैं।

अर्नब के मामले में, वर्तमान में एक दक्षिणपंथी समर्थक होने के नाते, कई दक्षिणपंथी उनके खिलाफ मामलों को आरोपित करने का विरोध करते हैं, जबकि उनके विरोधी कांग्रेस और वामपंथी उन्हें दंडित करना चाहते थे। स्थिति तब उलट जाती है जब उत्तर प्रदेश सरकार वामपंथ-समर्थक और भाजपा विरोधी पोर्टल द वायर के संपादक सिद्धार्थ वरदराजन के खिलाफ मामला दर्ज करती है।

सिद्धार्थ और पत्रकार

अब हम दिल्ली दंगों के आरोपी खालिद सैफी के साथ कई पत्रकारों के संबंधों का खुलासा करते हैं। पत्रकार राजदीप सरदेसाई, सिद्धार्थ वरदराजन, राणा अय्यूब, आरफ़ा खानम, रवीश कुमार, और अभिसार शर्मा अब उसके साथ नज़र आते हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया के रेडियो मिर्ची की जॉकी सईमा भी उसके साथ पाई गईं और उन्होंने अपने कार्यक्रमों में लोगों को विरोध स्थलों तक पहुंचने और यहां तक कि दिल्ली दंगों के दौरान दिल्ली पुलिस हेड क्वार्टर के सामने विरोध करने और नागरिकता संशोधन संशोधन अधिनियम (सीएए) के दौरान अन्य संबंधित हिंसा के बारे में भी घोषणा की, जो पूरी तरह से जेहादी तत्वों द्वारा तैयार किया हुआ, वामपंथी और कांग्रेस नेताओं द्वारा समर्थित था। उन्होंने इसके बारे में ट्वीट भी किया था। इन घटनाओं के कारण अंततः दिल्ली में 53 लोगों की मौत हो गई और हजारों लोग घायल हो गए। पीगुरूज ने आरोपी खालिद सैफी के साथ इन पत्रकारों के फोटो साक्ष्य के साथ एक रिपोर्ट प्रकाशित की, खालिद अभी भी दिल्ली पुलिस की हिरासत में है[1]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

मुंबई पुलिस या उत्तर प्रदेश पुलिस के विपरीत, केंद्र सरकार के तहत दिल्ली पुलिस ने अभी तक किसी भी पत्रकार को उस खालिद सैफी के साथ उनके संबन्ध पर जांच करने के लिए नहीं बुलाया है, जिसे दिल्ली दंगों के मास्टरमाइंडों में से एक के रूप में आरोपित किया गया है जिन दंगों के परिणामस्वरूप फरवरी 2010 में 53 लोगों की मौत हो गई थी। कम से कम दिल्ली पुलिस लोगों को विरोध स्थलों तक पहुंचने के लिए कहने के लिए रेडियो जॉकी सईमा को बुला सकती थी। वास्तव में, भीड़ को भड़काने के गलत काम के लिए रेडियो जॉकी सईमा को आरोपित किया जाना चाहिए। यदि यह भीड़ को उकसाने वाला नहीं है, तो इन आरोपों की परिभाषा क्या होगी?

वापस अर्नब और सिद्धार्थ पर

अब वापस अर्नब गोस्वामी और सिद्धार्थ वरदराजन मामलों पर आते हैं। दोनों ही संत नहीं हैं। दोनों ने अपने करियर में कई शरारती गतिविधियां की हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सिद्धार्थ वरदराजन की फर्जी रिपोर्टिंग पूरी तरह से शरारती थी और हमें इस बात का संकेत देती है कि वह भाजपा और हिंदुत्व को कैसे देखते हैं[2]। अब लॉकडाउन के कारण, मामला अभी भी अपने प्रारंभिक चरण में है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई बार व्यक्तिगत हमला किया गया जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

मेरी विनम्र राय में, अर्नब गोस्वामी सोनिया गांधी पर अपनी भाषा के चयन में गलत थे। वह स्क्रीन पर चिल्ला रहे थे कि क्यों सोनिया गांधी पालघर में दो संतों की हत्या पर चुप थीं। लेकिन उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या गृह मंत्री अमित शाह या एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार की चुप्पी पर सवाल नहीं उठाय! चित्त भी मेरी पट्ट भी मेरी! मुख्यधारा की मीडिया (एमएसएम) में अब यह फैशन बन गया है कि कोई व्यक्ति किसी मुद्दे पर चुप क्यों हैं उसे लेकर उपद्रव मचाना और स्वयं उसपर हल्ला मचाकर दोषारोपण करना। कभी-कभी शोर कान फाड़ने वाला होता है!

वामपंथ का विश्वासपात्र अब दक्षिणपंथी हो गया

अर्नब गोस्वामी का दक्षिणपंथ की ओर झुकाव उनके व्यवसाय से जुड़ा हुआ है। हमने देखा है कि तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी, पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय सुषमा स्वराज और श्रीलंका के राष्ट्रपति को सुब्रमण्यम स्वामी के पत्र पर उनकी फर्जी रिपोर्टिंग के बारे में उन्होंने क्या किया था[3]। यूपीए शासन के दौरान अरनब कभी कांग्रेस के पक्के चेले थे। दूसरी ओर, एक तरफ मुंबई पुलिस (शिव सेना-कॉंग्रेस-एनसीपी के तहत) भी अर्नब गोस्वामी के मामले में अति करते हुए उनसे घंटों तक पूछताछ करती रही। कांग्रेस पार्टी सत्ता में होने पर अपना शक्ति प्रदर्शन करने से कभी नहीं शर्माती है। वे अपने विरोधियों के खिलाफ कार्रवाई में निर्दयी हैं, जबकि भाजपा इन मुद्दों पर नरम पड़ती है। एनडीटीवी के मामले को ही लें।

एनडीटीवी अभी भी मुक्त है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई बार व्यक्तिगत हमला किया गया जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे। एनडीटीवी उनके खिलाफ कई दुर्भावनापूर्ण कहानियों के साथ सबसे आगे था। लेकिन फिर भी, सीबीआई और ईडी को बैंक घोटालों और मनी लॉन्ड्रिंग के लिए एनडीटीवी के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल करना बाकी है। क्यों? क्योंकि इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि दक्षिणपंथी इन सवालों को क्यों नहीं पूछते हैं और इसके बजाय महाराष्ट्र में कांग्रेस नियंत्रित शासन द्वारा अर्नब गोस्वामी के खिलाफ दायर मामलों पर क्यों रोते हैं?

कानून सभी के लिए समान है। किसी भी अपराध पर आवाज उठाई जानी चाहिए और उस पर कार्रवाई की जानी चाहिए। बहाने का समय अब खत्म हो गया।

संदर्भ:

[1] कई पत्रकार दिल्ली दंगों के मामलों के आरोपी जेहादी खालिद सैफी से अपने संबंधों के लिए उजागर हुएJun 10, 2020, hindi.pgurus.com

[2] FIRs filed against The Wire Founder-Editor Siddharth Varadarajan for spreading fake news about Yogi AdityanathApr 01, 2020, OpIndia

[3] Dr Subramanian Swamy vs Arnab Goswami: The Nation now knows how Swamy showed Goswami his place!Nov 11, 2014, India News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.