रिलायंस जियो ने किया मेटावर्स क्षेत्र में अमेरिकी स्टॉर्टअप में 25% हिस्सेदारी खरीदने का एलान

जियो और टू साथ मिलकर नई तकनीकी को जल्द से जल्द अपनाने पर काम करेंगे। और एआई, मेटावर्स और मिक्स्ड रियल्टीज जैसी डिसरप्टिव तकनीकी तैयार करेंगे।

0
298
रिलायंस जियो जल्द मेटावर्स की दुनिया में रखेगी कदम!
रिलायंस जियो जल्द मेटावर्स की दुनिया में रखेगी कदम!

रिलायंस जियो जल्द मेटावर्स की दुनिया में रखेगी कदम!

मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज की टेलीकॉम इकाई जियो प्लेटफॉर्म्स ने आज (4 फरवरी) सिलिकॉन वैली के एक स्टार्टअप में निवेश का एलान किया है। मार्केट कैप के हिसाब से देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस सिलिकॉन की डीप-टेक स्टार्टअप टू प्लेटफॉर्म्स आईएनसी में 1.5 करोड़ डॉलर (112.06 करोड़ रुपये) का निवेश करेगी। इस स्टार्टअफ की शुरुआत प्रणव मिस्त्री ने जुलाई 2021 में की थी। सौदे के पूरा होने के बाद टू प्लेटफॉर्म्स में रिलायंस जियो की 25 फीसदी हिस्सेदारी हो जाएगी। दोनों कंपनियां मिलकर मेटावर्स जैसी तकनीकी पर फास्ट ट्रैक में काम करेंगे।

‘टू प्लेटफॉर्म्स’ एक आर्टिफिशियल रियल्टी कंपनी है जिसका फोकस इंटरैक्टिव व इम्मर्शियल एआई (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) एक्सपीरिएंस तैयार करना है। टू का मानना है कि एआई के लिए टेक्स्ट और वॉइस के बाद अब अगला दौर विजुअल और इंटरेक्टिव का है यानी कि किसी से बात करने के लिए सिर्फ टेक्स्ट या वाइस के बाद अब जल्द ही ऐसे महसूस कर सकेंगे कि आमने-सामने बैठकर चर्चा हो रही है। कंपनी का आर्टिफिशियल रियल्टी प्लेटफॉर्म रीयल टाइम में एआई वाइसवीडियो कॉल्स, डिजिटल ह्यूमन्स, इम्मर्सिव स्पेसेज और लाइफलाइक गेमिंग को एनेबल करता है। कंपनी की योजना पहले अपने इंटरेक्टिव एआई तकनीकी को कंज्यूमर एप्लीकेशंस के लिए लाने की है और फिर इसे एंटरटेनमेंट व गेमिंग और रिटेल, सर्विसेज, एजुकेशन, हेल्थ व वेलनेस जैसे एंटरप्राइजेज सॉल्यूशंस के लिए लाया जाएगा।

रिलायंस जियो ने अपने बयान में कहा है कि टू की फाउंडिंग टीम के पास दिग्गज तकनीकी कंपनियों के साथ रिसर्च, डिजाइन और ऑपरेशन का कई वर्षों का अनुभव है। जियो और टू साथ मिलकर नई तकनीकी को जल्द से जल्द अपनाने पर काम करेंगे। और एआई, मेटावर्स और मिक्स्ड रियल्टीज जैसी डिसरप्टिव तकनीकी तैयार करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.