वास्तविक भारतीय इतिहास – भाग ४

ग़ज़नवी के पतन के बाद हिंदुत्व के लिए अगली चुनौती ग़ोरी राजवंश, जो कि ईरानी/ताजिक मूल का एक ममलुक राजवंश था, के रूप में आई |

1
455

इस उल्लेख के पिछले भाग यहां पाए जा सकते हैं – भाग १, भाग २, और भाग ३ |  यह भाग ४ है |

ग़ोरी राजवंश

ग़ज़नवी के पतन के बाद हिंदुत्व के लिए अगली चुनौती ग़ोरी राजवंश, जो कि ईरानी/ताजिक मूल का एक ममलुक राजवंश था, के रूप में आई | ग़ोरी राजवंश ने गज़नाविड्स को परास्त कर दिया और उनके सभी क्षेत्रों को अपने कब्जे में कर लिया | फिर उन्होंने उत्तर भारत के राज्यों पर अपनी दृष्टि बढाई |

प्रतिष्ठित इतिहासकार बताते हैं कि भारत का ग़ोरी विजय, जिसके बाद ममलुक ने क्षेत्र का एकीकरण किया, दोनों ही ‘केक्वॉक’ थे | आइए हम इस केक्वॉक का विश्लेषण करें |

चालुक की सेना, युवा राजा मूलराज की मां और उनकी रानी के नेतृत्व में, 1178 में, शासक मुहम्मद ग़ोरी के नेतृत्व वाली ग़ोरी राजवंश को पूरी तरह से कुचल दिया जब उन्होंने उनके राज्य पर आक्रमण करने की कोशिश की | मुहम्मद ग़ोरी इस हार से इतने शर्मिंदा थे कि उन्होंने गुजरात पर फिर कभी आक्रमण नहीं किया। (प्रभा चिंतामणी)

महान पृथ्वीराज चौहान, अजमेर और दिल्ली के चाहमना शासक, ने तराइन (1191 सीई) की पहली लड़ाई में मुहम्मद ग़ोरी ग़ोरी साम्राज्य जितना शक्तिशाली नहीं होने पर भी पराजित कर दिया |

पृथ्वीराज चौहान और सम्युक्ता
पृथ्वीराज चौहान और सम्युक्ता

ग़ोरी ने आधुनिक दिन पाकिस्तान, आधुनिक दिन अफगानिस्तान, आधुनिक ईरान और मध्य एशिया के अन्य हिस्सों के बड़े हिस्से पर शासन किया |

पृथ्वीराज ने पूर्वी राजस्थान, दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों के हिस्से पर शासन किया |

इन कारकों को ध्यान में रखते हुए, तराइन की पहली लड़ाई की जीत को एक महान उपलब्धि माना जा सकता है |

पृथ्वीराज चौहान
पृथ्वीराज चौहान

तराइन (1192 सीई) की दूसरी लड़ाई पृथ्वीराज ने ग़ोरी द्वारा अपनाई गई भ्रामक रणनीति के कारण खो दी | राजपूतों ने ज्यादातर केवल ‘धर्म-युध’ के अनुयायियों से लड़ाई की | इसलिए उन्होंने पूरी तरह से ग़ोरी, जिन्होंने इस सिद्धांत का पालन नहीं किया, द्वारा धोखा दिया गया | पृथ्वीराज ने तराइन -१ के बाद अपने दुश्मन को धर्म-युधि के सिद्धांत के अनुसार व्यवहार किया लेकिन ग़ोरी ने तेरेन-२ के बाद यह विनिमय का पालन करने से इनकार कर दिया | चहमानों के खिलाफ एक बड़ी सेना की तैनात करने के बाद, ग़ोरियों ने तराइन की दूसरी लड़ाई जीती | तराइन की दूसरी लड़ाई के बाद पृथ्वीराज को गोरी ने कब्जा कर लिया और उससे मार दिया |

एक खाते के अनुसार तराइन की दूसरी लड़ाई के बाद निम्नलिखित घटनाएं हुई, ” ग़ोरी ने चढ़ाई करके दिल्ली के किले के नीचे डेरा डाला | शहर और उसके आसपास के इलाकों को मूर्तियों और मूर्ति पूजा से मुक्त करा दिया गया था, और भगवान की छवियों के अभयारण्यों में, भगवान के उपासक द्वारा मस्जिद बने गए” |

कामिल-उत-तौरीख के इब्न असिर के मुताबिक, ” हिंदुओं का वध (वाराणसी में) विशाल था; महिलाओं और बच्चों (वे दास थे) को छोड़कर किसी को भी नहीं छोड़ा गया और जब तक पृथ्वी थक ना गयी, तब तक पुरुषों का नरसंहार हुआ |

“दिल्ली सल्तनत के लिए चित्तौड़ के पतन के कुछ साल बाद, हम्मीर नाम का एक युवा योद्धा बगावत में जन्म लिया और किले पर पुनः कब्जा कर लिया”

अजमेर और दिल्ली के विजय के बाद, ग़ोरियों ने आधुनिक दिन उत्तर प्रदेश, बिहार और यहाँ तक ​​कि बंगाल के कुछ हिस्सों पर विजय प्राप्त की | अंततः ग़ोरी गजनी लौट आए जबकि उनके ‘मामलुक‘ (स्लेव वारियर्स) ने भारत में अपने साम्राज्य को संभाला | ग़ोरियों ने उत्तर भारत को प्रभावी ढंग से ले लिया और पंजाब से परे भूमि पर भी जीत पाने में कामयाब रहे (कुछ ऐसा जो गज़नाविद भी करने में विफल रहा था) |

ग़ोरियों द्वारा दिल्ली और उत्तर भारत के अन्य भागों पर विजय के बावजूद, ग़ोरियों के साथ-साथ उनके तुर्की मामलुक उत्तराधिकारियों के लिए मूल प्रतिरोध जारी रहा |

१. हिंदू खोक्कर ने मुहम्मद ग़ोरी के खिलाफ विद्रोह शुरू किया, जिसने ग़ोरी के विद्रोह को दबाने के लिए और भारत लौटने के लिए प्रेरित किया | खोक्कर ने ग़ोरी के खिलाफ उसी की रणनीति इस्तेमाल की और जब वह लाहौर से गजनी वापस जा रहे थे तब उन्हें मौत के घाट उतार दिया |

२. चालुक्यों के जनरल –  लवानप्रसाद और श्रीधर – ने तुर्कों के खिलाफ एक बड़ी लड़ाई की और उन्हें पराजित करने में कामयाब रहे | यह मुस्लिम इतिहासकारों द्वारा दर्ज नहीं किया गया था | मुस्लिम इतिहासकारों ने अक्सर मुस्लिम हार को नजरअंदाज करा |

३. बख्तियार खिलजी ने सुल्तान सेनाओं को पूर्व की ओर नेतृत्व किया और आसानी से बिहार और पश्चिमी बंगाल को जीत लिया | हालांकि, सेना खिलजी को पूर्वी बंगाल से बाहर निकाल दिया और बाद में कामरूप साम्राज्य द्वारा असाम से बाहर निकल दिए गए | बमुश्किल कोई भी सल्तनत सैनिक इस विनाशकारी अभियान से बच पाए थे | दुख और थकावट के कारण जल्द ही खिलजी का निधन हो गया |

४. ओडिशा के महान शासक नृसिंहदेव ने बार-बार बंगाल के तुर्को-अफगान मामलुक को हराया | उन्होंने उन्हें कई युद्धों में हराया  – कात्सिन (1243 सीई), लखनौती (1244 सीई), उमरंद (1247 और 1256 सीई) | तुर्कों पर अपनी जीत मनाने के लिए कोनार्क का महान मंदिर बनाया गया था |

५. राजपूत, जाट और खोक्कर उठे और पूरे उत्तर भारत में विद्रोह पैदा कर दिया | कई खातों के अनुसार जाट के विद्रोह के कारण रज़िया सुल्ताना और उनके पति अल्टूया को मार दिया गया |

६. मलिक काफूर के आक्रमण के दौरान हजारों वैष्णवों ने श्रीरंगम के मंदिर की रक्षा के लिए अपना जीवन निर्धारित किया था |

दिल्ली सल्तनत को चित्तौड़ के पतन के कुछ साल बाद, हम्मीर नाम से एक युवा योद्धा बगावत में आए और किले पर पुनः कब्जा कर लिया | हम्मीर ने सिसोदिया वंश की स्थापना की और यहाँ तक ​​कि दिल्ली के सुल्तान – मुहम्मद बिन तुग़लक़ – को सिंगोली की लड़ाई के बाद भी कब्जा कर लिया और राजपूताना को सल्तनत शासन से मुक्त कराया | यह सल्तनत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ था और उत्तर में उनकी गिरावट की शुरुआत को चिह्नित किया |

महाराणा हम्मीर
महाराणा हम्मीर

. . . आगे जारी किया जायेगा

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.