भारत और इसके उदार तरीके

पूरी दुनिया में पड़ोसी मानव समूहों पर हमला कर उन्हें दास बना लेने का रिवाज रहा है, केवल भारत को छोड़कर। न हिंदुओं ने अन्य लोगों को पकड़कर दास बनाया, न कोई उन्हें दास बना सका।

0
435
भारत और इसके उदार तरीके
भारत और इसके उदार तरीके

राज्य मनुष्य के अस्तित्व के लिए आवश्यक नहीं होता है, लेकिन सभ्यता व प्रगति के लिए आवश्यक होता है। पहरेदार (Sentinel) बिना राज्य भी अस्तित्व में है, लेकिन केवल अस्तित्व में ही है, और वह भी इसलिए कि बीस हज़ार वर्ष से पड़ोस में हिंदू रहते है।

पूरी दुनिया में पड़ोसी मानव समूहों पर हमला कर उन्हें दास बना लेने का रिवाज रहा है, केवल भारत को छोड़कर। न हिंदुओं ने अन्य लोगों को पकड़कर दास बनाया, न कोई उन्हें दास बना सका। 1200 ईसवी की पराजय के बाद ही भारत से पकड़कर दास बनाये जाने लगे, लेकिन तब भी आसान नहीं था। दिल्ली से लौटते आक्रमणकारियों पर आज के पंजाब में हमला कर उनसे बंदी छुड़ा लेना एक आम बात थी।

भाग्य से हिंदू एक हुआ है राजनीतिक रूप से 1947 में। अब राजनीतिक चेतना भी एक हुई है। हम एक है तो स्वतंत्र है। दास होना सबसे बड़ा अभिशाप होता है।

यूरोप के क़ब्ज़े में भारत आया तो उन्होंने भी भारतीय बच्चों को चुराकर दास बाज़ार में बेचने की परम्परा जारी रखी।
जब थोड़े बड़े देश बन गए व सेना रख पाना सम्भव हुआ तब दास बनाने के लिए की जाने वाली raids कम हुई। फिर अंग्रेजो की आत्मा जाग गयी व उन्होंने दुनिया भर से दास प्रथा समाप्त करा दी। अंग्रेज ने नेतृत्व किया और दुनिया को गुलामी के उन्मूलन के लिए मजबूर किया।

भाग्य से हिंदू एक हुआ है राजनीतिक रूप से 1947 में। अब राजनीतिक चेतना भी एक हुई है। हम एक है तो स्वतंत्र है। दास होना सबसे बड़ा अभिशाप होता है।

जो भाषाई या जातीय दरारों में अक्सर कील ठोककर हिंदू समाज को तोड़ने का प्रयास करते है उनसे सावधान रहे।
हाथी को पकड़ने में पालतू हाथी ही सहायता करते है। जो हिंदू विधर्मीयों के हाथो बिककर धर्मान्तरन कर चुके है वही भाषा की या जाति की लड़ाई आरम्भ करने को प्रयासरत रहते है।

दुश्मन अगर आपका जासूस पकड़ ले तो उसका सबसे पहले प्रयास होता है कि उसे अपना जासूस बनाकर आपके पास वापिस भेज दे। ऐसा जासूस ही आपके लिए सबसे ख़तरनाक होता है।

आपके भाषाई भाई होने का दावा करने वाले विधर्मी, जातीय भाई होने का दावा करने वाले विधर्मी, या वामपंथी का चोगा पहने विधर्मी ही वो पालतू हाथी है जो आपको भी पालतू बनाने के प्रयास में शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.