अनिवार्य है कि आरबीआई रुपया विनिमय (यूएसडीआईएनआर) दर पर बारीकी से निगरानी रखे

दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था क्यों अपनी मुद्रा में ताकत नहीं दिखा रही है? इसका लगुकरण कौन कर रहा है?

0
604
अनिवार्य है कि आरबीआई रुपया विनिमय (यूएसडीआईएनआर) दर पर बारीकी से निगरानी रखे
अनिवार्य है कि आरबीआई रुपया विनिमय (यूएसडीआईएनआर) दर पर बारीकी से निगरानी रखे

जब भारत इस बात को पचाने की कोशिश कर रहा है कि भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) का गवर्नर स्वयं के कारकिर्दगी को बढ़ावा देनेवाला नौकरशाह है, तब डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत में धीरे-धीरे गिरावट हो रही है। और यह चिंता का विषय है। क्योंकि प्रधान मंत्री मोदी ने विदेशी मुद्रा (विदेशी मुद्रा) भंडार को मजबूत करने के लिए पर्याप्त कदम उठाए हैं:

अक्टूबर में, कच्चे तेल की कीमत गिर गई; रुपए को अपना मूल्य वापस 63 रुपये प्रति डॉलर पर लौट जाना चाहिए था, लेकिन यह लगभग 70 रुपये (10% बढोतरी) पर अटक गया है।

1. जापान के साथ $75 बिलियन मुद्रा विनिमय समझौता (पहले $50बिलियन था)
2. रुपयों से कच्चे तेल भुगतान के लिए ईरान और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के साथ सौदें
3. कच्चे तेल कीमतों में गिरावट

इसके बावजूद, रुपया फिर से कमजोर हो गया है। अब विदेशी मुद्रा दबाव निश्चित रूप से नहीं है और ऐसा लगता है कि एक निहित समूह फिर से रुपये का लघुकरण कर रहा है। वही पुरानी बातें, कि चुनाव से पहले रुपये में गिरावट होगी, की जा रही है। बकवास! अगर भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है, तो इसकी मुद्रा को यह बात प्रतिबिंबित करनी होगी।

कमजोर रुपया कौन चाहता है?

इस सवाल का जवाब देने से पहले, देखते हैं कि रुपया ने वर्ष की शुरुआत से शक्तिशाली अमेरिकी डॉलर (नीचे आंकड़ा देखें) के मुकाबले कैसा प्रदर्शन किया है।

ब्लू लाइन अमेरिकी डॉलर में कच्चे तेल की एक बैरल की कीमत है। ग्रीन लाइन डॉलर के मुकाबले रुपया विनिमय दर है। यह एक ही वर्ग की तुलना नहीं है – वे सहसंबंध दर्शाने के लिए साथ साथ दिखाए जा रहे हैं।

1 जनवरी को ब्रेंट क्रूड की कीमत $ 67 प्रति बैरल थी। 1 अमेरिकी डॉलर की प्रतिफल 63 रुपये थी। जैसे जैसे कच्चे तेल की कीमत बढ़ी, विनिमय दर भी बढ़ गई और रुपया कमजोर हो गया। इसे एक वैश्विक घटना बताया गया। अच्छी तरह से अध्ययन करने से यह स्पष्ट होगा कि रुपया अन्य एशियाई मुद्रा की तुलना में बहुत कमजोर हो गया है। हम पीगुरुज वाले और कुछ सन्डे गार्डियन के लोग अकेले ऐसे थे जो कह रहे थे कि कच्चा तेल 100 डॉलर प्रति बैरल तक नहीं बढ़ेगा और रुपया 100 रुपये प्रति डॉलर तक नहीं गिरेगा। एक गणना के तहत, कुछ निहित स्वार्थी लोग रुपये का लघुकरण कर रहे थे।

फिर अक्टूबर में, कच्चे तेल की कीमत गिर गई; रुपए को अपना मूल्य वापस 63 रुपये प्रति डॉलर पर लौट जाना चाहिए था, लेकिन यह लगभग 70 रुपये (10% बढोतरी) पर अटक गया है। कुछ तो गड़बड़ है – निहित स्वार्थी समूह अपनी पुरानी चाल फिर से चल रहा है और इसे आरबीआई को जल्द से जल्द सुलझाना चाहिए।

तो कमजोर रुपया कौन चाहेगा?

विदेशी बैंक, जो सस्ते दामों पर स्वस्थ भारतीय बैंकों को हथियाना चाहते हैं। यह एक ज्ञात तथ्य है कि कई गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) अपनी किताबों से हटाने के बाद कई बैंक स्वस्थ हो जाएंगे। इनमें से अधिकतर एनपीए फोन लोन के कारण हैं, एक अवधारणा जिसे एक छद्म चापलूस दुष्ट प्रतिभाशाली आदमी द्वारा अग्रणी और परिपूर्ण किया गया, जिसका आद्याक्षर हाल ही में विवाहित बॉलीवुड अभिनेत्री से मेल खाता है[1]। अब जब यह विवाद समाप्त हो गया है कि भारतीय रिजर्व बैंक अपने कुछ लाभांश सरकार को स्थानांतरित कर दे, तो यह अनिवार्य है कि आरबीआई 10 सबसे स्वस्थ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को निधि दे[2]। आईसीआईसीआई / एचडीएफसी / एक्सिस या येस बैंक को एक पैसा भी नहीं देना चाहिए। वे किसी कारणवश गैर-सरकारी हैं।

प्रधान मंत्री को मेरा विनम्र अनुरोध – कृपया जरूरतमंद बैंकों को वित्त पोषित करें और सरकार के बीच लाभांश को समान रूप से विभाजित करें। स्वस्थ भारत के लिए दोनों आवश्यक हैं।

संदर्भ:

[1] PM Modi blames phone-a-loan scam under UPA regime for NPA messSep 2, 2018, Business Standard

[2] अंदरूनी कहानी – मोदी ने आरबीआई के गवर्नर के लिए दास को क्यों चुना Dec 16, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.