मनी लॉन्ड्रिंग मामले में महाराष्ट्र के पहले सेवारत मंत्री गिरफ्तार

मलिक को ईडी की एक टीम सर जेजे अस्पताल में मेडिकल जांच के लिए लेकर गई और फिर दोपहर बाद उन्हें नामित विशेष पीएमएलए न्यायालय के समक्ष पेश किया गया।

0
151
मनी लॉन्ड्रिंग मामले में महाराष्ट्र के पहले सेवारत मंत्री गिरफ्तार
मनी लॉन्ड्रिंग मामले में महाराष्ट्र के पहले सेवारत मंत्री गिरफ्तार

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पीएमएलए के तहत नवाब मलिक गिरफ्तार

महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार को बड़ा झटका देते हुए, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को एक संदेहात्मक भूमि सौदे से जुड़े कथित धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) मामले में सेवारत या मौजूदा मंत्री नवाब मलिक को गिरफ्तार कर लिया।

यह कार्यवाही महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के लिए एक झटके के रूप में सामने आई है, क्योंकि मलिक इस तरह से गिरफ्तार होने वाले पहले कैबिनेट मंत्री बन गए हैं, जिसने राजनीतिक गलियारों में सनसनी फैला दी है।

गिरफ्तारी आदेश में, ईडी के सहायक निदेशक नीरज कुमार ने कहा कि एजेंसी के पास ऐसा ‘विश्वास करने का कारण’ है कि नवाब मलिक को ‘पीएमएलए अधिनियम के प्रावधानों के तहत दंडनीय अपराध का दोषी पाया गया है’, और तदनुसार उन्हें दोपहर लगभग 2 बजे गिरफ्तार कर लिया गया है।

औपचारिक गिरफ्तारी के फौरन बाद, मलिक को ईडी की एक टीम सर जेजे अस्पताल में मेडिकल जांच के लिए लेकर गई और फिर दोपहर बाद उन्हें नामित विशेष पीएमएलए न्यायालय के समक्ष पेश किया गया।

अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल देसाई ईडी का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, जबकि मलिक की ओर से प्रख्यात वकील अमित देसाई पेश हुए हैं। मंत्री की उनकी बहन और बेटी सना खान सहित मंत्री के रिश्तेदार अदालत पहुंचे हैं।

जैसे ही उन्हें पुलिस और ईडी के अधिकारी ईडी कार्यालय से बाहर लेकर आए, सफेद कुर्ता-पायजामा पहने एक मुस्कुराते हुए चेहरे के साथ मलिक ने कहा, “झुकेंगे नहीं, लड़ेंगे और जीतेंगे।”

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के जवानों के साथ ईडी की टीम ने सुबह करीब 4.30 बजे मलिक के घर पर दस्तक दी और कुछ घंटे बाद उन्हें अपने साथ लेकर गई। 17 साल पुराने कुर्ला भूमि सौदे में माफिया कनेक्शन भी सामने आया है और ईडी के सूत्रों का कहना है कि मामले में एक कथित मनी लॉन्ड्रिंग एंगल सामने आया है।

ईडी ने गिरफ्तारी के लिए सीआईएसएफ और मुंबई पुलिस की सुरक्षा टीमों की सहायता लेनी पड़ी, क्योंकि बड़ी संख्या में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मलिक के खिलाफ कार्रवाई का विरोध करने के लिए सुबह से एजेंसी के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और काफी शोर-शराबा किया।

पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 2 नवंबर, 2021 को कथित भ्रष्टाचार और धन शोधन मामलों में ईडी द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद 62 वर्षीय मलिक पहले मंत्री और दूसरे वरिष्ठ राकांपा नेता बन गए हैं, जिन्हें गंभीर आरोपों के बाद गिरफ्तार किया गया है।

उनकी गिरफ्तारी के बाद राकांपा अध्यक्ष शरद पवार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, गृह मंत्री दिलीप वलसे-पाटिल और अन्य मंत्रियों से बुधवार की शाम एक जरूरी बैठक के लिए मिलने जा रहे हैं।

शरद पवार, जयंत पाटिल, सुप्रिया सुले, मजीद मेमन, छगन भुबल, विद्या चव्हाण, संजय राउत, किशोर तिवारी, नाना पटोले, अशोक चव्हाण और अन्य एमवीए नेताओं ने मलिक के खिलाफ कार्रवाई के लिए ईडी की आलोचना की है। सत्तारूढ़ गठबंधन के नेताओं ने इसे राजनीतिक प्रतिशोध करार दिया है और उनका कहना है कि केंद्र सरकार की ओर से केंद्रीय जांच एजेंसियों का उपयोग गलत चीजों के खिलाफ आवाज उठाने वालों को ‘चुप’ कराने के लिए किया जा रहा है।

इसके साथ ही, विपक्षी भारतीय जनता पार्टी ने भी पलटवार करना शुरू कर दिया है और पार्टी ने 10 मार्च की घोषित समय सीमा से पहले एमवीए सरकार को गिराने के प्रयास तेज कर दिए हैं।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने मांग की है कि अब जब उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है, मलिक को तुरंत पद छोड़ देना चाहिए और साथ ही विभिन्न आरोपों का सामना कर रहे अन्य सभी मंत्रियों को भी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे देना चाहिए। भाजपा नेता ने कहा कि ऐसा नहीं करने पर भाजपा सड़कों पर उतरकर आंदोलन शुरू करेगी।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.