कश्मीर घाटी पहले कभी इस तरह शांतिपूर्ण नहीं रही: सुब्रमण्यम स्वामी

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख में रहने वाले लाखों लोग अब यह कह रहे हैं कि यह क्षेत्र पहले कभी इस तरह शांतिपूर्ण नहीं रहा है

0
704
कश्मीर घाटी पहले कभी इस तरह शांतिपूर्ण नहीं रही: सुब्रमण्यम स्वामी
कश्मीर घाटी पहले कभी इस तरह शांतिपूर्ण नहीं रही: सुब्रमण्यम स्वामी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने गुरुवार को कहा कि जम्मू और कश्मीर में स्थिति कभी भी इतनी “शांत” और “शांतिपूर्ण” नहीं थी, जिस तरह से यह अनुच्छेद 370 प्रावधानों के निरस्त होने के बाद आज है।

पूर्व न्यायाधीश एसएन अग्रवाल द्वारा लिखित “नेहरू’ज हिमालयन ब्लंडर्स: द एक्सेसन ऑफ जम्मू एंड कश्मीर” (नेहरू की विशालकाय गलतियां : जम्मू और कश्मीर का परिग्रहण) नामक एक पुस्तक के विमोचन पर बोलते हुए, स्वामी ने कहा कि ये सभी फालतू का हंगामा और लोगों के द्वारा दी गई धमकियां कि धारा 370 हटाने से घाटी के साथ भारत का सम्बंध टूट जाएगा या हर जगह आग लग जायेगी, गलत साबित हुई हैं।

स्वामी ने मोदी सरकार की साहसिक फल की सराहना करते हुए कहा कि “पिछले तीन महीनों में हमने घाटी में जो शांति देखी, वह पहले कभी नहीं थी। घाटी के लोगों ने मुझे फोन किया और बताया कि ‘ऐसे पेहेले कभी नहीं हुआ’। जम्मू शांत है। लद्दाख शांत है… .. और हिंसा और भय की खबरें जो आप घाटी से सुनते हैं, वह भी 14 में से केवल तीन जिलों से आ रही हैं। ऐसा इसलिए भी क्योंकि इन जगहों पर पहले भी आतंकवादी छिपे हुए थे,”।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

स्वामी के विचारों को सेवानिवृत्त मेजर जनरल जीडी बख्शी द्वारा प्रतिध्वनित किया गया था, जिन्होंने कहा कि यह केंद्र द्वारा भारतीय सेना की सटीक प्रतिनियुक्ति है जिसके कारण अच्छे 60 वर्षों के बाद घाटी में चमत्कारी शांति हो गई है। “मुझे याद है कि लोग कहते थे कि अगर धारा 370 को रद्द कर दिया गया तो खून की नदियां बहेंगी … कुछ नहीं हुआ। और विश्वास कीजिए, भविष्य में भी कुछ नहीं होगा। केंद्र ने साहस दिखाया है और अनुच्छेद 370 एवं 35ए को कचरे के डिब्बे में फेंक कर सही काम किया है” सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा।

पाकिस्तान के बारे में बात करते हुए, स्वामी ने कहा कि भारत को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को वापस लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि सिंध, बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा भी पाकिस्तान के साथ रहना नहीं चाहते हैं और भारत को उनकी मदद करनी चाहिए। स्वामी ने कहा, “यह एकमात्र तरीका है जिससे आप भारत में शांति कायम कर सकते हैं। अन्यथा, पाकिस्तान, चाहे वह आर्थिक रूप से कितनी भी बुरी स्थिति में क्यों न हो, वे भारत को चोट पहुंचाने के लिए हमेशा कुछ न कुछ करते रहेंगे।”

गरुड़ प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पुस्तक, ‘नेहरू हिमालयन ब्लंडर्स: द एक्सेसन ऑफ जम्मू एंड कश्मीर’, जम्मू और कश्मीर के संबंध में भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा प्रतिबद्ध “प्रमुख त्रुटियों” के दस्तावेज का दावा करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.