भारत में 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीकाकरण महोत्सव होगा। प्रधान मंत्री ने मुख्यमंत्रियों से अधिक कोविड परीक्षण, निगरानी और उपचार पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया

पीएम मोदी ने 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव की घोषणा की!

0
768
पीएम मोदी ने 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव की घोषणा की!
पीएम मोदी ने 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव की घोषणा की!

11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव

यह कहते हुए कि लॉकडाउन की कोई आवश्यकता नहीं है, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को मुख्यमंत्रियों से “परीक्षण, निगरानी, उपचार और अधिक टीकाकरण” पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया और 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक टीकाकरण उत्सव ‘टीका उत्सव‘ आयोजित करने का सुझाव दिया। मोदी मुख्यमंत्रियों को दोहराया कि वे अगले 2-3 सप्ताह तक “युद्धस्तर” पर वायरस के प्रसार की जाँच करने के अपने प्रयासों को मजबूत करें। उन्होंने यह भी कहा कि राज्यों को सूक्ष्म नियंत्रण क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, न कि लॉकडाउन के तरीकों पर।

“मैं 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक “टीका उत्सव” मनाने की सलाह देता हूँ। 45 साल से ऊपर के लोगों के शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य प्रताप करने का प्रयास करे। 11 अप्रैल को ज्योतिबा फुले जी की जयंती है और 14 अप्रैल को बाबासाहेब अम्बेडकर की जयंती है, इस दौरान हम सभी ‘टीका उत्सव’ मनायेंगे। हमारा लक्ष्य कोविड पॉजिटिव मरीज के प्रति 72 घंटे में कम से कम 30 संपर्कों का परीक्षण करना होना चाहिए। नियंत्रण क्षेत्र की सीमाएँ स्पष्ट होनी चाहिए न कि अस्पष्ट।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने टीकों की अधिक आपूर्ति की मांग की और बढ़ती मांगों को पूरा करने के लिए राज्य में वैक्सीन उत्पादन यूनिट के लिए केंद्र से मंजूरी की मांग की।

मोदी ने कहा – “मैं सभी सीएम से अपील करना चाहता हूं कि वे सक्रिय परीक्षण हेतु कार्यवाही करें ताकि हम स्पर्शोन्मुख (asymptomatic) रोगियों का पता कर सकें। हमें पहले परीक्षण पर ध्यान देने की जरूरत है। हमें बदलने की जरूरत है और कोविड प्रोटोकॉल (नियमों) का पालन करने को बिल्कुल हल्के में नहीं लेना चाहिए। हमें परीक्षण को हल्के में नहीं लेना चाहिए। पहले हमारे पास महामारी से निपटने के लिए बुनियादी ढांचा नहीं था और हमें लॉकडाउन को एकमात्र साधन के रूप में उपयोग करना था…लेकिन आज हमें लॉकडाउन की आवश्यकता नहीं है। मोदी ने कहा कि इसे रात का कर्फ्यू कहने के बजाय हमें इसे “कोरोना कर्फ्यू” कहना चाहिए।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

बैठक में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने टीकों की अधिक आपूर्ति की मांग की और बढ़ती मांगों को पूरा करने के लिए राज्य में वैक्सीन उत्पादन यूनिट के लिए केंद्र से मंजूरी की मांग की। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बैठक में शामिल नहीं हुईं। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे।

प्रधान मंत्री ने कहा कि कई राज्यों में प्रशासन ढीला दिखाई दे रहा था। उन्होंने कहा – “शासन प्रणाली में सुधार करने की आवश्यकता है। मैं समझता हूं कि एक साल की लड़ाई के कारण, सिस्टम थकान का अनुभव कर सकता है और इसमें शिथिलता हो सकती है, लेकिन हमें इसे 2-3 सप्ताह तक कसना चाहिए और शासन को मजबूत करना चाहिए।”

मोदी ने महामारी को रोकने के लिए ‘टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट‘ (परीक्षण, निगरानी, इलाज), कोविड-उपयुक्त व्यवहार और कोविड प्रबंधन पर जोर दिया। जनभागीदारी के साथ-साथ, हमारे मेहनती डॉक्टरों और स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों ने स्थिति को संभालने में बहुत मदद की है और अभी भी कर रहे हैं, उन्होंने कहा। उन्होंने कहा, “कई राज्यों में प्रशासन के ढीले दिखाई देने से मामलों में वृद्धि हुई है। वायरस के प्रसार को रोकने के लिए युद्धस्तर पर काम करने की जरूरत है।”

सकारात्मक मामलों की दैनिक गिनती कुछ हफ्तों पहले लगभग 20,000 तक गिरने के बावजूद 1.26 लाख के नए रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गई है। वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में प्रधान मंत्री मोदी ने रविवार को संक्रमण और मौतों में “वृद्धि की खतरनाक दर” के बीच देश में कोविड-19 स्थिति और टीकाकरण अभियान की समीक्षा की। मोदी ने बैठक के बाद आधिकारिक बयान में कहा कि परीक्षण, निगरानी, उपचार, कोविड-19 के अनुरूप व्यवहार और टीकाकरण की पांच-सूत्रीय रणनीति यदि पूरी गंभीरता और प्रतिबद्धता के साथ लागू की जाती है, तो महामारी के प्रसार को रोकने में प्रभावी होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.