ईडी ने चंद्रिका पर मनी लॉन्ड्रिंग की जांच की?

केरल के वीएसीबी ने केरल में मुस्लिम लीग के मुखपत्र चंद्रिका अखबार पर छापा मारा!

0
453
केरल के वीएसीबी ने केरल में मुस्लिम लीग के मुखपत्र चंद्रिका अखबार पर छापा मारा!
केरल के वीएसीबी ने केरल में मुस्लिम लीग के मुखपत्र चंद्रिका अखबार पर छापा मारा!

यह एक ज्ञात तथ्य है कि भारत में मीडिया हाउसों का उपयोग राजनेताओं और व्यापारियों द्वारा धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) और संदिग्ध तरीकों से अपने काले धन को वैध करने के लिए किया जाता है। “एनडीटीवी फ्रॉड्स“, एक अग्रणी पुस्तक, जो श्री अय्यर, प्रधान संपादक, पीगुरूज द्वारा लिखी गई, ने प्रनॉय रॉय के चेहरे से नकाब उतार दिया, जो एक समय भारतीय टेलीविज़न के ग्लैमर बॉय रहे, जो देश के सबसे बड़े टीवी समाचार तंत्र नई दिल्ली टीवी (एनडीटीवी) के मालिक है। हालाँकि यह पुस्तक बाज़ार में है (इसे अमेज़ॅन से 199 रुपये में खरीदा जा सकता है[1]) और हाथोंहाथ बिक रही है, मुख्यधारा का मीडिया इसके बारे में बोलने से कतराता है या यहां तक कि राष्ट्र के समक्ष लेखक द्वारा रखी गई विस्फोटक सामग्री पर प्रतिक्रिया करने से भी।

एक अपवित्र गठबंधन

हाल ही में हुए दिल्ली के दंगों के दौरान मीडिया घरानों और राष्ट्रविरोधी तत्वों के बीच अपवित्र गठजोड़ उजागर हुआ, इन दंगों में 50 से अधिक मौतें और कई लोग घायल हुए। मृतकों में अंकित शर्मा नाम के एक इंटेलिजेंस ब्यूरो अधिकारी और दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी रतन लाल शामिल है। दो मलयालम टीवी चैनल, एशियानेट न्यूज़ (राजीव चंद्रशेखर, एक बीजेपी सांसद की मालकियत वाला) और मीडिया वन (विभिन्न इस्लामी आतंकवादी संगठनों की एक प्रवक्ता एजेंसी के रूप में कार्यरत) जांच के दायरे में आए और सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने 48 घण्टे के लिए उनकी सेवाओं को निलंबित करने का आदेश दिया। चैनल ने खुले तौर पर केबल टीवी नियमों और दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया और कृत्रिम शॉट दृश्यों के साथ झूठ और नकली समाचारों का प्रचार किया।

कांग्रेस, मार्क्सवादियों और इस्लामी आतंकवादियों द्वारा राष्ट्रव्यापी हंगामा किया गया, जो छाती पीट रहे थे कि भारत में मीडिया की स्वतंत्रता पर हमला हो रहा है। इस तरह के दबाव के कारण, सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने निलंबन आदेश को घंटों के भीतर वापस ले लिया और कुछ ही घंटों में दोनों चैनलों द्वारा प्रसारण फिर से शुरू कर दिया गया!

अब, यहां राजनेताओं, विशेषकर मुस्लिम राजनेताओं द्वारा मनी लॉन्ड्रिंग के लिए मीडिया के दुरुपयोग का एक और उदाहरण सामने आया, जो अपनी बढ़ती जनसांख्यिकीय ताकत के कारण केरल में खुद के शासन के रूप में उभरे हैं। अंतिम आंकड़ों में केरल की आबादी में 30 प्रतिशत मुस्लिम शामिल हैं और वह दिन दूर नहीं है जब वे एक अलग इस्लामिक स्टेट ऑफ मालाबार का दावा करेंगे।

मुस्लिम लीग के मुखपत्र चंद्रिका के कार्यालय पर केरल सरकार के सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (वीएसीबी) के अधिकारियों ने 10 मार्च,[2] 2020 को वीके अब्राहिम कुंजु के भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के सिलसिले में छापा मारा था, जो मुस्लिम लीग के नेता हैं और ओमन चांडी सरकार में लोक निर्माण विभाग के मंत्री (2011 से 2016) रहे। वीएसीबी के अधिकारियों के अनुसार, छापे कुछ इनपुटों के संबंध में सबूतों का पता लगाने के लिए थे कि दैनिक चंद्रिका के बैंक खाते का इस्तेमाल बेहिसाब धन हस्तांतरित करने के लिए किया गया था, जो कि एर्नाकुलम के एक उपनगर पलारीवट्टम में राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक फ्लाईओवर के निर्माण के संबंध में कुंजु द्वारा प्राप्त किए गए रिश्वत का हिस्सा था।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

प्रवर्तन निदेशालय चंद्रिका अखबार के बैंक खाते का उपयोग करके काले-धन के हस्तांतरण की जांच कर रहा है। केरल उच्च न्यायालय में दायर एक याचिका में कालामसेरी के जी गिरीश बाबू ने कहा है कि 15 नवंबर 2016 को पंजाब नेशनल बैंक की एर्नाकुलम मार्केट रोड शाखा में चंद्रिका के निदेशक मंडल के सदस्य पीए अब्दुल समीर द्वारा 10 करोड़ रुपये जमा किए गए थे।

याचिकाकर्ता के अनुसार, पैसे का स्रोत नहीं बताया गया और यह एक बेनामी लेनदेन है। पलारीवट्टम फ्लाईओवर घोटाला कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के लिए एक बड़ी शर्मिंदगी बन गया है। हालांकि उस जगह पर किसी भी फ्लाईओवर की आवश्यकता नहीं थी, केरल में लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने आरोप लगाया कि पैसा बनाने के इरादे से एक फ्लाईओवर का निर्माण किया गया था। मंत्री द्वारा यातायात के लिए खोले जाने के कुछ दिनों के भीतर ही नए बने फ्लाईओवर का विघटन शुरू हो गया और वह ध्वस्त हो गया।

टी ओ सूरज (मुस्लिम समुदाय से), जो लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के पूर्व सचिव हैं, आरडीएस प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के एमडी सुमित गोयल और रोड्स एंड ब्रिजेज डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ऑफ़ केरल लिमिटेड के पूर्व महाप्रबंधक एमटी तानकाअचन को मामले की जांच कर रहे केरल पुलिस के विशेष जांच दल द्वारा गिरफ्तार किया गया। सूरज, सांसद एवं केरल के पूर्व उद्योग और आईटी मंत्री पीके कुन्हालीकुट्टी के करीबी विश्वासपात्र हैं। मामले में गिरफ्तार किए गए सभी लोगों को केरल उच्च न्यायालय ने सशर्त जमानत दी है।[3]

42 करोड़ रुपये की लागत से बने 750 मीटर लंबे इस पुल को 2019 की शुरुआत से यातायात के लिए बंद कर दिया गया है। हालांकि, वीएसीबी द्वारा चंद्रिका दैनिक पर छापा मारे तीन दिन से अधिक हो गए हैं, लेकिन केरल में काम करने वाले पत्रकारों के संघ ने अभी तक पत्रकारिता के कार्य में पुलिस हस्तक्षेप की निंदा करते हुए एक भी बयान नहीं दिया है। चंद्रिका एक अखबार है जो अपने पाकिस्तान समर्थक रुख के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है और एक प्रमुख मीडिया प्रतिष्ठान है जो समाचारों को विकृत करने में विशेषज्ञ है।

संदर्भ:

[1] NDTV Frauds Paperback version – Amazon.in

[2] Vigilance raids Chandrika’s office in KozhikodeMar 11, 2020, The New Indian Express

[3] Palarivattom flyover scam: HC grants bail to Sooraj, two othersNov 4, 2019, OnManorama

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.