आईटी कमिश्नर एस के श्रीवास्तव ने कहा चिदंबरम ने एनडीटीवी के माध्यम से 6000 करोड़ रुपये से अधिक काला धन वैध बनाया, वह जालसाज है!

एनडीटीवी फ़्रॉड्स (NDTV FRAUDS) भाग 2 की किताब को करैकुडी में अप्रैल 17, 2019 को आईटी कमिश्नर एस के श्रीवास्तव द्वारा विमोचित किया गया था, जिन्होंने पी चिदंबरम पर एनडीटीवी के माध्यम से 6000 करोड़ से अधिक के काले धन को वैध बनाने का आरोप लगाया।

0
1587
आईटी कमिश्नर एस के श्रीवास्तव ने कहा चिदंबरम ने एनडीटीवी के माध्यम से 6000 करोड़ रुपये से अधिक काला धन वैध बनाया, वह जालसाज है!
आईटी कमिश्नर एस के श्रीवास्तव ने कहा चिदंबरम ने एनडीटीवी के माध्यम से 6000 करोड़ रुपये से अधिक काला धन वैध बनाया, वह जालसाज है!

आयकर आयुक्त एस के श्रीवास्तव का आरोप

एनडीटीवी फ़्रॉड्स के मुखबिर आयकर आयुक्त एस के श्रीवास्तव ने आरोप लगाया कि पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम एक बहुत बड़ा घोटालेबाज है, उसने टेलीविजन चैनल एनडीटीवी के माध्यम से 6000 करोड़ रुपये से अधिक काले धन को वैध बनाया। उम्मीद है कि कानून टीवी चैनल के मालिक प्रणय रॉय की मिलीभगत से एनडीटीवी के जरिए काले धन को वैध बनाने के आरोप में जल्द ही चिदंबरम को पकड़ लेगा, श्रीवास्तव ने कहा कि वह इस मामले में न्याय मिलने तक अपनी लड़ाई जारी रखेंगे।

समारोह में बोलते हुए, संजय कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि कैसे एनडीटीवी द्वारा कर धोखाधड़ी और काले धन को वैध बनाने की क्रिया पाए जाने के बाद चिदंबरम ने 2006 से उन्हें शिकार बनाने की कोशिश की।

श्रीवास्तव चिदंबरम के गृह नगर करैकुडी में ‘एनडीटीवी फ्रॉड्स‘ पुस्तक के विमोचन समारोह को संबोधित कर रहे थे, साथ ही दुर्लभ पुस्तकों के प्रकाशक एस रंगनाथन भी थे। यह समारोह 17 अप्रैल को आयोजित किया गया था और चिदंबरम ने स्थानीय प्रशासन को इस समारोह को अवरुद्ध करने के लिए कहा और दावा किया कि यह चुनाव के दौरान आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन था जबकि उनके सह-आरोपी बेटे कार्ति उसी शहर से चुनाव लड़ रहे थे। अधिकारियों ने चिदम्बरम को बताया कि समारोह पुस्तक विमोचन से संबंधित है और यदि कोई शिकायत है तो उसे लिखित रूप में देना चाहिए। हालांकि, चिदंबरम ने कोई शिकायत दर्ज नहीं की और श्रीवास्तव और प्रकाशक ने अधिकारियों को यह भी बताया कि वे केवल पुस्तक के विमोचन में लगे थे।

इस खबर को अंग्रेजी में पड़े

समारोह में बोलते हुए, संजय कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि कैसे एनडीटीवी द्वारा कर धोखाधड़ी और काले धन को वैध बनाने की क्रिया पाए जाने के बाद चिदंबरम ने 2006 से उन्हें शिकार बनाने की कोशिश की। आयकर आयुक्त ने मीडिया और सभा को बताया कि चिदंबरम ने दो आईआरएस महिला अधिकारियों के माध्यम से उन पर झूठा यौन शोषण का मामला भी सृजित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.