हलाल और झटके से बनने वाली चीजों का बायकॉट क्यों कर रहे हैं राज ठाकरे?

मनसे ने आरोप लगाया है क‍ि 'हलाल' का कारोबार करने वाले ही टेरर फंडिंग करते है।

0
368
हलाल और झटके से बनने वाली चीजों का बायकॉट क्यों कर रहे हैं राज ठाकरे?
हलाल और झटके से बनने वाली चीजों का बायकॉट क्यों कर रहे हैं राज ठाकरे?

हलाल बायकॉट की मुहिम शुरू करेगी मनसे

महाराष्‍ट्र में राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने अपने कार्यकर्ताओं से अपील की है क‍ि वह हलाल और झटके से बनने वाली चीजों को ना खरीदें। मनसे नेता यशवंत किल्लेदार ने अपने कार्यकर्ताओं से अपील कर कहा है क‍ि क्‍योंक‍ि कुछ धर्म के लोग सिर्फ यह चीज खाते हैं और उनके चलते सभी को मांसाहार के नाम पर हलाल खरीदना पड़ता है। मनसे ने आरोप लगाया है क‍ि ‘हलाल‘ का कारोबार करने वाले ही टेरर फंडिंग करते है। अब लाउडस्पीकर की तरह ‘नो हलाल मुहिम’ की शुरुआत पूरे महाराष्‍ट्र में राज ठाकरे की पार्टी मनसे करेगी।

यशवंत किल्लेदार ने कहा है क‍ि सभी नागरिकों और मीडिया को सूचित किया जाता है कि देश की सबसे बड़ी टेरर फंडिंग के साथ विश्व स्तर पर 7 ट्रिलियन इकोनॉमी ‘हलाल’ के खिलाफ लड़ाई महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना लड़ेगी। हलाल इस्लामिक तरीके से जानवरों के कत्‍ल करने की पद्धति है। अत्यंत क्रूरता से जानवरों की हत्या की जाती है। हिंदू, स‍िख और क्रिश्चियन धार्म‍िक झटका पद्धति से मांस का सेवन करते है, लेकिन धीरे-धीरे हलाल की पद्धति मांस व्यवसाय में बढ़ती गई। इस कारण सभी धर्मों को हलाल पद्धति से मांस लेना पड़ा।

उन्‍होंने कहा है क‍ि इस तरह के बाजार की मोनोपॉली तोड़कर यह षड्यंत्र करने वालों पर सख्ती से कार्रवाई कर इस पर रोजी रोटी चलाने वालों को फिर से उनका काम हासिल करवाना महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का उद्देश्य है। मांस के व्यवसाय के साथ शाकाहारी उत्पाद जैसे कि चिप्स, बिस्किट, चॉकलेट, आइसक्रीम आदि में हस्तक्षेप कर जमीयत उलेमा-ए-हिंद संगठन की तरफ से बाकायदा प्रमाणित किया जा रहा है, जिसमें से कुछ हिस्सा दहशतवाद और देशविरोधी कार्य के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

मनसे नेता ने कहा क‍ि सामान्य लोगों को पता भी नहीं कि खुद के पैसों से वो मृत्यु खरीद रहे हैं। दहशतगर्दी के लिए यह पैसा इस्तेमाल किया जा रहा है। महाराष्ट्र में इस यंत्रणा पर पाबंदी लगानी चाहिए, इसलिए इस तरह के प्रोडक्ट्स को बहिष्कार करने की मुहिम हाथ में लेनी चाहिए, एक आंदोलन शुरू करना चाहिए आप उसमें शामिल हो।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.