‘द जज’ बनाने की आवश्यकता!

फिल्म, 'द जज', लव जिहाद मामलों में एक पैटर्न (नमूना) दिखाती है, जो इस मुद्दे पर हिंदुओं की विशिष्ट उदार प्रतिक्रिया को चित्रित करने के प्रयास के रूप में है।

0
607

लव जिहाद‘ का खतरा भारत में व्यापक रूप से फैला हुआ है। हर दिन हम देश के कुछ हिस्सों में इसके होने के बारे में सुनते हैं। जबकि मुख्यधारा के मीडिया और सभी राजनीतिक दलों, सरकारों, और राज्य मशीनरी के अन्य तंत्रों की राजनीतिक शुद्धता एक भ्रम पैदा करने का प्रयास करती है कि ऐसा मुद्दा मौजूद नहीं है, हर समझदार हिंदू, सिख, बौद्ध और ईसाई इसे अन्यथा जानते हैं। वास्तव में, केरल के ईसाई समुदाय को ‘लव जिहाद’ शब्द लाने का श्रेय दिया जाता है, क्योंकि उन्हें अपनी लड़कियों पर हमले और बाद में ईसाई धर्म से इस्लाम में धर्म परिवर्तन का एहसास हुआ था।

यहां तक कि जब यह समस्या पूरे देश में इतनी बड़ी मात्रा में फैली हुई है और अच्छी तरह से जानी जाती है, तब भी शहरी शिक्षित वर्ग, विशेष रूप से अमीर/मध्यम वर्ग के हिंदू, इस मुद्दे को बाकी की तुलना में एक वास्तविकता के रूप में स्वीकार करने में अधिक संदेह और संकोच करते हैं। इसके लिए कई कारण हैं। व्यापक उदारवादी और वाम नियंत्रित शिक्षा प्रणाली, यह स्कूलों और कॉलेजों में हो या मीडिया में हो, जहां मुसलमानी शासकों के क्रुरता और असभ्यता को छिपाने के साथ ही हिन्दू धर्म की बदनामी की जाती है, और इसके शासकों ने व्यवस्थित रूप से हिंदुओं की पीढ़ियों को इस तरह बनाया है जो पिछले कुछ दशकों से आत्म-ग्लानि और आत्म-घृणा के कीचड़ में धँसते जा रहे हैं। इससे उन्हें उन समस्याओं से पूरी तरह से अलग कर दिया गया है जिन समस्याओं का सामना उनके समुदाय करते हैं। सरकार-प्रायोजित धर्मनिरपेक्षता जैसे अन्य कारकों के प्रभाव ने हर व्यक्ति के गले मड़ दिया है और बॉलीवुड के साथ मनोरंजन उद्योग के ‘गंगा-जमुनी तहज़ीब‘ सिद्धांत ने इस कथा को मुख्य धारा में लाने में मदद की है। नतीजतन, हिंदुओं के एक बड़े हिस्से ने इस विनाशकारी साजिश में बहुत कम रुचि दिखाई है, जो अब उनके दरवाजे पर दस्तक दे रही है।

जब ये विचार मदरसों में पढ़ाए जाते हैं और यहां तक कि कथित रूप से ‘आधुनिक प्रगतिशील’ परिवारों में भी धर्म के हिस्से के रूप में पढ़ाया जाता है, तो यह कोई आश्चर्य नहीं है कि लड़के जब बड़े होते हैं, तो लव जिहाद के मोहरों के रूप में काम करते हैं।

हमारी फिल्म ‘द जज‘ के लिए शोध के दौरान, हमने इन लव जिहाद मामलों में एक पैटर्न देखा है। उसके आधार पर, इन मामलों को मोटे तौर पर नौ श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

  1. हिंदू महिला और मुस्लिम पुरुष प्रेम में हैं। वे शादी करना चाहते हैं। लड़की शादी के बाद हिंदू बने रहना चाहती है। लड़का सहमत है। शादी के बाद और विशेष रूप से बच्चा/बच्चे पैदा होने के बाद, लड़के का परिवार लड़की को धर्म बदलने के लिए दबाव डालना शुरू कर देता है, जब वह मना करती है तो लड़की के लिए गंभीर परिणाम होते हैं।
  2. मुस्लिम लड़का हिंदू होने का ढोंग करता है। वह मंदिरों में भी जाता है और पूजा करता है। इसलिए मासूम हिंदू लड़की उससे शादी करती है। शादी के बाद, उसे पता चलता है कि वह एक मुस्लिम है, और फिर उसे लड़के के परिवार द्वारा धर्मपरिवर्तन के लिए मजबूर किया जाता है।
  3. मुस्लिम लड़का हिंदू लड़की से वादा करता है, वह एक सच्चा मुसलमान है और वह शादी तक उसके साथ संभोग नहीं करेगा। लड़की उसके सिद्धांत के कारण उसके बारे में बहुत सोचती है और परिणामस्वरूप उससे शादी करती है। कुछ साल बाद वह अधिक महिलाओं से शादी करना शुरू कर देता है क्योंकि उसका धर्म बहुविवाह की अनुमति देता है। यह छोटे-शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक होता है।
  4. जो हिंदू लड़की अपनी हिंदू जड़ों और दर्शन से अनभिज्ञ है, उसे लक्षित किया जाता है और मुस्लिम लड़के द्वारा उससे संपर्क किया जाता है। चूंकि उसे अपने धर्म के बारे में पता नहीं है, इसलिए उसे धीरे-धीरे अपने धर्म पर सवाल खड़े करने के लिए तैयार किया जाता है। वह अपने धर्म पर विश्वास खो देती है, जिससे लड़के को उसका फायदा उठाने का पूरा मौका मिलता है। जब वह उसके साथ रहने लगती है, तो उसे अपनी गलती का एहसास होता है। इस तरह के बहुत से मामले केरल और देश के अन्य शहरी इलाकों में भी होते रहे हैं।
  5. लड़की लड़के से स्वेच्छा से शादी करती है क्योंकि दोनों एक-दूसरे के प्यार में हैं। माना जाता है कि दोनों आधुनिक उदारवादी प्रगतिवादी हैं। शादी के बाद, लड़के को लड़की की निष्ठा पर संदेह होने लगता है क्योंकि वह शादी के बाद भी उदार (लिबरल) बनी रहती है। इसलिए वह उस पर हमला करता है, ज्यादातर मामलों में उसकी हत्या करता है।
  6. हिंदू महिला का मुस्लिम पुरुष के साथ एक रिश्ता है जो शादी तक नहीं जाता है। इसके कई कारण हो सकते हैं। वह पहले से शादीशुदा हो सकती है और इसलिए अपने पति को धोखा देने के लिए दोषी महसूस करती है। या शुरुआती उत्तेजना के बाद, वह महसूस करती है कि उसने गलती की है। या कुछ मामलों में जहां महिलाएं मध्यम आयु वर्ग की हैं, उन्हें पता चलता है कि वही आदमी उसकी छोटी महिला रिश्तेदारों (जो उसकी खुद की बेटी भी हो सकती है) में से किसी एक के साथ संबंध बना रहा है या उसे निशाना बना रहा है। इससे उनका रिश्ता खत्म हो सकता है। इस बात से नाराज होकर वह महिला और कभी-कभी उसके पूरे परिवार पर भी हमला करता है।
  7. हिंदू महिलाओं के साथ बलात्कार/हत्या की जाती है, आमतौर पर सबसे भीषण तरीके से। कुछ मामलों में, अश्लील स्थितियों में लड़कियों की तस्वीरें या वीडियो ली जाती हैं, और उन्हें अधिक यौन क्रियायें के लिए ब्लैकमेल किया जाता है। ग्रामीण और छोटे-शहरी क्षेत्रों में बहुत सारे मामले जिनमें दलित शामिल हैं, इस श्रेणी से संबंधित हैं।
  8. हिंदू महिलायें मुस्लिम पुरुषों से शादी करती हैं। वे दोनों शादी के बाद भी अपने-अपने धर्मों का पालन करते हैं, और आदमी या उसके परिवार का कोई हस्तक्षेप नहीं है। लेकिन हिंदू भगवानों के लिए धर्मनिरपेक्ष सम्मान के एक स्पर्श के साथ, उनकी संतानों को निश्चित रूप से मुसलमानों के रूप में तैयार किया जाता है। बॉलीवुड ऐसे मामलों से भरा पड़ा है।
  9. इस श्रेणी में, लड़की हमेशा नाबालिग होती है। उसे बहकाया जाता है और लड़के के साथ प्यार में पड़ने के लिए तैयार किया जाता है। लड़की के परिवार ने उनकी शादी की अनुमति नहीं दी। तो उसका अपहरण कर लिया जाता है (उसकी सहमति से!)। इस्लाम में परिवर्तित किया जाता है। और फिर लड़के से शादी हो जाती है क्योंकि यह 18 साल से कम होने पर भी मुस्लिम कानून के तहत कानूनी है।

इनमें से कई श्रेणियों में, मुस्लिम पुरुष हिंदू लड़की को निशाना बनाने और उससे शादी करने से पहले एक या एक से अधिक पत्नियों के साथ और बच्चों के साथ शादी कर चुका होता है। हिंदू लड़की इस तथ्य से पूरी तरह अनजान होती है।

इस फिल्म को बनाने और प्रस्तुत करने से, हम पूरे भारत में इस मुद्दे पर लोगों को जागरूक करने और संवेदनशील बनाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि बड़े पैमाने पर लड़कियाँ, माता-पिता, और समाज इस खतरे से लड़ने में अधिक सतर्क हो सकें।

प्रारंभ में लव जिहाद के ये सारे वर्ग असंबद्धित लग सकते है, कदाचित असाधारण भी, क्योंकि कई उदाहरणों में काफिर लड़कियां स्वयं इसमें स्वेच्छा से भाग लेती हैं। लेकिन इस सब के तहत, एक अंतर्निहित अवधारणा है जो इस्लामी विचारधारा में निहित है। और उम्माह का विस्तार करने की आवश्यकता है और यह अवधारणा कि काफिर महिलाएं मूल रूप से गुलाम हैं और उनका गुलामों की तरह ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। इसलिए वे पूरी तरह से तुच्छ हैं। जब ये विचार मदरसों में पढ़ाए जाते हैं और यहां तक कि कथित रूप से ‘आधुनिक प्रगतिशील’ परिवारों में भी धर्म के हिस्से के रूप में पढ़ाया जाता है, तो यह कोई आश्चर्य नहीं है कि लड़के जब बड़े होते हैं, तो लव जिहाद के मोहरों के रूप में काम करते हैं। यह उनके धर्म के सर्वोच्च प्राधिकारियों द्वारा अनुमोदित और स्वीकृत प्रणाली है: जितना संभव हो उतने काफिर गर्भ इकट्ठे करो। उम्माह को बढ़ाएं और साथ ही साथ काफ़िरों की आबादी को कम करें। और अगर चीजें योजना के अनुसार नहीं चलती हैं, तो महिला को मारें या घायल करें क्योंकि वह सिर्फ एक काफिर है, एक गुलाम है। इसलिए ऐसी हिंसा!

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

मेरी फिल्म ‘द जज’ इस मुद्दे पर हिंदुओं की विशिष्ट उदार प्रतिक्रिया को चित्रित करने का एक प्रयास है। यह पता चलता है कि जब वे ऐसी स्थिति का सामना करते हैं तो वे कितने अंधे हो जाते हैं। शायद हम उन्हें संदेह लाभ दे सकते है, उनकी अज्ञानता की वजह से जो अपर्याप्त मीडिया सूचना और सरकार के हस्तक्षेप का नतीज़ा है, इसे जानबूझकर एक गंभीर मुद्दे के रूप में न लेने का उनका प्रयास, जब प्रयाप्त सबूत पेश किए जाते है, निंदनीय है और इस पर ध्यान देना जरूरी है। और हमारी फिल्म यही करने का प्रयास करती है। फिल्म उदार हिंदू कुलीन वर्ग के एक और पहलू की भी पड़ताल करती है। और यह उनके साथी हिंदू भाइयों के मुद्दों पर उनकी प्रतिक्रिया है, जो बेहतर धार्मिक आधार के साथ हिंदू प्रथाओं का पालन करते हैं। कुलीन वर्ग आमतौर पर उनके प्रति दृष्टिकोण की तुलना में एक पवित्र प्रदर्शन करते हैं और अधिकांश बार, उन्हें अवमानना के साथ मानते हैं। वे ऐसे लोगों को भक्तों, संघियों या गौमूत्र पीने वालों आदि के रूप में वर्गीकृत करने के लिए एक सेकंड के लिए भी संकोच नहीं करते हैं (इन शब्दों/वाक्यांशों को अज्ञानतावश अपमानजनक मानते हैं)। यह हिंदूफोबिया (हाँ, स्वयं हिंदुओं द्वारा प्रचलित) सामान्य हिन्दुओं के सामने आने वाली समस्याओं की कुल अस्वीकृति की ओर ले जाता है। और लव जिहाद आमतौर पर एक ऐसी ही समस्या है।

यह फिल्म एक ऐसे मुद्दे को प्रस्तुत करने की कोशिश करती है, जो राजनीतिक शुद्धता और शक्ति के परिणामस्वरूप इतने लंबे समय से उपेक्षित है जो उदार/वाम पारिस्थितिक तंत्र द्वारा बनाया गया है। बॉलीवुड वर्तमान स्थितियों के तहत इस विषय पर एक फिल्म बनाने की हिम्मत नहीं करेगा, जबकि यह अपनी फिल्मों और फिल्म सितारों के माध्यम से लव जिहाद को बढ़ावा देने वाले अपराधियों में से एक है। हालांकि यह फिल्म वास्तव में लव जिहाद के किसी भी मामले पर आधारित नहीं है और कहानी काल्पनिक है, यह उनमें से कई से प्रेरित है। इस फिल्म को बनाने और प्रस्तुत करने से, हम पूरे भारत में इस मुद्दे पर लोगों को जागरूक करने और संवेदनशील बनाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि बड़े पैमाने पर लड़कियाँ, माता-पिता, और समाज इस खतरे से लड़ने में अधिक सतर्क हो सकें।

फिल्म कम बजट पर बनाई गई और कई लोगों के उदार दान के साथ जन समर्थन से तैयार की गई है। हम चाहते हैं कि लोग इस फिल्म को देखें, इसका आनंद लें और इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें। हम यह भी चाहते हैं कि भारत में धार्मिक समुदायों के ऐसे मुद्दे (जो मुख्यधारा की मीडिया और वाम/उदार/धर्मनिरपेक्ष प्रणाली द्वारा उपेक्षित हैं), अधिक फिल्म निर्माताओं द्वारा उठाए जाने चाहिए और अधिक फिल्में/वेब सीरीज/लघु फिल्में बनाई जाने की जरूरत है।

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

Jithu Aravamudhan
Latest posts by Jithu Aravamudhan (see all)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.