नेशनल हेराल्ड मामला – सोनिया और राहुल ने आयकर नोटिस और हेराल्ड हाउस के बेदखली नोटिस के प्रस्तुतिकरण पर आपत्ति जताई

आरोपियों के वकील नेशनल हेराल्ड मामले में देरी करने के लिए हर संभव चाल चल रहे हैं!

0
1438
आरोपियों के वकील नेशनल हेराल्ड मामले में देरी करने के लिए हर संभव चाल चल रहे हैं!
आरोपियों के वकील नेशनल हेराल्ड मामले में देरी करने के लिए हर संभव चाल चल रहे हैं!

आयकर और शहरी विकास मंत्रालय के दस्तावेज़ नेशनल हेराल्ड में धोखाधड़ी का पर्दाफाश करते हैं

बुधवार को कांग्रेस नेताओं सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने, भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा नेशनल हेराल्ड मामले में आयकर नोटिस और शहरी विकास मंत्रालय के नोटिस के प्रस्तुतिकरण की मांग पर आपत्ति जताई। आरोपी व्यक्तियों को दिए गए दस्तावेजों का प्रस्तुतिकरण करने के बजाय, जो वे पहले ही दिल्ली उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय में पेश कर चुके थे, कांग्रेस नेताओं ने अपने आपत्ति हलफनामे में कहा कि स्वामी प्रक्रिया में देरी करने की कोशिश कर रहे हैं और उनकी मांग याचिका की स्थिति में अस्पष्ट है।

जुलाई 2018 के बाद दो साल से अधिक समय से, कांग्रेस नेता स्वामी के साथ जिरह कर रहे हैं और उन्होंने हलफनामे में कहा है कि वर्तमान प्रक्रिया के बाद अन्य प्रक्रिया और गवाहों की सूची को मंजूरी देने की मांग दायर की जा सकती है। वर्तमान में 400 करोड़ रुपये से अधिक की आयकर चोरी और हेराल्ड हाउस की बेदखली (निष्कासन) का नोटिस उच्चतम न्यायालय के समक्ष लंबित है। दोनों मामलों में, कांग्रेस दिल्ली उच्च न्यायालय में मुकदमा हार गई और अब अपील शीर्ष अदालत में लंबित है।

स्वामी ने पत्रकार जे गोपीकृष्णन को भी गवाह के रूप में बुलाने की मांग की। राहुल गांधी ने पहले पत्रकार को लिखित रूप से संदेश भेजा था कि अखबार का पुनः विमोचन नहीं है।

आरोपियों की ओर से पेश वकील ने कहा, “वर्तमान आवेदन अस्पष्ट होने के कारण पूरी तरह से खारिज किए जाने योग्य है और मामले में देरी कराने वाला है।” वकील ने अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट सचिन गुप्ता को बताया, “वर्तमान आवेदन को भी खारिज कर दिया जाना चाहिए क्योंकि वर्तमान आवेदन प्रासंगिक प्रावधान के अनुरूप नहीं है।” आवेदन के जवाब में, आरोपी ने कहा कि ऐसे गवाहों, जिन्हें बुलाने की मांग की जा सके, की एक सूची प्रस्तुत करने का स्वामी का कानूनी अधिकार था, अदालत कोई “फिजूल पूछताछ” नहीं कर रही थी।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

कांग्रेस नेताओं ने दस्तावेजों और गवाहों के प्रस्तुतिकरण की स्वामी द्वारा की गयी मांग पर आपत्ति जताते हुए कहा – “शिकायतकर्ता ने गवाहों की कोई सूची प्रस्तुत नहीं की है, हालांकि 21 जुलाई, 2018 को संभावित सबूतों की रिकॉर्डिंग शुरू हो गई थी, जब शिकायतकर्ता ने खुद को गवाह बनाया था। यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि, आवेदन को कानून द्वारा निर्धारित प्रक्रिया को पूरा करना होता है।”

कांग्रेस नेताओं की आपत्ति पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, स्वामी ने कहा कि वे आयकर और अन्य नोटिसों के प्रस्तुतिकरण पर आपत्ति क्यों करते हैं और प्रतिदिन सुनवाई के लिए सहमत होने के लिए कहा?

आयकर और शहरी विकास मंत्रालय के दस्तावेज नेशनल हेराल्ड में धोखाधड़ी का पर्दाफाश करते हैं और यही कारण है कि कांग्रेस नेतृत्व ट्रायल कोर्ट (सुनवाई अदालत) में इन दस्तावेजों के उत्पादन पर आपत्ति जता रहा है। सोनिया और राहुल नियंत्रित कंपनी यंग इंडिया द्वारा 400 करोड़ रुपये से अधिक की बड़ी कर चोरी का खुलासा करते हुए पीगुरूज ने आयकर दस्तावेजों को प्रकाशित किया है। 105 पन्नों के आयकर निष्कर्षों को यहाँ पढ़ा जा सकता है और आयकर के निष्कर्षों की पुष्टि दिल्ली उच्च न्यायालय ने पहले ही कर दी है[1]

स्वामी द्वारा भेजे गए आवेदन में सर्वोच्च न्यायालय के महासचिव संजीव एस कलगाँवकर (रजिस्ट्री ऑफिसर), रजनीश कुमार झा (उप-भूमि एवं विकास अधिकारी), आयकर उपायुक्त -1 साकेत सिंह और कांग्रेस के एक अधिकारी को समन जारी करने की मांग की गयी, कांग्रेस अधिकारी ने 2 नवंबर, 2012 को एक प्रेस बयान जारी किया था। स्वामी ने पत्रकार जे गोपीकृष्णन को भी गवाह के रूप में बुलाने की मांग की। राहुल गांधी ने पहले पत्रकार को लिखित रूप से संदेश भेजा था कि अखबार का पुनः विमोचन नहीं है।

मामले में सात आरोपी हैं – सोनिया और राहुल गांधी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडीस, सुमन दुबे, सैम पित्रोदा और मोतीलाल वोरा, जिनका हाल ही में निधन हो गया, और कंपनी यंग इंडिया।

संदर्भ:

[1] National Herald case: Read 105 page Income Tax Assessment Order against Young Indian exposing Rs.414 crores gainJan 22, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.