पुलवामा हमले के आतंकी को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के लिए भारत और फ्रांस यूएनएससी में आये एक साथ!

पाकिस्तान के बहावलपुर का रहने वाला आलमगीर 2019 के पुलवामा आतंकी हमले का मुख्य साजिशकर्ता था। आलमगीर फंड जुटाने वाला और घुसपैठ का कमांडर था।

0
244
पुलवामा हमले के आतंकी को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के लिए भारत और फ्रांस यूएनएससी में आये एक साथ!
पुलवामा हमले के आतंकी को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के लिए भारत और फ्रांस यूएनएससी में आये एक साथ!

पुलवामा आतंकी हमले में औरंगजेब आलमगीर जैश-ए-मोहम्मद की मुख्य कड़ी था!

फ्रांस की विदेश मंत्री कैथरीन कोलोना मंत्री के रूप में अगले बुधवार को अपने पहले भारत दौरे पर आ रही हैं। लेकिन इस यात्रा से ठीक पहले यूएनएससी में फ्रांस ने टेररिज्म के मुद्दे पर भारत का साथ दिया है। फ्रांस ने पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी मोहिउद्दीन औरंगजेब आलमगीर (पुलवामा हमले में शामिल) और अली काशिफ जान को यूएनएससी 1267 प्रतिबंध समिति द्वारा ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के भारत के प्रस्ताव का समर्थन किया है। मंत्री के रूप में अपना पहला दौरा कर रहीं कोलोना 14 से 15 सितंबर को दिल्ली में होंगी और देश के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात करेंगी।

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार औरंगजेब आलमगीर 2019 पुलवामा हमले का जैश ए मोहम्मद की तरफ से मुख्य कड़ी था। मामले से वाकिफ अधिकारियों के मुताबिक औरंगजेब आलमगीर उर्फ ​मुजाहिद भाई और अली काशिफ जान उर्फ जान अली काशिफ को 12 अप्रैल को गृह मंत्रालय ने यूएपीए के तहत आतंकवादी घोषित किया था। पाकिस्तान के बहावलपुर का रहने वाला आलमगीर 2019 के पुलवामा आतंकी हमले का मुख्य साजिशकर्ता था। आलमगीर फंड जुटाने वाला और घुसपैठ का कमांडर था।

मालूम हो कि 2019 के पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। अधिकारियों ने कहा कि आलमगीर जम्मू-कश्मीर में अफगान आतंकवादियों की घुसपैठ के साथ-साथ घाटी में आतंकी हमलों के लिए भी जिम्मेदार है। अधिकारियों ने आतंकी काशिफ के बारे में बताते हुए कहा कि खैबर पख्तूनख्वा के चरसद्दा का रहने वाला काशिफ जान ऑपरेशनल कमांडर है और मसूद अजहर अल्वी फैमली इंटरप्राइजेज द्वारा संचालित बहावलपुर स्थित जैश समूह की कोर प्लानिंग कमेटी का हिस्सा है।

काशिफ 2016 के पठानकोट वायु सेना स्टेशन हमले में शामिल आतंकवादियों का हैंडलर था और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा जांच के तहत कई मामलों में मुख्य आरोपी है। अधिकारियों के अनुसार जैश के प्रमुख कमांडरों में से एक काशिफ, जम्मू में सीमा रेखा के पार से आतंकी संगठन को संचालित करता है। इसके साथ ही पाकिस्तानी सेना से कवर फायर के तहत भारत में घुसपैठियों को भेजने की साजिश करता है।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.