कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो द्वारा भारत के घरेलू मुद्दों में हस्तक्षेप करने के विरोध में, भारत द्विपक्षीय वार्ता से पीछे हटा

भारत के आंतरिक मामलों पर कनाडाई राजनेताओं के बयानों के लिए भारत ने कनाडा पर पलटवार किया!

1
760
भारत के आंतरिक मामलों पर कनाडाई राजनेताओं के बयानों के लिए भारत ने कनाडा पर पलटवार किया!
भारत के आंतरिक मामलों पर कनाडाई राजनेताओं के बयानों के लिए भारत ने कनाडा पर पलटवार किया!

ट्रूडो कनाडा में अपने खालिस्तानी सिख वोट बैंक को खुश करने के लिए खतरनाक खेल खेल रहे हैं

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के व्यवहार के विरोध में भारत ने मंगलवार को यह कहते हुए, राजनयिक स्तर की उच्च स्तरीय द्विपक्षीय वार्ता में हिस्सा न लेने का फैसला किया, यह कहते हुए कि समय अयोग्य नहीं है। यह प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो द्वारा भारत में प्रदर्शनकारी किसानों का समर्थन करने के कुछ दिनों बाद सामने आया है। भारत का मानना है कि ट्रूडो कनाडा में अपने खालिस्तानी सिख वोट बैंक को खुश करने के लिए खतरनाक खेल खेल रहे हैं। भारत ने ट्रूडो की टिप्पणी को “अनुचित” करार दिया और नई दिल्ली में कनाडाई उच्चायुक्त को बुलाने के बाद एक आपत्तिपत्र जारी करते हुए अपनी नाराजगी व्यक्त की थी। पिछले सप्ताह विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कोरोनोवायरस महामारी से लड़ने के लिए एक कनाडाई नेतृत्व वाली पहल से हाथ भी खींच लिए थे।

जयशंकर 7 दिसंबर को कनाडा के विदेश मंत्री फ्रेंकोइस-फिलिप शैम्पेन द्वारा आयोजित वैश्विक महामारी से निपटने के लिए रणनीति तैयार करने हेतु आयोजित बैठक में शामिल नहीं हुए थे। बैठक में भाग नहीं लेने का कारण जयशंकर के पास समय का न होना बताया गया था। संयोग से, वह नवंबर में आखिरी बैठक में शामिल हुए थे। नवीनतम घटनाक्रम के संबंध में भारत ने कनाडा को दोनों देशों के शीर्ष राजनयिकों के बीच परामर्श को स्थगित करने के लिए कहा। यह वार्ता रीवा गांगुली दास सचिव (पूर्व) और कनाडा के समकक्ष के बीच होनी थी। सूत्रों ने कहा कि नई दिल्ली ने ओटावा को अवगत कराया कि तारीख असुविधाजनक थी।

भारत ने यह भी कहा कि “कनाडाई नेतृत्व के बयानों ने कनाडा में हमारे उच्चायोग और वाणिज्य दूतावासों के सामने चरमपंथी गतिविधियों को इकट्ठा होने को प्रोत्साहित किया है, जिससे सुरक्षा के मुद्दे खड़े हुए हैं।

विदेश मंत्री जयशंकर ने पिछले हफ्ते कनाडा के विदेश मंत्री फ्रेंकोइस-फिलिप शैंपेन द्वारा कोरोना महामारी पर रणनीति तैयार करने के लिए आयोजित कोविड-19 मंत्रिस्तरीय समन्वय समूह में हिस्सा नहीं लिया था। कनाडा में गुरु नानक की 551 वीं जयंती के उपलक्ष्य में एक वीडियो संबोधन के दौरान ट्रूडो द्वारा किसान प्रदर्शनों को “चिंताजनक” बताये जाने के बाद भारत की ये प्रतिक्रियाएं आईं हैं। उन्होंने यह भी कहा कि शांतिपूर्ण विरोध के अधिकार की रक्षा के लिए कनाडा हमेशा खड़ा है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

कनाडाई प्रधान मंत्री की टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए भारत ने अपने आपत्ति पत्र में कहा, “कनाडा के प्रधान मंत्री, कुछ कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों द्वारा भारतीय किसानों से संबंधित मुद्दों पर की गयीं टिप्पणियां, हमारे आंतरिक मामलों में ‘अस्वीकार्य हस्तक्षेप‘ हैं।” भारत ने यह भी कहा कि “कनाडाई नेतृत्व के बयानों ने कनाडा में हमारे उच्चायोग और वाणिज्य दूतावासों के सामने चरमपंथी गतिविधियों को इकट्ठा होने को प्रोत्साहित किया है, जिससे सुरक्षा के मुद्दे खड़े हुए हैं।”

नई दिल्ली ने कहा कि कनाडा के नेतृत्व की टिप्पणियों से भारत और कनाडा के बीच संबंधों पर “गंभीर रूप से हानिकारक प्रभाव” पड़ सकता है। भारत ने यह भी कहा कि ट्रूडो की टिप्पणी “अपरिपक्व थी।”

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.