अमेरिकी नौसेना ने भारतीय नौसेना को पहले दो एमएच-60आर मल्टीरोल हेलीकॉप्टर सौंपे। 2.4 बिलियन डॉलर मूल्य के कुल 24 हेलीकॉप्टर

भारत ने अपनी मारक क्षमता बढ़ाई, पनडुब्बियों से निपटने के लिए अपनी नौसेना के लिए अमेरिकी हेलीकॉप्टर खरीदे

0
542
भारत ने अपनी मारक क्षमता बढ़ाई, पनडुब्बियों से निपटने के लिए अपनी नौसेना के लिए अमेरिकी हेलीकॉप्टर खरीदे
भारत ने अपनी मारक क्षमता बढ़ाई, पनडुब्बियों से निपटने के लिए अपनी नौसेना के लिए अमेरिकी हेलीकॉप्टर खरीदे

भारतीय नौसेना ने US से पहले 2 एमएच-60आर बहु-भूमिका वाले हेलीकॉप्टर शामिल किए

भारतीय नौसेना ने, अमेरिकी नौसेना से पहले दो एमएच-60आर बहु-भूमिका हेलीकॉप्टर (मल्टीरोल) की प्राप्त करने के साथ अपनी विमानन क्षमताओं और दुश्मन पनडुब्बियों का पता लगाने की क्षमता में वृद्धि की। दोनों देशों ने लॉकहीड मार्टिन द्वारा निर्मित 24 ऐसे बहुमुखी हेलीकॉप्टरों के लिए एक सौदा किया है। अनुबंध 2.4 बिलियन डॉलर (2.4 अरब डॉलर) का है। हेलीकॉप्टर विदेशी सैन्य बिक्री मार्ग (एफएमएस) के जरिए आ रहे हैं। एफएमएस के अनुसार, अमेरिकी सरकार ने अनुबंध के सभी नियमों और शर्तों के लिए गारंटी दी है क्योंकि यह दोनों सरकारों के बीच हुआ था।

भारतीय नौसेना के अधिकारियों ने पहले दो हेलीकॉप्टरों का विवरण देते हुए कहा कि अमेरिकी नौसेना ने शुक्रवार को सैन डिएगो के नॉर्थ आइलैंड में एक समारोह में हेलीकॉप्टर सौंपे। समारोह में इन हेलीकाप्टरों के औपचारिक हस्तांतरण को किया गया, हेलीकाप्टरों को वाशिंगटन में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने स्वीकार किया।

अधिकारियों ने कहा कि इन एमएच-60आर बहु-भूमिका वाले हेलीकॉप्टरों के शामिल होने से भारतीय नौसेना की त्रि-आयामी क्षमताओं में वृद्धि होगी।.

इस समारोह में वाइस एडमिरल केनेथ व्हाइटसेल, कमांडर नेवल एयर फोर्स, यूएसएन और वाइस एडमिरल रवनीत सिंह के बीच हेलीकॉप्टरों के दस्तावेजों का आदान-प्रदान भी हुआ। लॉकहीड मार्टिन कॉरपोरेशन द्वारा निर्मित एमएच-60आर हेलीकॉप्टर एक ऑल वेदर (हर मौसम में कार्य कर सकने वाला) हेलीकॉप्टर है जिसे अत्याधुनिक एवियोनिक्स और सेंसर के साथ कई मिशनों में सहायता प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

हेलीकॉप्टरों को कई विशिष्ट भारतीय उपकरणों और हथियारों के साथ भी संशोधित किया जाएगा। इन शक्तिशाली हेलीकॉप्टरों का उपयोग करने के लिए, भारतीय चालक दल का पहला बैच वर्तमान में यूएसए में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा है। अधिकारियों ने कहा कि इन एमआरएच को शामिल करने से भारतीय नौसेना की त्रि-आयामी क्षमताओं में वृद्धि होगी।

भारतीय राजदूत ने कहा कि सभी मौसमों में बहु-भूमिका वाले हेलीकॉप्टरों को शामिल करना भारत-अमेरिका द्विपक्षीय रक्षा संबंधों में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा – “भारत अमेरिका की दोस्ती आसमान को छू रही है! (नीचे दिया गया है)” उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में द्विपक्षीय रक्षा व्यापार बढ़कर 20 अरब डॉलर से अधिक हो गया है। उन्होंने कहा कि रक्षा व्यापार से आगे बढ़ते हुए, भारत और अमेरिका रक्षा प्लेटफार्मों के सह-उत्पादन और सह-विकास पर भी साथ काम कर रहे हैं

संधू ने हाल के दिनों में रक्षा क्षेत्र में भारत द्वारा किए गए सुधार उपायों पर भी प्रकाश डाला, जिन्होंने विदेशी निवेशकों के लिए नए अवसर खोले हैं। रक्षा विभाग के अनुसार, प्रस्तावित बिक्री भारत को सतह-रोधी और पनडुब्बी-रोधी युद्ध अभियानों को करने की क्षमता प्रदान करेगी, साथ ही वर्टिकल रिप्लेनिशमेंट, खोज और बचाव, और संचार रिले सहित अन्य मिशनों को करने की क्षमता प्रदान करेगी।

भारत अपनी बढ़ी हुई क्षमता का उपयोग क्षेत्रीय खतरों के लिए एक निवारक के रूप में और अपनी मातृभूमि की सुरक्षा को मजबूत करने के लिए करेगा। भारत को इन हेलीकॉप्टरों को अपने सशस्त्र बलों में शामिल करने में कोई कठिनाई नहीं होगी, अप्रैल 2019 में काँग्रेस को एक संचार में कहा गया था। भारतीय मंत्रिमंडल ने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा से कुछ हफ्ते पहले फरवरी 2020 में हेलीकॉप्टरों की खरीद को मंजूरी दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.