चीन से तनाव के बीच ताइवान के बड़े मिसाइल साइंटिस्ट की संदिग्ध मौत!

चीन ने ताइवान पर न केवल व्यापार प्रतिबंध लगाए बल्कि यह भी कहा कि वह नैंसी पेलोसी की यात्रा को लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ कई तरह की बातचीत और सहयोग समझौतों से पीछे हट जाएगा।

0
62
चीन से तनाव के बीच ताइवान के बड़े मिसाइल साइंटिस्ट की संदिग्ध मौत!
चीन से तनाव के बीच ताइवान के बड़े मिसाइल साइंटिस्ट की संदिग्ध मौत!

चीन-ताइवान तनातनी के बीच ताइवानी वैज्ञानिक की संदिग्ध मौत!

एक ओर ताइवान-चीन के बीच गर्म माहौल और इसी बीच ताइवान की आधिकारिक सेंट्रल न्यूज एजेंसी के मुताबिक ताइवानी सेना के स्वामित्व वाले नेशनल चुंग-शान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के उप प्रमुख ओ यांग ली-हिंग शनिवार सुबह दक्षिणी ताइवान के एक होटल के कमरे में मृत पाए गए। उनकी मौत के पीछे के कारणों की जांच चल रही है।

ताइवान रक्षा मंत्रालय की अनुसंधान एवं विकास इकाई के उप प्रमुख शनिवार सुबह एक होटल के कमरे में मृत पाए गए। ताइवान की आधिकारिक केंद्रीय समाचार एजेंसी ने इस खबर की पुष्टि की है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक ताइवानी सेना के स्वामित्व वाले नेशनल चुंग-शान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के उप प्रमुख ओ यांग ली-हिंग शनिवार सुबह दक्षिणी ताइवान के एक होटल के कमरे में मृत पाए गए। उनकी मौत के पीछे के कारणों की जांच चल रही है।

ब्रिटिश न्यूज एजेंसी राॅयटर्स ने सीएनए के हवाले से बताया कि ओ यांग ली-हिंग पिंगटुंग के दक्षिणी काउंटी की व्यावसायिक यात्रा पर थे। उन्होंने ताइवान की विभिन्न मिसाइल उत्पादन परियोजनाओं की निगरानी के लिए इस साल की शुरुआत में नेशनल चुंग-शान इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के उप प्रमुख के रूप में पद ग्रहण किया था। ताइवानी सेना के स्वामित्व वाली संस्था इस साल अपनी वार्षिक मिसाइल उत्पादन क्षमता को दोगुना से अधिक, 500 के करीब करने के लिए काम कर रही है। क्योंकि यह द्वीपीय देश चीन के बढ़ते सैन्य खतरे के रूप में अपनी युद्ध शक्ति को तेजी से बढ़ाने की दिशा में काम कर रहा है।

विशेष रूप से हाल के महीनों में बीजिंग ने अपनी तथाकथित वन चाइना नीति पर जोर बढ़ाया है और ताइवान के प्रति सख्त रुख अपना रहा है। वर्तमान में चीन, अमेरिकी संसद की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के प्रतिशोध में इस द्वीपीय देश की चारों ओर से घेराबंदी कर बड़े पैमाने पर सैन्य अभ्यास कर रहा है। इस बीच, ताइवान ने चीन की सेना पर शनिवार को अपने मुख्य द्वीप पर हमले का ‘अनुकरण’ करने का आरोप लगाया। नैंसी पेलोसी 25 वर्षों में ताइवान का दौरा करने वाली अमेरिकी संसद की पहली अध्यक्ष हैं।

उन्होंने ताइपे में ताइवान की संप्रभुता और सुरक्षा को बरकरार रखने की वकालत की। इस घटना के बाद पहले से बिगड़ते संबंधों के बीच अमेरिका और चीन सीधे टकराव की स्थिति में खड़े हो गए हैं। पेलोसी के ताइवान छोड़ने के 18 घंटे बाद चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की सभी शाखाओं ने पहली बार द्वीप को पार कर बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास शुरू किया। चीन ने ताइवान पर न केवल व्यापार प्रतिबंध लगाए बल्कि यह भी कहा कि वह नैंसी पेलोसी की यात्रा को लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ कई तरह की बातचीत और सहयोग समझौतों से पीछे हट जाएगा।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.