डूरंड कप 2022 जीतने के बाद सुनील छेत्री का हुआ अपमान, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

बेंगलुरू एफसी के करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री का भी यह पहला डूरंड कप खिताब है।

0
110
डूरंड कप जीतकर भी नहीं आया करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री के हिस्से में सम्मान
डूरंड कप जीतकर भी नहीं आया करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री के हिस्से में सम्मान

डूरंड कप जीतकर भी नहीं आया करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री के हिस्से में सम्मान

बेंगलुरू एफसी ने मुंबई सिटी एफसी को 2-1 से हराकर रविवार (18 सितंबर) को सॉल्ट लेक स्टेडियम में अपना पहला डूरंड कप फुटबॉल टूर्नामेंट खिताब जीत लिया है। बेंगलुरू एफसी के करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री का भी यह पहला डूरंड कप खिताब है, लेकिन खिताब जीतने के बाद उनका अपमान हुआ है, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

यह कोई रहस्य नहीं है कि क्रिकेट भारत में नंबर एक खेल है और इस खेल की लोकप्रियता और फैंटेसी के करीब भी कुछ नहीं आता है। अन्य खेल अभी भी अपनी जगह बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं सुनील छेत्री के नेतृत्व वाली भारतीय फुटबॉल टीम में हाल के दिनों में सुधार हुआ है और इसका काफी श्रेय कप्तान को जाता है। सुनील छेत्री न केवल अरबों लोगों के लिए प्रेरणा रहे हैं, बल्कि उन्होंने देश में इस खेल की लोकप्रियता को बढ़ाने में भी मदद की है। बावजूद इसके डूरंड कप फाइनल के बाद रविवार को साल्ट लेक स्टेडियम में जो हुआ वह बेहद दुखद है।

बता दें कि सिर्फ सुनील छेत्री का अपमान ही नहीं हुआ बल्कि मैच के हीरो रहे शिव शक्ति को भी इस तरह की बेइज्जती का सामना करना पड़ा है।

विजेता टीम के लिए शिव शक्ति (10वें मिनट) और ब्राजील के एलन कोस्टा (61वें मिनट) ने गोल किए। मुंबई सिटी के लिए मैच का एकमात्र गोल अपुइया किया। कप्तान सुनील छेत्री के पास भी गोल करने के कुछ सुनहरे मौके थे, एक बार 69वें मिनट में, जब उनके बाएं पैर की स्ट्राइक लक्ष्य से चूक गई और फिर 87वें में जब वे कीपर के साथ आमने-सामने थे, लेकिन लचेनपा ऊपर थे, जिन्होंने इसे बचा लिया। नए कोच साइमन ग्रेसन के साथ बेंगलुरु की टीम ने ये मैच 2-1 से जीता।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.