राम रहीम पैरोल पर आकर कर रहा ‘चुनावी कसरत’; ऑनलाइन सत्संग में आशीर्वाद लेने पहुंचे पंचायत चुनावों के उम्मीदवार!

पंचायत चुनावों के उम्मीदवार समर्थन मांगने राम रहीम के सत्संग में पहुंच गए। ये सभी सरपंच, ब्लॉक समिति मेंबर और जिला परिषद पदों के दावेदार उम्मीदवार थे।

0
71
राम रहीम पैरोल पर आकर कर रहा 'चुनावी कसरत'
राम रहीम पैरोल पर आकर कर रहा 'चुनावी कसरत'

राम रहीम पैरोल पर बाहर आकर बैठा रहा चुनावी गणित

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम का हरियाणा में पंचायत चुनाव कनेक्शन सामने आ गया है। उत्तर प्रदेश के बागपत के बरनावा आश्रम से राम रहीम ने सोमवार को पहला ऑनलाइन सत्संग किया। इसका पता चलते ही पंचायत चुनावों के उम्मीदवार समर्थन मांगने उसके सत्संग में पहुंच गए। ये सभी सरपंच, ब्लॉक समिति मेंबर और जिला परिषद पदों के दावेदार उम्मीदवार थे।

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल के विधानसभा क्षेत्र करनाल की नगर निगम चेयरपर्सन रेणु बाला गुप्ता और सीनियर मेयर और डिप्टी मेयर भी हाजिरी लगवाने पहुंचे। तीनों भाजपा के वरिष्ठ नेता है। उन्होंने राम रहीम से ऑनलाइन ही आशीर्वाद लिया।

राम रहीम ने सोमवार को करीब दो घंटे तक ऑनलाइन सत्संग किया। वह सत्संग में प्रवचन करते हुए खुद को संत की उपाधि दे रहा है। साथ ही जब अपने प्रेमियों यानी श्रद्धालुओं से वार्तालाप की तो करनाल के डेरा सच्चा सौदा आश्रम में सीनियर मेयर राजेश ने कहा कि मैं डेरे से पुराना जुड़ा हूं।

आपसे शहर की मेयर रेणु बाला गुप्ता भी बात करनी चाहती थी, परंतु जाम में फंस गए। इसके बाद करनाल के डिप्टी मेयर, घरौंडा ब्लॉक समिति के पूर्व चेयरमैन, जिला परिषद के उम्मीदवार, सरपंची के दावेदार बारी- बारी से अपना परिचय देने लग गए। राम रहीम के समक्ष सभी ने चुनाव का जिक्र किया और जीत का आशीर्वाद मांगा।

अंत में करनाल नगर निगम की चेयरपर्सन रेणु बाला की चिट राम रहीम के पास पहुंची तो वह ऑनलाइन हुई और कहा कि आप पहले भी स्वच्छता अभियान के लिए करनाल आए थे। अब भी करनाल में आकर दर्शन दें। बता दे कि प्रदेश में पंचायती चुनावों की घोषणा हो चुकी है। पहले चरण के पंचायती चुनाव 30 अक्टूबर और 2 अक्टूबर को है। इसके अतिरिक्त आदमपुर उप चुनाव के लिए वोटिंग 3 अक्टूबर को है।

यौन शोषणा के दोषी राम रहीम ने खुद के नकली होने के प्रचार पर अबकी बार अपने विरोधियों पर कटाक्ष किया। राम रहीम ने कहा कि हम वहीं है, दूसरे नहीं है। हम असली है। हम अपना प्रूफ नहीं दे रहे, हम केवल अपने बच्चों को याद दिलाना चाहते हैं। परंतु कई कहते कि मैं क्यों मानूं?। नहीं मानने से क्या फर्क पड़ता है। भगवान सबको खुशियां दें।

बता दें कि राम रहीम पिछली बार जब पैरोल पर आया था तो डेरे के प्रेमियों के एक ग्रुप ने उसके असली होने पर संदेह जताया था। प्रेमियों ने राम रहीम को नकली बताकर पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका तक दायर कर दी थी। कोर्ट ने याचिकाकर्ता को फटकार भी लगाई थी। इसके बाद राम रहीम ने उसे नकली कहने वालों पर तंज कसे थे।

राम रहीम ने ऑनलाइन सत्संग के दौरान कई ब्लॉक के आश्रम में लेट आने वाले प्रेमियों पर नाराजगी जाहिर की। राम रहीम ने कहा कि टाइम पर आया करो। सुनारिया में हम अपने टाइम के पक्के हैं। हमारी एक ही शर्त है, हाजिरी में नंबर वन रहे। संत हो गए तो कैसे आदत बदल जाए। आप लोग हमारी आदत खराब कर रहे हो।

2017 से साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा प्रमुख सजा काट रहा है। उसे पत्रकार छत्रपति और रणजीत हत्याकांड में भी उसे सजा हो चुकी है। राम रहीम को इसी साल पंजाब चुनाव से ठीक पहले 7 फरवरी को 21 दिन की पैरोल मिली थी। इसके बाद 17 जून को राम रहीम 30 दिन की पैरोल मिली थी और वह यूपी के बागपत आश्रम में रूका था।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.