क्या पाकिस्तान व्यवस्थित रूप से अपने अल्पसंख्यकों का सफाया कर रहा है?

पाकिस्तान में हिंदुओं के नियोजित बलात्कार और धर्मांतरण को दुनिया द्वारा तत्काल गौर करने की आवश्यकता है।

0
421
पाकिस्तान में हिंदुओं के नियोजित बलात्कार और धर्मांतरण को दुनिया द्वारा तत्काल गौर करने की आवश्यकता है।
पाकिस्तान में हिंदुओं के नियोजित बलात्कार और धर्मांतरण को दुनिया द्वारा तत्काल गौर करने की आवश्यकता है।

पाकिस्तान के अकेले सिंध प्रांत में हर दिन तीन हिंदू लड़कियों का बलात्कार किया जाता है और उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जाता है[1]। इस अशुभ आंकड़े से दुनिया भर के हर सनातनी के कानों में खतरे की घंटी बजनी चाहिए। जैसे ही लड़कियां 16 साल या इस उम्र की हो जाती हैं, उन्हें जबरन उनके घरों से ले जाया जाता है, उनके माता-पिता के विरोध के बावजूद और कई बार पूरा गाँव उनके साथ बलात्कार करता है और अंत में उन्हें धर्मांतरित कर दिया जाता है और किसी बूढ़े या मानसिक विक्षिप्त व्यक्ति से शादी करा दी जाती है। अनिवार्य रूप से उसका भविष्य बर्बाद हो जाता है[2]

पाकिस्तान में अभी भी 7 मिलियन से अधिक हिंदू रहते हैं

ज्यादातर ग्रामीण सिंध और पंजाब में लगभग 7 मिलियन हिंदू रहते हैं, इस डर के माहौल की वजह से वे भी धर्मांतरण के शिकार होने के लिए मजबूर हो जाएंगे। सेना के निहित समर्थन (वास्तव में पाकिस्तान को चलाने वाली संस्था) के साथ स्थिर प्रशासन में गिरावट का मतलब है कि उत्पीड़ित अल्पसंख्यक समुदाय दमनकारी बहुसंख्यकों की दया पर है। भारत सरकार उन लोगों को नागरिकता दे रही है जो आश्रय मांग रहे हैं लेकिन ये बाढ़ की वजह से निकाले जाने वाले हिन्दुओं की संख्या की तुलना में केवल एक बूंद है (1000 प्रति माह), जिनका अपनी जमीन पर समान हक है। लेकिन भारत में वामपंथी उदारवादियों के साथ-साथ यूनाइटेड स्टेट्स काउंसिल फॉर इंडिविजुअल रिलिजियस फ़्रीडम (यूएससीआईआरएफ) के अव्यवहारिक दक्षिण ऐशियाई विशेषज्ञ सनातनियों की दुर्दशा को नज़रअंदाज़ करते हैं, जहाँ वे अल्पसंख्यक हैं और इसके बजाय भारत में मुसलमान पर कथित हमलों की खोज करते हैं और इसका तब तक ढोल पीटते हैं जब तक किसी के कान बहरे न हो जाएं।

सिंध प्रांत में सामाजिक न्याय की कमी को इंगित करते हुए, उन्होंने लिखा है “सिंध प्रांत की तुलना में कहीं और इतनी अधिक विफलता स्पष्ट नहीं है, जो अक्सर पाकिस्तानी सरकार द्वारा कई आर्थिक और सामाजिक अन्याय से पीड़ित है”।

अमेरिकी कांग्रेस के 10 सदस्यों ने ट्रम्प को पत्र लिखा

यह देखकर अच्छा लगा कि कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने इसके बारे में कुछ करने का फैसला किया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान की बैठक से पहले, संयुक्त राज्य कांग्रेस के 10 सदस्यों ने राष्ट्रपति ट्रम्प को पत्र लिखकर, उनसे इमरान खान को इस क्रूर और भयावह बलात्कार / धर्मांतरण का मुकाबला करने के लिए कड़े कदम उठाने का दबाव बनाने का आग्रह किया है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सिंध प्रांत में सामाजिक न्याय की कमी को इंगित करते हुए, उन्होंने लिखा है “सिंध प्रांत की तुलना में कहीं और इतनी अधिक विफलता स्पष्ट नहीं है, जो अक्सर पाकिस्तानी सरकार द्वारा कई आर्थिक और सामाजिक अन्याय से पीड़ित है”।

उन्होंने शासन के समर्थन से हिंदू और ईसाई लड़कियों के जबरन अपहरण और धर्मांतरण की ओर इशारा किया। उनकी संख्या डॉ ओमेन्द्र रत्नु द्वारा पीगुरूज को दिए अपने साक्षात्कार में की गई टिप्पणियों से मेल खाती है कि सिंध प्रांत में हर दिन कम से कम 3 लड़कियों का बलात्कार और जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता था। ब्रैड शेरमैन, एन वैगनर, एडम बी शिफ, जान शकोस्की, एलेनोर एच नॉर्टन, कैरोलिन बी मालोनी, डेविड ई प्राइस, जुआन वर्गास, डेविड श्विकर्ट, डैन क्रैंशव द्वारा हस्ताक्षरित पूरा पत्र नीचे प्रकाशित किया गया है:

Letter to the President Page 1
Letter to the President Page 1
Letter to the President Page 2
Letter to the President Page 2
Letter to the President Page 3
Letter to the President Page 3

सन्दर्भ :

[1] How Nimittekam initiative is helping Hindu refugeesPGurus channel on YouTube

[2] Hindu today, Muslim tomorrowAug 14, 2017, The Atlantic

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.