चीन के खिलाफ भारत का रणनीतिक बदलाव!

भारत अब बीजिंग से युद्ध के समान स्तर पर सक्षम और समान होने के रूप में देखा जाता है।

0
673

चीन ने हमेशा भारत को एक संभावित प्रतियोगी और खतरे के रूप में माना है।

भारत और चीन के बीच रिश्ते को सबसे कम और सटीक शब्दों में बताया जा सकता है, परस्पर संदेह और अविश्वास। पिछले छह दशकों या इससे भी ज्यादा समय से दोनों देशों के बीच संबंधों की एक त्वरित समीक्षा से पता चलता है कि भारत अपने आर्थिक हितों और क्षेत्रीय अखंडता के लिए संघर्ष और धमकियों की बढ़ती गति के साथ संघर्ष कर रहा था। चीन ने हमेशा भारत को एक संभावित प्रतियोगी और खतरे के रूप में माना है। इसलिए उसने रणनीति में हर चाल का प्रयोग किया है ताकि भारत के रास्ते में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से परदे के पीछे से बाधा उत्पन्न हो सके।

भारत को लंबे समय से पाकिस्तान को चीन से समर्थन की जानकारी है – परमाणु हथियारों के निर्माण से लेकर आतंकवाद के जहर को प्रोत्साहित करने तक। खुफिया एजेंसियों को भी लंबे समय से भारत में चीनी दखलंदाजी के बारे में पता चल है – अपने दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए अपने पेरोल में दोस्ताना पत्रकारों के बीच तालमेल रखने के लिए कम्युनिस्टों के वित्त पोषण से। लेकिन यह आज के खतरनाक अंतर्राष्ट्रीय पारिस्थितिकी तंत्र में बिल्कुल सामान्य है और भारत को शिकायत करने का कोई कारण नहीं है परन्तु स्वयं की रणनीतिक दृढ़ता बढ़ाने की आवश्यकता है जो उसके हितों की रक्षा कर सके।

बेशक, निश्चित रूप से भारत के कई व्यक्तिगत उदाहरण चीन के सामने खड़े किए गए हैं – डोकलां (2017) या सीमा विवादों पर बातचीत के दौरान सीमावर्ती घटनाओं के सैन्य प्रतिक्रियाओं में। लेकिन कुल मिलाकर, यह स्पष्ट रूप से चीन को रोकने के लिए मजबूत जबाव की कमी थी। इसे भारत के प्रति अपमानजनक रवैया और द्वितीय श्रेणी की नीति समझा जाएगा।

यह काफी हद तक इस तथ्य को जिम्मेदार ठहराता है कि तीन दशकों से अधिक समय तक भारत में गठबंधन सरकारों का दौर रहा और वे कमजोर सरकारें थीं। इसलिए अंतरराष्ट्रीय मामलों में, पड़ोसी देशों के संबंध में, भारत ने अपनी ताकत के नीचे मुकाबला करना जारी रखा। लेकिन यह स्पष्टीकरण ठोस नहीं है, यह देखते हुए कि बहुत से अस्थिर सरकारों के साथ कई देशों ने अपने आक्रामक पड़ोसियों का डट कर सामना किया है।

वैश्विक शक्ति के रूप में चीन की वृद्धि नागरिकों के हितों की हत्या, अन्य क्षेत्रों को हथियाने, अंतर्राष्ट्रीय न्याय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले को खारिज कर रही है।

प्रधान मंत्री मोदी के नेतृत्व में, धीरे धीरे ही सही लेकिन निश्चित रूप से बदलाव आया है। पाकिस्तान और चीन दोनों के साथ प्रारंभिक लेकिन अल्पावधि प्यार-भाईचारे के बाद, भारत ने गहनता का एक अच्छा तरीका दिखाया है। इस दिशा में इंगित करने वाले पर्याप्त सबूत हैं। यह टुकड़ा हाल तीन की रिपोर्टों को उजागर करेगा जो कि भारत की उभरती मजबूती की पुष्टि करने के लिए बेहद रुचिकर है।

सबसे पहले, मालदीव में राजनीतिक संकट ने भारत और चीन की नौसेनाओं को हिंद महासागर में निकट-टकराव के लिए लाया। चीन ने गहन बंदूक कूटनीति के रूप में देखा है, जिसमें कई जहाजों (कुछ रिपोर्टों में ग्यारह ने कहा है) को हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) के लिए मिसाइल विध्वंसक भी शामिल किया था। लेकिन भारतीय नौसेना ने कार्रवाई की धमकी दी और चेतावनी के लिए हवाई फायर किए जिसने चीनी बेड़े को रोक दिया और चीनी नौसेना (PLAN) को पीछे हटने के लिए मजबूर किया। (निक्की एशियाई समीक्षा 3/23/2018)

दूसरा, भारत उत्तर में चीनी सीमा पर, लद्दाख से अरुणाचल प्रदेश तक अपनी सैन्य दीवार बना चुका है (टाइम्स ऑफ इंडिया 3/31/2018)। न केवल इन क्षेत्रों में सैनिकों का घनत्व बढ़ा है, बल्कि रक्षा के बुनियादी ढांचे में व्यापक उन्नयन भी स्पष्ट है – सड़कों, पुलों, उन्नत लैंडिंग ग्राउंड (एएलजी), सैन्य अस्पताल आदि।

तीसरा, अपने पहले के स्टैंड के स्पष्ट रूप से उलट और चीनी की झुंझलाहट से इतर, सरकार के एक मंत्री और एक वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ता भारत में दलाई लामा के आगमन की 60 वीं वर्षगांठ में भाग ले रहे थे (इकोनॉमिक टाइम्स 3/31/2018)।

यदि आप चाहते हैं कि ये राजनयिक घटनाएं या अपडेट, तो मोदी के तहत चीन को संचालित करने के लिए ऑपरेटिंग दिशानिर्देशों के एक आंतरिक ओवरहाल के परिणामों के रूप में देखा जाना चाहिए। जाहिर है, एक भरोसेमंद भारत एक घातक पड़ोस के प्रबंधन के लिए अपने स्वयं के जवाब लेकर आया है। भारत अब बीजिंग से युद्ध के समान स्तर पर सक्षम और समान होने के रूप में देखा जाता है।

इस संदर्भ में यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि वैश्विक शक्ति के रूप में चीन की वृद्धि नागरिकों के हितों की हत्या, अन्य क्षेत्रों को हथियाने, अंतर्राष्ट्रीय न्याय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले को खारिज कर रही है। और साथ ही, यह अपने पड़ोसी देशों के कई इलाके हड़पने का औचित्य सिद्ध करने के लिए ऐतिहासिक संधियों और अंतरराष्ट्रीय कानूनों को दयनीय रूप से उद्धृत करता है। भारत के विपरीत, इसकी वृद्धि शायद ही शांतिपूर्ण रही है।

2017 में भारत द्वारा डोकलां की जमीन से पीछे हटने से मना कर देना वास्तव में एक अहम मोड़ है।

चीन के ब्रुनेई, मलेशिया, वियतनाम, इंडोनेशिया, फिलीपींस, भारत, जापान और निश्चित रूप से अमेरिका सहित तमाम देशों से विवादित रिश्ते हैं, ये रिश्ते चीन के दोष के रूप में आत्म-स्पष्ट है। चीन के विवाद और अंतरराष्ट्रीय कानून की खुली अवज्ञा – जैसा कि दक्षिण चीन सागर विवाद के मामले में दिखाया किया गया। चीन के खिलाफ पीड़ित देशों का एक गठबंधन तैयार हो रहा है। यदि चीन अपने वर्तमान रवैये को जारी रखता है, तो यह ढीला गठबंधन एक दमदार गठबंधन का रूप ले सकता है जो कि एक दशक से भी कम अंतराल में चीन के लिए दुर्घटनाओं का सबब बनेगा।

एक तानाशाही और सत्तावादी राज्य के लिए, जहां लाखों लोगों को बुनियादी नागरिक स्वतंत्रताओं से वंचित होना पड़ रहा है, चीन में घरेलू स्थिति वास्तव में कमजोर है किसी भी देश के लिए, यह एक वास्तविक आंतरिक टाइम बम है। एक भी गलत कदम या अरब विद्रोह जैसा सामाजिक संकट देश के लिए असाध्य और विनाशकारी स्तिथि पैदा कर सकता है।

चीन की परेशानी उसके पड़ोस तक ही सीमित नहीं है, चूंकि चीन और अमेरिका के बीच जुबानी जंग के साथ-साथ प्रतिबन्धों की खींचतान भी चलती रहती है। चाय के पत्तों को पढ़ना मुश्किल है, यह तय करने के लिए कि क्या शीघ्रता से शुरू होने वाला समझौता क्षितिज में है। लेकिन इस शुरुआती व्यापार युद्ध का नतीजा कुछ भी हो, यह भारत को एक समान दिमाग वाले देशों के साथ अपने संबंधों को विस्तार और गहरा करने का अवसर प्रदान करता है, जो कि चीन को प्रतिद्वंद्वी मानते हैं और उन्हें एकसाथ प्रबल मुकाबला खड़ा करना होगा।

भारत के सशस्त्र बलों द्वारा अपने प्रभावों का विस्तार करने के लिए तैयार किए गए अन्य अनुकूल देशों में उनके समकक्षों द्वारा नियमित सैन्य अभ्यास भारत को लाभ पहुँचा रहे हैं। जनवरी 2018 में गणतंत्र दिवस समारोह के लिए एशियान के 10 राष्ट्राध्यक्षों को दिल्ली में आमंत्रित करना, चीन को शामिल करने के लिए तैयार की गई एक और पहल थी। हालांकि यह किसी के अनुमान है कि आसियान राष्ट्रों का व्यवहार कैसा होगा, भारत ने सही कदम उठाए हैं।

आखिर में, 2017 में भारत द्वारा डोकलां की जमीन से पीछे हटने से मना कर देना वास्तव में एक अहम मोड़ है। 1962 का राजनामा या चीन के समक्ष भारत की राजनीतिक प्रतिष्ठान द्वारा दी गई अल्पता की भावना अब इतिहास में दफन हो गई है। अभी, भारत में सक्रिय रूप से प्रतीत होता है कि हमने कमर कस ली है और हम सक्षम हैं।

हालांकि, भारत के सामने डोकलां जैसे और भी कई मुद्दे आएंगे, चाहे बात हिमालय की ऊंचाइयों की हो या फिर हिंद महासागर की गहराई में, लेकिन प्रतिक्रिया अभूतपूर्व होगी और निश्चित रूप से चीन के पसंद की तो बिल्कुल नहीं होगी।

Note:
1. The views expressed here are those of the author and do not necessarily represent or reflect the views of PGurus.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.