लक्षद्वीप की ओर नेविगेशन ऑपरेशन करने वाले युद्धपोत को लेकर भारत ने अमेरिका से नाराजगी जताई

क्या भारत-अमेरिका संबंध भारत द्वारा की गयी एस-400 की खरीद के कारण तनावपूर्ण हैं?

0
514
क्या भारत-अमेरिका संबंध भारत द्वारा की गयी एस-400 की खरीद के कारण तनावपूर्ण हैं?
क्या भारत-अमेरिका संबंध भारत द्वारा की गयी एस-400 की खरीद के कारण तनावपूर्ण हैं?

भारत ने भारतीय ईईजेड में स्वतंत्र नेविगेशन ऑपरेशन कर रहे अमेरिकी नौसेना के जहाज के मामले में अमेरिका को अपनी चिंताओं से अवगत कराया है!

भारत ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय विशेष आर्थिक क्षेत्र (ईईजेड) में स्वतंत्र नौवहन (नेविगेशन) संचालन कर रहे अमेरिकी नौसेना के एक जहाज के मामले में संयुक्त राज्य अमेरिका को अपनी चिंताओं से अवगत कराया है। भारत ने अमेरिका को बताया कि भारत की सहमति के बिना भारतीय समुद्री सीमा में सैन्य अभ्यास करना संयुक्त राष्ट्र के नियमों का स्पष्ट उल्लंघन है। विदेश मंत्रालय (एमईए) ने एक बयान में कहा कि अमेरिकी नौसेना के जहाज जॉन पॉल जोन्स पर फारस की खाड़ी (Persian Gulf) से मलक्का जलसंधि (Malacca Strait) की ओर जाते हुए लगातार निगरानी की जा रही थी।

भारत की नाराजगी, एक असामान्य कदम के रूप में अमेरिका द्वारा घोषणा करने कि उसके एक जहाज ने भारत की सहमति के बिना इस सप्ताह भारतीय ईईजेड में गश्त की, के बाद आई। अब यह भी सामने आया है कि अमेरिकी नौसेना ने सितंबर 2019 और जुलाई 2020 में भी नौसेना द्वारा अभ्यास किये जाने पर सहमति नहीं ली थी।

एमईए “यूएसएस जॉन पॉल जोन्स पर फारस की खाड़ी से मलक्का जलसंधि की ओर गुजरते हुए लगातार निगरानी की जा रही थी। हमने राजनयिक तरीकों के माध्यम से संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार को अपने ईईजेड में इस तरह के अभ्यास के बारे में अपनी चिंताओं से अवगत कराया है।” मंत्रालय ने कहा कि भारत की घोषित स्थिति यह है कि समुद्री कानूनों पर संयुक्त राष्ट्र के नियम तटीय राष्ट्र की सहमति के बिना अन्य देशों को ईईजेड या महाद्वीपीय क्षेत्र में सैन्य अभ्यास या युद्धाभ्यास करने की अनुमति नहीं देते हैं।

यह ऑपरेशन 7 अप्रैल को निर्देशित-मिसाइल-विध्वंसक यूएसएस जॉन पॉल जोन्स द्वारा संचालित किया गया था, सातवें बेड़े के कमांडर द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है।

विदेश मंत्रालय ने कहा – “भारत की घोषित स्थिति यह है कि समुद्री कानूनों पर संयुक्त राष्ट्र के नियम तटीय राष्ट्र की सहमति के बिना अन्य देशों को ईईजेड या महाद्वीपीय क्षेत्र में सैन्य अभ्यास या युद्धाभ्यास करने की अनुमति नहीं देते हैं खासकर ऐसे अभ्यासों में जिनमें हथियारों या विस्फोटक का उपयोग हो रहा हो।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

अमेरिकी नौसेना ने एक बयान में घोषणा की कि उसने देश की पूर्व सहमति के बिना भारत के ईईजेड के अंदर नौवहन अधिकारों और स्वतंत्रता का दावा किया है। अमेरिका के सातवें बेड़े ने 7 अप्रैल को एक बयान में कहा, “नेविगेशन ऑपरेशन की इस स्वतंत्रता ने भारत के अत्यधिक समुद्री दावों को चुनौती देते हुए अंतर्राष्ट्रीय कानून में मान्यता प्राप्त समुद्रों के अधिकारों, स्वतंत्रताओं और वैध उपयोगों को सही ठहराया।” यह ऑपरेशन 7 अप्रैल को निर्देशित-मिसाइल-विध्वंसक यूएसएस जॉन पॉल जोन्स द्वारा संचालित किया गया था, सातवें बेड़े के कमांडर द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है।

भारत की सहमति के बिना लक्षद्वीप तट के पास अमेरिकी नौसेना के नौसैनिक अभ्यास और बाद में उस अभ्यास पर बयान जारी करने से भारत में बहुत आलोचना हुई। संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ भारतीय मानदंडों के अनुसार, अमेरिकी नौसेना ने बुनियादी मानदंडों का स्पष्ट रूप से उल्लंघन किया है। यह पहली बार नहीं है जब अमेरिकी नौसेना ने भारत के विशेष आर्थिक क्षेत्र में इस तरह का ऑपरेशन किया है। अमेरिकी रक्षा विभाग ने नेविगेशन स्वतंत्रता की वार्षिक रिपोर्ट “अत्यधिक समुद्री दावों की पहचान करते हुए अमेरिकी सेना द्वारा चुनौती दी जाती है,” प्रकाशित की थी।

रक्षा विभाग के अनुसार पिछली बार अमेरिकी नौसेना ने इस तरह का ऑपरेशन वित्त वर्ष 2019 में किया था। जुलाई 2020 में अमेरिकी कांग्रेस को सौंपी एक अवर्गीकृत रिपोर्ट में, अमेरिकी नौसेना ने कहा था कि यूएस नेवी ने कहा कि उसने 1 अक्टूबर, 2018 से 30 सितंबर, 2019 की अवधि के दौरान अधिकारों, स्वतंत्रता, और अंतर्राष्ट्रीय कानून द्वारा सभी देशों के लिए संरक्षित समुद्र और हवाई क्षेत्र के उपयोग को सुनिश्चित करने के लिए हिंद महासागर क्षेत्र में एक ऑपरेशन किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.