प्रवर्तन निदेशालय द्वारा निर्वासित बिचौलिए दीपक तलवार पर जल्द आरोप-पत्र दायर

कई विमानन सौदों में एक प्रमुख व्हीलर-डीलर(चलते पुर्जा), 60 दिनों की सीमा के भीतर ईडी द्वारा दीपक तलवार का आरोप-पत्र उनकी हिरासत सुनिश्चित करेगा

0
467
प्रवर्तन निदेशालय द्वारा निर्वासित बिचौलिए दीपक तलवार पर जल्द आरोप-पत्र दायर
प्रवर्तन निदेशालय द्वारा निर्वासित बिचौलिए दीपक तलवार पर जल्द आरोप-पत्र दायर

कई भ्रष्ट संपादकों, पत्रकारों और नौकरशाहों के लिए तनाव का समय

विवादित बिचौलिए और दिल्ली में कई संपादकों और पत्रकारों को धन मुहैया कराने वाले शख्स दीपक तलवार की अलमारी से और भी कई कंकाल मिलने की उम्मीद है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को दिल्ली उच्च न्यायालय को सूचित किया कि वह 1 अप्रैल से पहले नागरिक उड्डयन और अपने थिंक टैंक गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) के माध्यम से धन एकत्रित करने से संबंधित काले धन को वैध बनाने के मामले में कथित बिचौलिए दीपक तलवार के खिलाफ आरोप पत्र दायर करेगा।

दिल्ली मीडिया में दीपक तलवार के दबदबे को देखना दिलचस्प है, जिसके देश छोड़ने पर मीडिया ने आपराधिक चुप्पी साधे रखी है। किसी ने भी तब सरकार की आलोचना नहीं की और अन्य भगोड़े लोगों के भागने पर नाराजगी जताई।

यह मीडिया गलियारों में एक ज्ञात रहस्य है कि तलवार ने एडवांटेज इंडिया नामक एक एनजीओ का निर्माण किया और 90 करोड़ रुपये से अधिक का लेन-देन किया था [1]। एक स्तर पर, इस एनजीओ को व्यवसायिक समाचारों को कवर करने वाले प्रमुख संपादकों द्वारा प्रबंधित किया गया था और एक ऐसा व्यक्ति वर्तमान में भाजपा विरोधी वेबसाइट में एक प्रमुख भागीदार है, जिसे नीरा राडिया टेप में कॉन्ट्रैक्ट हथियाने के लिए भी पकड़ा गया था।

दीपक तलवार का दबदबा

जस्टिस हिमा कोहली और विनोद गोयल की पीठ को ईडी के विशेष सरकारी वकील डी पी सिंह द्वारा बताया गया कि तलवार को 30 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था, और 60 दिन की वैधानिक अवधि समाप्त होने वाली है। यदि जांच एजेंसी अनिवार्य अवधि के भीतर आरोप-पत्र दाखिल करने में विफल रहती है, तो अभियुक्त वैधानिक जमानत का हकदार है। सवाल यह है कि ईडी को आरोप-पत्र दाखिल करने में देरी क्यों हो रही है? क्या कोई दिल्ली के सबसे पसंदीदा बिचौलिए जिसका उपयोग शीर्ष संपादकों और नौकरशाहों को खरीदने के लिए किया जाता था, के लिए जमानत सक्षम करने के लिए एजेंसी को बाध्य कर रहा है?

दिल्ली मीडिया में दीपक तलवार के दबदबे को देखना दिलचस्प है, जिसके देश छोड़ने पर मीडिया ने आपराधिक चुप्पी साधे रखी है। किसी ने भी तब सरकार की आलोचना नहीं की और अन्य भगोड़े लोगों के भागने पर नाराजगी जताई। तलवार और अगस्टा हेलिकॉप्टर घोटालेबाज राजीव सक्सेना को सरकार ने जनवरी में एक आश्चर्यजनक कदम के तहत दुबई से हटा दिया था [2]

अदालत ने गिरफ्तारी की शक्ति और सबूतों की प्रमाणिकता सहित एजेंसी की धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के विभिन्न प्रावधानों की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली तलवार की प्रार्थना पर गौर करने से इनकार कर दिया। केंद्र सरकार के स्थायी वकील अमित महाजन ने अदालत को सूचित किया कि पीएमएलए की धारा 19 (गिरफ्तारी करने की शक्ति) और 24 (सबूत प्रमाणिकता) की चुनौती शीर्ष अदालत के समक्ष विचाराधीन है।

पीठ ने उच्च न्यायालय में उनकी याचिका की लंबमानता के दौरान ट्रायल कोर्ट के समक्ष नियमित जमानत अर्जी दाखिल करने की भी तलवार को स्वतंत्रता दे दी और स्पष्ट किया कि ट्रायल कोर्ट को लंबित याचिका के साथ जमानत याचिका का फैसला करना चाहिए। ईडी ने कहा कि न्यायिक हिरासत में रहे तलवार ने विदेशी निजी एयरलाइंस का पक्ष लेने के लिए बातचीत में बिचौलिये की भूमिका निभाई, जिससे राष्ट्रीय वाहक एयर इंडिया को नुकसान हुआ।

ईडी ने पहले एक ट्रायल कोर्ट को बताया कि उसे नागरिक उड्डयन मंत्रालय, नेशनल एविएशन कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड और एयर इंडिया के अधिकारियों के नाम प्राप्त के लिए तलवार से पूछताछ करने की जरूरत है, जिन्होंने कतर एयरवेज, अमीरात और एयर अरब सहित विदेशी एयरलाइनों का पक्ष लिया था। यह एक ज्ञात रहस्य है कि 80 के दशक के मध्य में कोका कोला के जनसंपर्क एजेंट के रूप में शुरुआत करने वाले तलवार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी के भतीजे दामाद रंजना भट्टाचार्य के साथ दोस्ती का परिचय दिया और नागरिक विमानन में प्रफुल्ल पटेल के कार्यकाल के दौरान उसकी किस्मत चमक गयी।

ईडी ने कहा कि निर्वासित अभियुक्त तलवार द्वारा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रित संस्थाओं ने कतर एयरवेज, अमीरात और एयर अरबिया से अत्यधिक मात्रा में धन प्राप्त किया और 23 अप्रैल, 2008 और 6 फरवरी, 2009 के बीच प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से तलवार द्वारा स्वामित्व वाली कंपनियों द्वारा प्राप्त कुल 60.54 मिलियन अमेरिकी डॉलर का चार्ट प्रस्तुत किया। तलवार एयर एशिया के लिए भी बिचौलिया था।

संदर्भ:

[1] CBI files case against corporate lobbyist Deepak Talwar, NGO Advantage IndiaNov 18, 2017, Pioneer

[2] Nightmares started for pliable persons in the Media and Bureaucracy after the extradition of lobbyist Deepak TalwarFeb 2, 2019, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.