राम मंदिर के लिए दान की राशि 2500 करोड़ रुपये के पार। मंदिर तीन साल में बनाया जाएगा।

भारत ने राम मंदिर के निर्माण के लिए दान अभियान में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया, जो उम्मीदों से अधिक है!

0
605
भारत ने राम मंदिर के निर्माण के लिए दान अभियान में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया, जो उम्मीदों से अधिक है!
भारत ने राम मंदिर के निर्माण के लिए दान अभियान में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया, जो उम्मीदों से अधिक है!

विशाल अभियान में 175,000 टीमों में लगभग 900,000 कार्यकर्ताओं ने घर-घर जाकर लोगों से संपर्क किया!

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए किये गए दान की राशि 2500 करोड़ रुपये से अधिक होने का अनुमान है और मंदिर निर्माण तीन साल में पूरा होना है। मीडिया को संबोधित करते हुए, श्री रामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष चंपत राय ने शनिवार को कहा कि निर्माण कार्य अप्रैल से शुरू होगा और बैंकों के हालिया अनुमान के अनुसार, दान की राशि 2500 करोड़ रुपये को पार कर चुकी है और घर-घर से दान इकट्ठा करने की प्रक्रिया रोक दी गयी है और अब केवल ऑनलाइन दान को ही प्राप्त किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पूरे भारत में नामित शाखाओं में कुल बैंक जमा विवरण का इंतजार है।

राय ने कहा कि, पिछले 45 दिनों के राशि दान अभियान में 4 लाख गांवों के 10 करोड़ परिवारों से 9 लाख स्वयंसेवकों ने संपर्क किया था। वर्तमान में देश भर की बैंक शाखाओं से नियमों के तहत प्राप्त दान का विवरण 4 फरवरी तक का है।

15 जनवरी 2021 से दुनिया के सबसे बड़े अभियान के रूप में शुरू हुआ अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए यह अभियान 27 फरवरी, 2021 को पूरा हुआ, इसने भारतवर्ष को पूर्व से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक एकीकृत किया।

चार लाख घन पत्थरों का उपयोग 3 साल के भीतर निर्माण पूरा करने के लिए किया जाएगा। जबकि अभी निर्माण शुरू नहीं हुआ है, नींव के लिए भूमि में सुधार अप्रैल में शुरू होगा। 4 मार्च तक लगभग 2500 करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं, लेकिन आंकड़ों की पुष्टि नहीं की जा सकती है। हम 9 लाख स्वयंसेवकों की मदद से 10 करोड़ घरों तक पहुंचे हैं। अभियान खत्म होने का मतलब यह नहीं है कि भगवान के प्रति समर्पण खत्म हो गया है। हमारी वेबसाइट पर जाएं जिसमें बैंक खातों के सभी विवरण हैं और तदनुसार कोई भी योगदान कर सकता है।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर पूर्वी राज्यों और दक्षिणी राज्यों से बहुत सारी प्रतिक्रियाएं मिलीं। एक सवाल के जवाब में राय ने कहा कि राजस्थान से मिले दान की राशि उत्तर प्रदेश से अधिक होने की उम्मीद है। अरुणाचल प्रदेश से प्राप्त अनुमानित दान 4.5 करोड़ रुपये, इसके बाद मणिपुर से दो करोड़ रुपये मिले हैं। विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, तमिलनाडु से 85 करोड़ रुपये और केरल से 13 करोड़ रुपये का दान आया।

प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया – “15 जनवरी 2021 से दुनिया के सबसे बड़े अभियान के रूप में शुरू हुआ अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए यह अभियान 27 फरवरी, 2021 को पूरा हुआ, इसने भारतवर्ष को पूर्व से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक एकीकृत किया। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय उपाध्यक्ष और श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र (ट्रस्ट) के महासचिव श्री चंपत राय ने आज कहा कि अभियान के बाद भी भक्त, जो इस समर्पण (योगदान) अभियान से चूक गए हैं, वे अब भी श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की वेबसाइट पर जाकर दान कर सकते हैं (बैंक खाते का विवरण यहां देखा जा सकता है[1])।”

मीडिया को संबोधित करते हुए, चंपत राय ने कहा कि वे 400,000 गांवों में समर्पण के हमारे लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहे हैं। शहरी क्षेत्रों के सभी वार्डों में संपर्क किया गया। हालाँकि, जिन परिवारों से संपर्क किया गया है, उनके आंकड़े अभी आने बाकी हैं, लेकिन यह अनुमान लगाया जा रहा है कि हमने लगभग 10 करोड़ परिवारों के साथ संपर्क किया है और समाज के हर तबके और हिस्से से समर्पण (योगदान) प्राप्त हुआ है। इस अभियान के दौरान, कई ऐसे मौके भी आए जिन्होंने स्वयंसेवकों के दिलो-दिमाग को हिला दिया। कई स्थानों पर, जबकि भिखारियों ने भी अपना योगदान दिया, दिहाड़ी मजदूर और छोटे किसानों ने भी पूरी तरह से प्रार्थनाओं के साथ अपना सहयोग किया। रामभक्त मुस्लिम समाज का समर्पण भी महत्वपूर्ण है। भारत के बाहर के भक्तों से अनुरोध है कि वे थोड़ा और इंतजार करें। एफसीआरए (विदेशी योगदान [विनियमन] अधिनियम) औपचारिकताओं के पूरा होने पर उन्हें सूचित किया जाएगा।” राय ने यह भी कहा कि, “इस महीने, देश के हर जिले में अभियान का ऑडिट (लेखा परीक्षा) भी पूरा हो जाएगा”।

राय ने कहा कि इस विशाल अभियान में 175,000 टीमों में लगभग 900,000 कार्यकर्ताओं ने घर-घर (डोर-टू-डोर) जाकर लोगों से संपर्क किया। समर्पण राशि 38125 कार्यकर्ताओं के माध्यम से बैंकों में जमा की गई थी। पूरे अभियान की पारदर्शिता बनाए रखने के लिए, जबकि देश भर में 49 नियंत्रण कक्ष कार्यरत थे, दिल्ली के मुख्य केंद्र में दो चार्टर्ड एकाउंटेंटों के नेतृत्व में 23 योग्य कार्यकर्ता लगातार खातों की निगरानी के लिए पूरे तंत्र के संपर्क में थे। हैदराबाद की धनुषा इन्फोटेक कंपनी द्वारा बनाए गए ऐप ने कार्यकर्ताओं, बैंकों और ट्रस्ट के बीच डिजिटल पुल के रूप में कार्य करने के लिए एक सावधानीपूर्वक निर्मित डिजिटल तंत्र तैयार करने का एक सराहनीय काम किया।

जन्मभूमि स्थल पर चल रहे काम के बारे में अपडेट करते हुए, चंपत राय ने कहा कि नींव की खुदाई और मिट्टी को हटाने का काम लगभग 60% पूरा हो गया है और उम्मीद है कि नींव भरने का काम अप्रैल-2021 के पहले सप्ताह में शुरू हो जाएगा।

संदर्भ:

[1] Shri Ram Janmbhoomi Teerth Kshetra bank account details – Shri Ram Janmbhoomi Teerth Kshetra

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.