दिल्ली उच्च न्यायालय ने एजेएल को दो सप्ताह के भीतर हेराल्ड हाउस खाली करने का आदेश दिया। सोनिया और राहुल अधिपत्य फर्म द्वारा अधिग्रहण में उल्लंघन पाया

दिल्ली उच्च न्यायालय ने यूडीएम (शहरी विकास मंत्रालय) द्वारा हेराल्ड हाउस के निष्कासन आदेश को सहमति दी- राहुल और सोनिया की फर्म द्वारा अधिग्रहण में उल्लंघन पाया।

0
669
दिल्ली उच्च न्यायालय ने हेराल्ड हाउस के निष्कासन आदेश को सहमति दी
दिल्ली उच्च न्यायालय ने हेराल्ड हाउस के निष्कासन आदेश को सहमति दी

उच्च न्यायालय ने कहा कि एजेएल को दो सप्ताह के भीतर हेराल्ड हाउस को खाली करना होगा जिसके बाद सार्वजनिक परिसर अधिनियम, 1971 के तहत कार्यवाही शुरू की जाएगी।

सोनिया गांधी और राहुल गांधी को भारी झटके वाली कार्यवाही के तहत दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को, प्रकाशक एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) द्वारा दायर याचिका को खारिज करते हुए नेशनल हेराल्ड अखबार के मुख्यालय हेराल्ड हाउस को खाली करने का आदेश दिया। शहरी विकास मंत्रालय के भूमि और विकास कार्यालय (एल एंड डीओ) में कोई अनियमितता नहीं पाते हुए, न्यायाधीश के निर्णय में कहा गया है कि प्रकाशक, जिसने पिछले 56 वर्षों से इमारत पर कब्जा किया हुआ है, द्वारा पट्‍टा-करार में पूर्णतः उल्लंघन किया गया और यह भी कहा कि एजेएल का सोनिया गांधी और राहुल गांधी द्वारा बनाई गई नई फर्म यंग इंडियन द्वारा अधिग्रहण भी “संदिग्ध” “कार्य-प्रणाली” थी।

भाजपा नेता और याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा दायर शिकायत के आधार पर एल एंड डीओ ने 30 अक्टूबर को जब निष्कासन नोटिस जारी किया तब एजेएल ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

“बताया गया विषय परिसर’ को उसके प्रकाशन के लिए दिग्गज एजेएल को पट्टे पर दिया गया था, लेकिन प्रमुख उद्देश्य अब वास्तव में खो गया है। यह न्यायालय यह अवलोकन करने के लिए विवश है कि ‘विषय परिसर’ के प्रमुख हिस्से को किराए पर दे दिया गया है और याचिकाकर्ताओं का समाचार पत्र, जिसे मूल रूप से तहखाने और भूतल में रखा जाना था, अब शायद ही किसी पत्रकारिता गतिविधि के साथ शीर्ष मंजिल पर स्थानांतरित किया गया है” न्यायमूर्ति सुनील गौर के 17 पृष्ठ के निर्णय में कहा गया है।

“यह न्यायालय इस तथ्य से अवगत है कि यंग इंडिया कंपनी एक धर्मार्थ कंपनी है, लेकिन एजेएल के 99% शेयर प्राप्त करने के लिए अपनायी गयी कार्यप्रणाली बहुत कुछ बताती है। निर्णय में यह भी कहा गया है कि” जिस तरीके से यह किया गया है वह भी संदिग्ध है”। वर्तमान में एजेएल, जो वस्तुतः सोनिया और राहुल नियंत्रित फर्म यंग इंडियन के स्वामित्व में है, भारतीय पासपोर्ट सेवा केंद्र को दो मंजिलों को किराए पर देकर 2011 से प्रति माह लगभग Rs.80 लाख कमा रही है।

यह देखते हुए कि निष्कासन नोटिस गलत नहीं था, निर्णय में यह भी कहा गया कि याचिकाकर्ता का तर्क कि सरकार का यह कदम पंडित नेहरू की विरासत को मिटाने, भुला देने और बदनाम करने के लिए लिया गया है, बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं है। “हम यह समझने में विफल है कि सत्तारूढ़ ने किस तरह से पं. नेहरू को मिटाया, भुलाया या बदनाम किया गया… याचिकाकर्ताओं द्वारा लगाए गए दुर्भावपूर्ण आरोप खोखले और अनिर्दिष्ट हैं और इसलिए, इन आरोपों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है, ” न्यायमूर्ति के निर्णय ने कहा।

मुख्य मामले में भाजपा नेता और याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा दायर शिकायत के आधार पर एल एंड डीओ ने 30 अक्टूबर को जब निष्कासन नोटिस जारी किया तब एजेएल ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। एजेएल का प्रतिनिधित्व कांग्रेस नेता और जाने माने वकील अभिषेक सिंघवी ने किया और सरकार का प्रतिनिधित्व सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने किया। अदालत ने 22 नवंबर को एजेएल की याचिका पर अपना फैसला आरक्षित रख लिया था।

आयकर विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार, यंग इंडियन लिमिटेड में, अधिकांश शेयर (76%) गांधी परिवार और शेष श्री मोतीलाल वोरा और श्री ऑस्कर फर्नांडीस के पास हैं।

उच्च न्यायालय ने कहा कि एजेएल को दो सप्ताह के भीतर आईटीओ परिसर को खाली करना होगा जिसके बाद सार्वजनिक परिसर (अनधिकृत व्यवसायियों के संरक्षण) अधिनियम, 1971 के तहत कार्यवाही शुरू की जाएगी।

एल एंड डीओ ने पट्टे को समाप्त कर दिया – जो 2 अगस्त, 1962 को AJL के साथ किया गया था और 10 जनवरी, 1967 को सदैव के लिए बना दिया गया- कंपनी को 15 नवंबर तक कब्जा सौंपने को कहा। एल एंड डीओ के आदेश में यह भी कहा गया था कि यदि कब्जे को सौंपने में विफलता हुई तो सार्वजनिक परिसर अधिनियम के तहत कार्यवाही शुरू की जाएगी।

एजेएल ने अपनी दलील में यह भी कहा है कि 2016-17 से अंग्रेजी अखबार नेशनल हेराल्ड, हिंदी के नवजीवन और उर्दू के कौमी अवाज के डिजिटल संस्करण शुरू हो गए हैं। साप्ताहिक समाचार पत्र ‘नेशनल हेराल्ड ऑन संडे’ पिछले साल 24 सितंबर को फिर से शुरू किया गया और प्रकाशन का स्थान आईटीओ परिसर था, एजेएल ने साथ ही कहा कि हिंदी साप्ताहिक समाचार पत्र नवजीवन भी इसी परिसर से इस साल अक्टूबर से प्रकाशित हो रहा है।

बाद में शाम को, फैसले का स्वागत करते हुए, शहरी विकास मंत्रालय ने कहा कि “09 अप्रैल, 2018 को मंत्रालय के निरीक्षण दल द्वारा पाया गया कि परिसर के किसी भी मंजिल पर कोई छापाखाना प्रकार्यात्मक नहीं था और कहीं भी कोई कागज़ भण्डार नहीं पाया गया था।”

“पहले के निरीक्षणों में भी, तहखाना जहाँ छापा मशीन होनी चाहिए थी, खाली पाया गया। इसके अलावा, यह भी पाया गया कि एजेएल के लगभग सभी शेयरों को यंग इंडियन लिमिटेड को स्थानांतरित कर दिया गया था, जो कि मंत्रालय की अनुमति के बिना एजेएल का ही पता बता रहा था। आयकर विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार, यंग इंडियन लिमिटेड में, अधिकांश शेयर (76%) गांधी परिवार और शेष श्री मोतीलाल वोरा और श्री ऑस्कर फर्नांडीस के पास हैं। यह भी देखा गया कि पत्रकारिता उद्देश्य के लिए एजेएल को दी गई भूमि का उपयोग करने के बजाय, वे एक मंजिल को छोड़कर लगभग पूरी इमारत को किराए पर देकर बहुत बड़ी राशि कमा रहे हैं, जिससे वह उद्देश्य जिसके लिए मूल रूप से भूमि आवंटित की गई थी ही खंडित हो जाती है,” मंत्रालय ने अपने बयान में कहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.