चिदंबरम पिता-पुत्र शायद इतिहास की सबसे भ्रष्ट जोड़ी!

सीबीआई ने इस मामले में 65,000 ईमेल भी बरामद किए हैं जिन्हें सबूत के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा।

0
304
चिदंबरम पिता-पुत्र शायद इतिहास की सबसे भ्रष्ट जोड़ी!
चिदंबरम पिता-पुत्र शायद इतिहास की सबसे भ्रष्ट जोड़ी!

चिदंबरम परिवार के चार्टर्ड एकाउंटेंट सीबीआई हिरासत में

कांग्रेस सांसद कार्ति पी चिदंबरम शनिवार को लगातार तीसरे दिन केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के सामने चीनी वीजा घोटाले के सिलसिले में अपना बयान दर्ज कराने के लिए पेश हुए। मीडिया से बातचीत करते हुए कार्ति चिदंबरम ने कहा कि उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को सीबीआई के खिलाफ उनके गोपनीय संसदीय कागजात जब्त करने के लिए लिखा था और उनके जवाब का इंतजार कर रहे हैं।

उन्होंने अपनी पूछताछ की तुलना एक टेस्ट क्रिकेट खेल से करते हुए जांच एजेंसी पर कटाक्ष किया और इसे उत्पीड़न और राजनीतिक प्रतिशोध की ‘रणनीति‘ करार दिया।

गुरुवार को सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति से करीब छह घंटे तक पूछताछ की। अगले दिन फिर पूछताछ करीब छह घंटे तक चली।

चिदंबरम परिवार के चार्टर्ड एकाउंटेंट एस भास्कररमन वर्तमान में सीबीआई की हिरासत में हैं। उसका सामना कार्ति से होगा। सीबीआई ने अदालत से कहा था कि वह दोनों आरोपियों का सामना कराना चाहती है।

सीबीआई ने इस मामले में 65,000 ईमेल भी बरामद किए हैं जिन्हें सबूत के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक, छापेमारी के दौरान बरामद सेल्स डीड बेहद अहम है। यह बिक्री विलेख जोर बाग में खरीदी गई संपत्ति का है और पावर ऑफ अटॉर्नी भास्कररमन के नाम है जबकि संपत्ति कार्ति और उनकी मां ने खरीदी थी।

इस सिलसिले में कार्ति चिदंबरम से पूछताछ की जाएगी।

हाल ही में दर्ज एक प्राथमिकी के अनुसार, मनसा (पंजाब) स्थित एक निजी फर्म, तलवंडी साबो पॉवर लिमिटेड ने एक बिचौलिए की मदद ली और कथित तौर पर चीनी नागरिकों को समय सीमा से पहले परियोजना को पूरा करने में मदद करने के लिए वीजा जारी करने के लिए 50 लाख रुपये की रिश्वत का लेनदेन किया।

सीबीआई अधिकारी ने कहा, “मनसा (पंजाब) स्थित निजी फर्म 1,980 मेगावाट थर्मल पावर प्लांट स्थापित करने की प्रक्रिया में थी और संयंत्र की स्थापना एक चीनी कंपनी को आउटसोर्स की गई थी। परियोजना अपने समय से पीछे चल रही है। देरी के लिए दंडात्मक कार्रवाई से बचने के लिए, उक्त निजी कंपनी अधिक से अधिक चीनी व्यक्तियों, पेशेवरों को जिला मनसा (पंजाब) में अपनी साइट के लिए लाने की कोशिश कर रही थी और गृह मंत्रालय द्वारा लगाई गई सीमा से ऊपर परियोजना वीजा की आवश्यकता थी।”

अधिकारी ने कहा कि इस उद्देश्य के लिए, उक्त निजी कंपनी के प्रतिनिधि ने अपने करीबी सहयोगी के माध्यम से चेन्नई स्थित एक व्यक्ति से संपर्क किया और उसके बाद उन्होंने सीलिंग के उद्देश्य को विफल करने के लिए एक बैक-डोर रास्ता तैयार किया।

उसी के अनुसरण में, मनसा स्थित निजी कंपनी के उक्त प्रतिनिधि ने गृह मंत्रालय को एक पत्र प्रस्तुत कर इस कंपनी को आवंटित परियोजना वीजा के पुन: उपयोग के लिए अनुमोदन की मांग की, जिसे एक महीने के भीतर अनुमोदित किया गया और कंपनी को अनुमति जारी की गई।

यह आरोप लगाया गया है कि कार्ति के पिता पी. चिदंबरम ने कथित तौर पर नियमों की धज्जियां उड़ाकर चीनियों को वीजा दिलाने में मदद की।

सीबीआई अधिकारियों ने कहा कि वे मामले की जांच कर रहे हैं।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.