ब्लूम्सबरी द्वारा पुस्तक – ‘दिल्ली दंगे 2020 – द अनटोल्ड स्टोरी’ को हटाना, वामपंथी माफिया द्वारा चलाए जा रहे भारतीय पुस्तक प्रकाशन उद्योग के अंडरवर्ल्ड को उजागर करता है

ब्लूम्सबरी द्वारा 'दिल्ली दंगे 2020 - द अनटोल्ड स्टोरी' को प्रचारित करके अंतिम समय पर रद्द करने का प्रस्ताव कौन उठा रहा है?

0
393
ब्लूम्सबरी द्वारा 'दिल्ली दंगे 2020 - द अनटोल्ड स्टोरी' को प्रचारित करके अंतिम समय पर रद्द करने का प्रस्ताव कौन उठा रहा है?
ब्लूम्सबरी द्वारा 'दिल्ली दंगे 2020 - द अनटोल्ड स्टोरी' को प्रचारित करके अंतिम समय पर रद्द करने का प्रस्ताव कौन उठा रहा है?

मैं काफी समय से यह मुद्दा उठा रहा हूं कि भारतीय पुस्तक-प्रकाशन उद्योग एक गुट या वामपंथी झुकाव वाले सत्ताधीशों से भरे गिरोह द्वारा चलाया जा रहा है। 2017 में मेरी पहली पुस्तक ‘एनडीटीवी फ्रॉड्स‘ के प्रकाशन और वितरण में मेरे अनुभव ने मुझे सिखाया कि ये निरंकुश मानसिकता वाले वामपंथी कितने भ्रष्ट हैं। शनिवार को दिल्ली की एक प्रसिद्ध कंपनी ब्लूम्सबरी द्वारा पुस्तक ‘दिल्ली दंगे 2020 – द अनटोल्ड स्टोरी‘ को वापस लेने या स्पंदन करने की घटना भारत के पुस्तक प्रकाशन उद्योग के अंडरवर्ल्ड को उजागर करती है। पुस्तक – ‘दिल्ली दंगे 2020 – द अनटोल्ड स्टोरी’ प्रसिद्ध वकील मोनिका अरोरा, सोनाली चितलकर और प्रेरणा मल्होत्रा द्वारा लिखी गई है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता कपिल मिश्रा पर पुस्तक के विमोचन में भाग लेने का आरोप लगाते हुए वामपंथी गुट ने शुक्रवार को विवाद खड़ा कर दिया। पहले प्रकाशक की ओर से एक दुर्बल बयान आता है कि वे विमोचन से संबंधित नहीं हैं। विमोचन से कुछ घंटे पहले, शनिवार की दोपहर तक, प्रकाशक ब्लूम्सबरी ने किताब को वापस लेने या स्पंदन की घोषणा की। दोहरे चरित्र को देखिये। कुछ हफ़्ते पहले, यही प्रकाशक ब्लूम्सबरी शाहीन बाग विरोध पर एक किताब के साथ आया था, एक सैद्धांतिक तरीके से विरोध की प्रशंसा करता हुआ। अब हम जानते हैं कि इस पुस्तक-प्रकाशन कंपनी में किसका आदेश चल रहा है।

कांग्रेस के शासनकाल के दौरान, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले का आरोप लगाते हुए बिल्कुल फर्जी किताब जारी की गई थी।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता – किसके लिए?

वामपंथी मंडली जो बिना समय गवाए ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ के लिए चिल्लाती है, लेकिन जब कोई इनकी विचारधारा या तर्क के खिलाफ बोलता है तो ये भ्रष्ट तरीके अपना लेते हैं। गृह मंत्रालय के पूर्व अधिकारी आरवीएस मणि की किताब ‘द मिथ ऑफ हिंदू टेरर’ को प्रकाशित होने के लिए सभी बाधाओं का सामना करना पड़ा। अपने व्यक्तिगत अनुभव से, मैं भारत के पुस्तक प्रकाशन उद्योग के भीतर इन वाम पारिस्थितिकी तंत्रों द्वारा अमल में लाये गए सभी बाधाओं से अवगत हूं। ‘एनडीटीवी फ्रॉड्स’ चेन्नई स्थित रेअर पब्लिकेशंस द्वारा प्रकाशित की गयी थी। सभी बाधाओं को पार करते हुए इस पुस्तक के प्रकाशित होने के बाद, पुस्तक-प्रकाशन उद्योग के वितरण तंत्र में माफिया की तरह की प्रणाली ने जगह ले ली और कई बाधाओं को रास्ते में पैदा किया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

कांग्रेस की भूमिका

कांग्रेस के शासनकाल के दौरान, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले का आरोप लगाते हुए बिल्कुल फर्जी किताब जारी की गई थी। और वाम तंत्र ने इसका स्वागत किया।

अमेज़न और फ्लिपकार्ट ने इसे बदल दिया है

तकनीकी रूप से ई-बुक्स के प्रवेश की वजह से अमेज़न और अन्य नेटवर्क के ऑनलाइन तंत्र के कारण, अब वितरण तंत्र में ठग ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं। लेकिन वितरण तंत्र में गंदी चालें अभी भी चली जा रही हैं, जो किताबों की दुकानों में पुस्तकों के प्रवेश को रोकती हैं। अपने अनुभव से, मैं यह गवाही दे सकता हूं कि भारतीय पुस्तक प्रकाशन उद्योग में वाम मंडली द्वारा संचालित एक अंडरवर्ल्ड है। किस किताब को बढ़ावा देना है और किसको नहीं प्रचारित करना है, यह तय करने में अधिकांश वाम मंडली ही पुस्तक समारोह के पीछे हैं। अब बीजेपी की जीत के साथ 2014 के बाद, साहित्यिक समारोहों में वैकल्पिक और विपरीत विचार भी सामने आने लगे हैं। पहले यह पूरी तरह से वामपंथी बाहुल्य था और साहित्यिक समारोह कॉमरेडों के अड्डे के अलावा कुछ भी नहीं था।

मुझे यकीन है कि प्रख्यात वकील मोनिका अरोड़ा अन्य साहसी प्रकाशकों को ढूंढेगी और उनके कानूनी ज्ञान का इस्तेमाल ‘दिल्ली दंगे 2020 – द अनटोल्ड स्टोरी’ के विमोचन से कुछ घंटे पहले एकतरफा कार्रवाई से प्रकाशक ब्लूम्सबरी को सबक सिखाने के लिए किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.